दोहा एशियाई चैंपियनशिप में सर्वश्रेष्ठ निजी प्रदर्शन के साथ 800 मीटर रेस का स्वर्ण पदक जीतने वाली एथलीट  गोमती मारीमुथु (Gomathi Marimuthu) का स्वर्ण पदक डोपिंग के कारण छीन लिया गया है। उन्हें इस स्पर्धा में प्रतिबंधित ड्रग एनाबॉलिक स्टेरॉयड नेड्रोलोन (Anabolic Steroid Nandrolone) के सेवन का दोषी पाया गया है।

नेड्रोलोन एक स्टेरॉयड है जिसे 19-नॉर्टेस्टोस्टेरोन (19-nortestosterone) के रूप में भी जाना जाता है, इसका मेडिकल उपयोग एनीमिया, ऑस्टियोपोरोसिस, कैशेक्सिया, स्तन कैंसर, आदि के उपचार में किया जाता है। जबकि  गैर मेडिकल उपयोग प्रतिस्पर्धी एथलीटों, बॉडीबिल्डर्स और पॉवरलिफ्टर्स द्वारा प्रदर्शन बढ़ाने वाले उद्देश्यों के लिए किया जाता है।

इसके साथ ही वर्ल्ड एथलेटिक्स (World Athletics) की एथलेटिक्स इंटिग्रिटी यूनिट (Athletics Integrity Unit,AIU) ने उन पर चार साल का प्रतिबंध लगा दिया है।

उन पर एक हजार पाउंड करीब एक लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है। जो उन्हें एआईयू को जुर्माने के रूप में देने होंगे।

गोमती अपने बचाव में सैंपलों के साथ की गई छेड़छाड़ की बात को साबित नहीं कर पाईं।

उन पर यह प्रतिबंध अस्थाई प्रतिबंध की तिथि 17 मई 2019 से लगाया गया है, जो 16 मई 2023 को समाप्त होगा।

वर्ल्ड एथलेटिक्स (World Athletics)
स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम में 17 जुलाई 1912 को ओलंपिक खेलों के समापन समारोह के बाद ट्रैक एंड फील्ड एथलेटिक्स खेलों के विश्व शासी निकाय के रूप में अंतर्राष्ट्रीय एमेच्योर एथलेटिक महासंघ (IAAF) को  के लिए स्थापित किया गया था।
2001 में इसका नाम बदलकर इंटरनेशनल एसोसिएशन ऑफ एथलेटिक्स फेडरेशन्स और फिर 2019 में ‘वर्ल्ड एथलेटिक्स’ कर दिया गया। इसका मुख्यालय मोनाको में स्थित है। इसके वर्तमान अध्यक्ष सेबेस्टियन को हैं।

एथलेटिक्स इंटिग्रिटी यूनिट के अध्यक्ष ब्रेट क्लॉथियर (Brett Clothier) हैं, इसका मुख्यालय भी मोनाको में ही स्थित है।