Follow Us On

Daily Current Affairs: September 1, 2021

पुरस्कार/सम्मान

मैग्सेसे पुरस्कार-2021

चर्चा में क्यों?

  • एशिया का नोबेल पुरस्कार कहे जाने वाले रेमन मैग्सेसे पुरस्कारों (Ramon Magsaysay Award ) की 31 अगस्त 2021 को घोषणा कर दी गई है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • पुरस्कार विजेता पांच लोगों में बांग्लादेश की वैक्सीन विज्ञानी डा. फिरदौसी कादरी और पाकिस्तान के माइक्रो फाइनेंसर मुहम्मद अमजद साकिब भी शामिल हैं।
  • इनके अलावा पुरस्कार विजेताओं में फिलीपींस के पर्यावरणविद राबर्टो बैलन, मानवीय कार्यों के लिए अमेरिका के स्टीवन मुन्सी और खोजी पत्रकारिता के लिए इंडोनेशिया के वाचडाक शामिल हैं।
  • 70 वर्षीय डा. फिरदौसी कादरी को वयस्कों, बच्चों और शिशुओं के लिए किफायती कालरा वैक्सीन और टाइफाइड वैक्सीन विकसित करने का श्रेय दिया जाता है।
  • 64 वर्षीय साकिब ने अपनी तरह का पहला ब्याज और गिरवी मुक्त माइक्रोफाइनेंस कार्यक्रम अखूवत विकसित किया है। इसमें ब्याज मुक्त कर्ज देने के लिए इबादत के स्थान का इस्तेमाल किया जाता है। इसके पुनर्भुगतान की दर 99.9 फीसद है।
  • 64 वर्षीय स्टीवन मुन्सी को मनुष्य की अच्छाई में अटूट विश्वास के लिए जाना जाता है।
  • 53 वर्षीय राबर्टो बैलन को खत्म हो रहे मत्स्य उद्योग में जान डालने का श्रेय दिया जाता है।
  • वाचडाक को इंडोनेशिया के मीडिया जगत में आमूलचूल बदलाव लाने के लिए जाना जाता है।
  • मनीला के रेमन मैग्सेसे केंद्र में 28 नवंबर को होने वाले समारोह के दौरान इन विजेताओं को औपचारिक रूप से पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा।

रेमन मैग्सेसे पुरस्कार

  • रेमन मैग्सेसे पुरस्कार की स्थापना अप्रैल 1957 में हुई थी। यह पुरस्कार फिलीपींस के पूर्व राष्ट्रपति रेमन मैग्सेसे की स्मृति में दिया जाता है।
  • रेमन मैग्सेसे पुरस्कार एशिया का प्रमुख पुरस्कार और सर्वोच्च सम्मान माना जाता है।
  • पुरस्कार की घोषणा 31 अगस्त को रेमन मैग्सेसे की जयंती के दिन मनीला, फिलीपींस में औपचारिक समारोहों में की जाती है।
  • रेमन मैग्सेसे के आदर्शों के आधार पर ही इस पुरस्कार की स्थापना 6 श्रेणियों में की गयी थी लेकिन वर्ष 2009 से, द रेमन मैगसेसे पुरस्कार फाउंडेशन ने श्रेणियों में पुरस्कार देने के नियम को बंद कर दिया है और अब अन्य श्रेणियों में भी यह पुरस्कार दिया जाता है।
  • प्रथम भारतीय मैग्सेसे पुरस्कार विजेता सर्वोदय और भूदान आंदोलन के नेता संत विनोबा भावे को 1958 में कम्यूनिटी लीडरशिप के लिए जबकि नवीनतम पुरस्कार 2019 में पत्रकार रवीश कुमार को दिया गया है।

……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………….

चर्चित व्यक्तित्व

भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद

चर्चा में क्यों?

  • भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद की 125वीं जयंती के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 1 सितंबर 2021 को 125 रुपए का विशेष स्मारक सिक्का जारी किया।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • स्वामी प्रभुपाद ने इस्कॉन की स्थापना की थी। इसे सामान्य तौर पर हरे कृष्ण आंदोलन के तौर पर जाना जाता है। इस्कॉन ने गीता जैसे वैदिक साहित्य का दुनिया भर में प्रचार-प्रसार किया। साथ ही इनका 89 भाषाओं में अनुवाद भी कराया।स्वामी प्रभुपाद ने 100 से ज्यादा मंदिरों की स्थापना की और दुनिया को भक्ति योग का मार्ग दिखाने वाली कई किताबें लिखीं।

स्थापना के 11 साल बाद ही कई देशों में फैला इस्कॉन आंदोलन

  • इस्कॉन ब्रह्म माधव गौड़ीय वैष्णव संप्रदाय का एक हिस्सा है, जो चार वैष्णव संप्रदायों में से एक है।
  • इस्कॉन के उपदेशों और प्रथाओं को चैतन्य महाप्रभु (1486-1532) ने उनके भाई नित्यानंद प्रभु और उनके छह सहयोगियों के साथ सिखाया था।
  • इस्कॉन आंदोलन की स्थापना के बाद केवल 11 सालों में पूरी दुनिया के कई देशों में फैल गया।

……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

अंतर्राष्ट्रीय परिदृश्य

श्रीलंका में खाद्य आपातकाल

चर्चा में क्यों?

