विश्‍व हीमोफीलिया दिवस

17 अप्रैल को विश्‍व हीमोफीलिया दिवस (World Hemophilia Day) मनाया जाता है। 30वें विश्व हीमोफीलिया दिवस 2020 का थीम है “Get + Involved” है। हीमोफीलिया एक अनुवांशिक रक्त बीमारी है जिसमें रक्त का थक्का नहीं जमता है। यदि हीमोफीलिया रोगी के रक्त में थक्का जमाने वाले फैक्टर 8 की कमी हो तो इसे हीमोफीलिया ए कहते है। यदि रक्त में थक्का जमाने वाले फैक्टर 9 की कमी हो तो इसे हीमोफीलिया बी कहते है। इस प्रकार मरीज को जिस फैक्टर की कमी होती है वह इंजेक्शन के जरिये उसकी नस में दिया जाता है। इससे रक्तस्राव रुक सके यही हीमोफीलिया की एक मात्र औषधि है। रक्त जमाने वाले फैक्टर अत्यधिक महंगे होने के कारण अधिकांश मरीज इलाज से वंचित रह जाते हैं।
हीमोफीलिया से ग्रस्त व्यक्तियों को सही समय पर इंजेक्शन लेना, नित्य आवश्यक व्यायाम करना, रक्त संचारित रोग (एचआईवी, हीपाटाइटिस बी व सी आदि) से बचाव जरूरी है। बच्चों में उनके माता-पिता से पहुंचती है। विश्व हीमोफीलिया दिवस की शुरुआत वर्ल्ड फेडरेशन ऑफ हीमोफीलिया द्वारा 1989 और 17 अप्रैल को की गई थी, इसे वर्ल्ड फेडरेशन हीमोफीलिया (WFH) के संस्थापक फ्रैंक श्नाबेल (Frank Schnabel’s) के जन्मदिन के सम्मान में मनाने के लिए चुना गया था।

Related Posts

Leave a Reply