तुर्कमेनिस्तान ने लगाया कोरोनावायरस शब्द पर प्रतिबंध

कोरोनावायरस से आज पूरी दुनिया लड़ रही है। कई देश बर्बादी की कगार पर खड़े हो गए हैं। ऐसे समय एक देश ऐसा भी है जहां कोरोनावायरस शब्द पर ही बैन लगा दिया गया है। इस देश का नाम तुर्कमेनिस्तान है जो मध्य एशिया में ईरान से सटा हुआ है। यहां कोरोना बोलने और लिखने वालों पर कार्रवाई होती है।सरकार ने मास्क पहनने पर भी बैन लगाया हुआ है। इसका उल्लंघन करने पर जेल हो सकती है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक तुर्कमेनिस्तान की मीडिया भी महामारी के लिए इस शब्द का प्रयोग नहीं कर सकती है। स्वास्थ्य मंत्रालय संक्रमण ने स्कूलों, कार्यालयों और सार्वजनिक स्थलों में ब्रोशर वितरित किया गया है। इसमें कहीं भी कोरोना शब्द का प्रयोग नहीं हुआ। तुर्कमेनिस्तान के राष्ट्रपति गुरबांगुली बेयरडेमुकामेडॉव ने कोरोना शब्द पर बैन लगाया है। हालांकि अभी यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि आखिर क्यों कोरोना शब्द पर बैन लगाया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक यहां कोरोना की चर्चा करने पर लोगों के खिलाफ पुलिस कार्रवाई कर रही है।
तुर्कमेनिस्तान
तुर्कमेनिस्तान (Turkmenistan) मध्य एशिया में स्थित है। 1991 तक तुर्कमेन सोवियत समाजवादी गणराज्य के रुप में यह देश सोवियत संघ का एक घटक गणतंत्र था।
इस देश की सीमाएँ दक्षिण पूर्व में अफ़ग़ानिस्तान, दक्षिण पश्चिम में ईरान, उत्तर पूर्व में उज़्बेकिस्तान, उत्तर पश्चिम में कज़ाकिस्तान और पश्चिम में कैस्पियन सागर से मिलती है।तुर्कमेनिस्तान नाम फ़ारसी से आया है, जिसका अर्थ है- ‘तुर्कों की भूमि’।
‘अश्गाबात’ तुर्कमेनिस्तान की राजधानी है।
45

Related Posts

Leave a Reply