टोक्यो ओलंपिक की नई तिथियां घोषित

कोरोनावायरस महामारी के कारण स्थगित किए गए टोक्यो ओलंपिक खेल 2020 अब 2021 में 23 जुलाई से 8 अगस्त के बीच आयोजित किए जाएंगे। पहले इनका आयोजन इस साल 24 जुलाई से नौ अगस्त तक होना था। टोक्यो ओलंपिक खेल आयोजन समिति के प्रमुख योशिरो मोरी ने इसकी घोषणा की। जापान आधिकारिक तौर पर ओलंपिक की मेजबानी पर 12.6 अरब डॉलर (948 अरब रुपये) खर्च कर रहा है।
टोक्यो ओलंपिक 1940 भी हुआ था स्थगित
साल 1940 के ओलंपिक का आयोजन टोक्यो में किया जाना था और जापान इसको लेकर पूरी तरह से तैयार भी था। 1932 में जापान को इसकी मेजबानी सौंपी गई थी। 21 सितंबर से 6 अक्टूबर के बीच इसका आयोजन किया जाना था। टूर्नामेंट के आयोजन से ठीक एक साल पहले 1939 में दूसरा विश्व कप युद्ध आरंभ हुआ जो 1945 तक चला और टोक्यो ओलंपिक को इसकी वजह से रद्द करना पड़ गया।लेकिन 1964 में टोक्यो ओलंपिक की मेजबानी करने वाला पहला एशियाई देश बना।
ये ओलंपिक खेल भी हुए रद्द
बर्लिन 1916 : स्टॉकहोम में चार जुलाई 1912 को छठे ओलंपिक खेलों की मेजबानी बर्लिन को सौंपी गई। जर्मन ओलंपिक समिति ने युद्धस्तर पर तैयारी की। जून में बर्लिन स्टेडियम में टेस्ट स्पर्धाएं भी आयोजित हुई। दूसरे दिन ऑस्टिया के आर्कड्यूक फ्रेंक फर्डिनेंड और उनकी पत्नी की हत्या कर दी गई। इसके बाद के घटनाक्रम प्रथम विश्व युद्ध का कारण बने। बर्लिन ओलंपिक खेल नहीं हो सके।
लंदन 1944 : लंदन ने रोम, डेट्राइट, लुसाने और एथेंस को पछाड़कर मेजबानी हासिल की, लेकिन तीन महीने बाद ही ब्रिटेन ने जर्मनी के खिलाफ जंग का एलान कर दिया। ये खेल हुए ही नहीं और इटली में शीतकालीन खेल भी रद हो गए। लंदन ने 1948 में खेलों की मेजबानी की जिसमें जापान और जर्मनी ने भाग नहीं लिया।
अंतर्राष्ट्रीय ओलिंपिक समिति
यह एक गैर-सरकारी खेल संस्था है, इसका मुख्यालय स्विट्ज़रलैंड के लौसेन में स्थित है। इसकी स्थापना पिएरे डी कोउबेर्तिन तथा देमेत्रिउस विकेलास ने 23 जून, 1894 को फ्रांस के पेरिस में की गयी थी। यह संस्था ग्रीष्मकालीन तथा शीतकालीन ओलिंपिक खेलों का आयोजन करती है। अंतर्राष्ट्रीय ओलिंपिक समिति में 206 राष्ट्रीय ओलिंपिक समितियां सदस्य के रूप से शामिल हैं। इसके मौजूदा अध्यक्ष जर्मनी के थॉमस बाक हैं।

Related Posts

Leave a Reply