चर्चा में क्यों?

  • उद्योग एवं आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग के आर्थिक सलाहकार के कार्यालय ने जून, 2020 (अनंतिम) और अप्रैल 2020 (अंतिम) के लिए थोक मूल्य सूचकांक (Wholesale Price Index (WPI) जारी किया है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • थोक मूल्य सूचकांक (WPI) के अनंतिम आंकड़े देश भर में चयनित विनिर्माण इकाइयों से प्राप्त आंकड़ों के साथ संकलित किए जाते हैं और हर महीने की 14 तारीख (या अगले कार्य दिवस) को जारी किए जाते हैं।
  • वार्षिक थोक मूल्‍य सूचकांक (WPI) पर आधारित मुद्रास्‍फीति की वार्षिक दर जून, 2020 के दौरान (जून, 2019 की तुलना में) -1.81% प्रतिशत (अनंतिम) रही, जबकि इससे पिछले साल इसी महीने यह 2.02% प्रतिशत थी।

थोकमूल्य सूचकांक (Wholesale Price Index-WPI)

  • यह भारत में सबसे अधिक प्रयोग किया जाने वाला मुद्रास्फीति इंडेक्स है।
  • इसे वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय (Ministry of Commerce and Industry) के आर्थिक सलाहकार (Office of Economic Adviser) के कार्यालय द्वारा प्रकाशित किया जाता है।
  • इसमें घरेलू बाज़ार में थोक बिक्री के पहले बिंदु किये जाने-वाले (First point of bulk sale) सभी लेन-देन शामिल होते हैं।
  • इस सूचकांक की सबसे प्रमुख आलोचना यह है कि आम जनता थोक मूल्य पर उत्पाद नहीं खरीदती है।
  • वर्ष 2017 में इसका आधार वर्ष 2011-12 कर दिया गया है।

Related Posts

Leave a Reply