कोरोना संकट पर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) का स्वतंत्र पैनल

चर्चा में क्यों?

  • विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोरोना से निपटने के उसके तौर-तरीक़ों और सरकारों की प्रतिक्रिया की समीक्षा के लिए एक स्वतंत्र समिति का गठन किया है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की प्रतिक्रिया के बाद यह पैनल गठित किया है जिन्‍होंने कोरोना को लेकर संगठन की कड़ी आलोचना की थी और संगठन पर चीन की कठपुतली की तरह काम करने का आरोप लगाया था।
  • न्यूज़ीलैंड की पूर्व प्रधानमंत्री हेलेन क्लार्क और लाइबेरिया के पूर्व राष्ट्रपति एलेन जॉनसन सरलीफ इस समिति के संयुक्त अध्यक्ष होंगी और अन्य सदस्यों का चयन करेंगी।
  • यह समिति नवम्बर 2020 में स्वास्थ्य मंत्रियों की वार्षिक बैठक में अपनी अंतरिम रिपोर्ट पेश करेगी। अगले वर्ष मई में, समिति अपनी अंतिम रिपोर्ट प्रस्तुत करेगी।
  • संगठन के महानिदेशक टेड्रॉस एढेनॉम ग़ेब्रेसस ने कहा है कि इस महामारी का व्यापक मूल्यांकन किया जाना ज़रुरी है।
  • उल्लेखनीय है कि कोरोना वायरस से दुनिया भर में एक करोड़ 20 लाख से ज़्यादा लोग संक्रमित हुए हैं और 5 लाख 48 हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौत हो चुकी है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के बारे में महत्वपूर्ण तथ्य

  • स्वास्थ्य क्षेत्र के लिये संयुक्त राष्ट्र की विशेष एजेंसी ‘विश्व स्वास्थ्य संगठन’ (World Health Organization-WHO) की स्थापना 7 अप्रैल 1948 में हुई थी।
  • इसके स्थापना दिवस को हर साल विश्व स्वास्थ्य दिवस के तौर पर मनाया जाता है।
  • इसका मुख्यालय जिनेवा, स्विट्ज़रलैंड में स्थित है।
  • डब्ल्यूएचओ वर्ल्ड हेल्थ रिपोर्ट जारी करता है।

Related Posts

Leave a Reply