ग्लोबल एजुकेशन मॉनिटरिंग रिपोर्ट- 2020

चर्चा में क्यों?

  • यूनाइटेड नेशन एजुकेशनल साइंटिफिक एंड कल्चर ऑर्गेनाइजेशन (UNESCO) ने हाल ही में अपनी ग्लोबल एजुकेशन मॉनिटरिंग रिपोर्ट 2020 ( Global Education Monitoring Report (GEM Report) जारी की।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • इस रिपोर्ट में अलग-अलग देशों के पाठ्यक्रम में महिलाओं की भूमिका के बारे में बताया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक किताबों में महिलाओं को जहां भी शामिल किया गया है, उन्हें पारंपरिक और पुरुषों की तुलना में कम प्रभावी या दब्बू दिखाया जाता है।
  • वार्षिक रिपोर्ट के इस चौथे संस्करण के मुताबिक महिलाओं को किताबों में कम प्रतिष्ठित पेशे वाला दर्शाया गया है। इतना ही नहीं इन पेशों में काम करने वाली महिलाओं के स्वभाव को भी अंतर्मुखी और दब्बू बताया।
  • इस बात को समझाने के लिए यूनेस्को ने उदाहरण के लिए बताया कि किताबों में एक ओर जहां पुरुषों को डॉक्टर दिखाया जाता है, तो वहीं महिलाओं की भूमिका एक नर्स के रूप में दर्शायी जाती है।
  • रिपोर्ट में महाराष्ट्र के ‘महाराष्ट्र स्टेट ब्यूरो ऑफ टेक्सबुक प्रोडक्शन एंड करिकुलम रिसर्च’ द्वारा 2019 में लैंगिक रूढ़िवादी को हटाने के लिए किताबों में छवि में हुए सुधार के बारे भी बताया गया है।
  • इसमें  दूसरी कक्षा के पुस्तक में महिला और पुरुष घर के काम करते दिख रहे हैं एक ओर जहां महिला डॉक्टर तो वहीं पुरुष की तस्वीर शैफ के रूप में दिखाई गई थी।

क्या है ग्लोबल एजुकेशन मॉनिटरिंग रिपोर्ट?

  • ग्लोबल एजुकेशन मॉनिटरिंग रिपोर्ट, एक स्वतंत्र टीम द्वारा तैयार की जाती है, जिसे बाद में यूनेस्को जारी करता है।
  • यह रिपोर्ट शिक्षा के क्षेत्र में हुए लगातार विकास और इससे जुड़े प्रयासों के अध्ययन पर आधारित होती है।
  • हाल में जारी हुई इस रिपोर्ट में इटली, स्पेन, बांग्लादेश, पाकिस्तान, मलेशिया, इंडोनेशिया, कोरिया, अमेरिका, चिल्ली, मोरक्को, तुर्की और युगांडा की पाठ्यपुस्तकों में महिलाओं के साथ जुड़ी इन रूढ़ियों का उल्लेख किया गया है।

यूनेस्को

  • यूनेस्को (UNESCO) ‘संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक एवं सांस्कृतिक संगठन (United Nations Educational, Scientific and Cultural Organization)’ संयुक्त राष्ट्र की एक विशिष्ट एजेंसी है।
  • इसका कार्य विश्व में शिक्षा, प्रकृति तथा समाज विज्ञान, संस्कृति और संचार के माध्यम से अंतर्राष्ट्रीय शांति को बढ़ावा देना है।
  • इसका उद्देश्य शिक्षा एवं संस्कृति के अंतर्राष्ट्रीय सहयोग से शांति एवं सुरक्षा की स्थापना करना है, ताकि संयुक्त राष्ट्र के चार्टर में वर्णित न्याय, कानून का राज, मानवाधिकार एवं मौलिक स्वतंत्रता हेतु वैश्विक सहमति बन पाए।
  • मुख्यालय-पेरिस (फ्राँस)
  • गठन – 16 नवंबर, 1945
  • यूनेस्को की वर्तामान महानिदेशक फ्रांस की ऑड्रे अज़ोले हैं।

Related Posts

Leave a Reply