  • श्रीलंका ने खाद्य संकट को लेकर आपातकाल घोषित किया है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • सरकार पहले से ही कई चीजों के आयात पर रोक लगा चुकी है तो लोग श्रीलंका में खाने-पीने की जीचों का स्टॉक कर रहे हैं।
  • राष्ट्रपति गोटाबया राजपक्षे ने चीनी, चावल और अन्य आवश्यक खाद्य पदार्थों की जमाखोरी रोकने के लिए नए नियम लागू करने का निर्देश दिया है।
  • श्रीलंका विदेशी मुद्रा भंडार में तेजी से कमी के चलते कृषि रसायनों, कारों और अपने मुख्य मसाले हल्दी के आयात में पहले ही कटौती कर चुका है।
  • कोरोना वायरस महामारी से उबरने के लिए संघर्ष के बीच श्रीलंका अपने भारी कर्ज को चुकाने के लिए संघर्ष कर रहा है।
  • श्रीलंका ने व्यापार घाटे को कम करने के लिए टूथब्रश, स्ट्रॉबेरी, सिरका, वेट वाइप्स और चीनी सहित सैकड़ों विदेश से आने वाले सामानों को प्रतिबंधित कर दिया है या विशेष लाइसेंसिंग व्यवस्था भी लागू कर रखी है।

क्यों हुई ऐसी स्थिति?

  • दरअसल श्रीलंका की आय का प्रमुख श्रोत पर्यटन उद्योग है लेकिन कोरोना महामारी के दौरान पर्यटन उद्योग गहरी मंदी में आ गया।
  • श्रीलंका में यह क्षेत्र आमतौर पर 30 लाख से अधिक लोगों को रोजगार देता है और जीडीपी में इसकी हिस्सेदारी पांच प्रतिशत से अधिक है।
  • पर्यटन उद्योग ठप होने से श्रीलंका ने भारी मात्रा में विदेशी ऋण भी ले रखा है जिसे चुकाने में अर्थव्यवस्था बदहाली के दौर से गुजर रही है।

……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

खेल परिदृश्य

टोक्यो पैरालंपिक में मिले दो और पदक

चर्चा में क्यों?

  • टोक्यो पैरालंपिक 2020 में भारत के खिलाड़ियों ने दो और पदक जीते हैं।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • मरियप्पन थंगावेलु ने सिल्वर और मुजफ्फरपुर के मोतीपुर के रहने वाले शरद कुमार ने ब्रॉन्ज जीता है।
  • पुरुषों की ऊंची कूद के टी-63 स्पर्धा में मरियप्पन थंगवेलु और शरद कुमार ने पदक जीते।
  • मरियप्पन ने 1.86 मीटर की अपनी सबसे ऊंची छलांग लगाई। वहीं, शरद ने 1.83 मीटर की छलांग लगाई।
  • अमेरिका के सैम ग्रेवे ने 1.88 मीटर की छलांग के साथ गोल्ड मेडल अपने नाम किया।
  • अब तक भारत टोक्यो पैरालंपिक में 10 पदक जीत लिए हैं।
  • भारत ने पहली बार किसी पैरालिंपिक या ओलिंपिक में 10 मेडल जीते हैं।
  • थंगावेलु मरियप्पन ने 2016 रियो पैरालिंपिक में गोल्ड मेडल जीता था।

 

कुश्ती को गोद लेगी उत्तर प्रदेश सरकार

चर्चा में क्यों?

  • भारतीय कुश्ती को व्यापक स्तर पर बढ़ावा देने के लिये उत्तर प्रदेश सरकार ने इस खेल को वर्ष 2032 तक गोद लेने का निर्णय लिया है।
  • इसके तहत उत्तर प्रदेश सरकार पहलवानों को बुनियादी अवसंरचना प्रदान करने तथा ओलिंपिक तक पहुँचने में खिलाड़ियों का समर्थन करने हेतु 170 करोड़ रुपए का निवेश करेगी।
  • इससे पूर्व ओडीशा सरकार ने हॉकी के खेल का समर्थन किया था, जिसके बेहतर परिणाम देखने को मिले हैं।
  • इस समझौते के माध्यम से देश भर में कुश्ती खिलाड़ियों को बेहतर सुविधाएँ प्रदान की जा सकेंगी और उन्हें बेहतर प्रशिक्षण के लिये विदेश भी भेजा जा सकेगा। साथ ही कैडेट और जूनियर पहलवानों के प्रशिक्षण पर भी निवेश किया जा सकेगा।

……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

राष्ट्रीय परिदृश्य

सर्वोच्च न्यायालय में एक साथ 9 न्यायाधीशों की नियुक्ति

चर्चा में क्यों?

  • देश के प्रधान न्यायाधीश जस्टिस एनवी रमणा ने 31 अगस्त 2021 को 9 नए न्यायाधीशों को शपथ दिलवाई है। इनमें से 3 महिलाएं हैं।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • सुप्रीम कोर्ट के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब एक साथ इतने न्यायाधीशों की नियुक्ति हुई हो।
  • सुप्रीम कोर्ट में कुल 34 जजों की स्वीकृत संख्या है। अब सिर्फ एक पद रिक्त रह गया है।

इन न्यायाधीशों की हुई नियुक्ति

  • शीर्ष अदालत के नए न्यायाधीशों में न्यायमूर्ति बी वी नागरत्ना, न्यायमूर्ति बेला एम त्रिवेदी, न्यायमूर्ति हिमा कोहली, न्यायमूर्ति सी टी रविकुमार, न्यायमूर्ति एम एम सुंदरेश और वरिष्ठ अधिवक्ता व पूर्व अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल पी एस नरसिम्हा, न्यायमूर्ति अभय श्रीनिवास ओका, न्यायमूर्ति विक्रम नाथ और न्यायमूर्ति जितेंद्र कुमार माहेश्वरी शामिल हैं। न्यायमूर्ति वी वी नागरत्ना को सितंबर 2027 में भारत की पहली महिला मुख्य न्यायाधीश (सीजेआई) नियुक्त किए जाने की संभावना है।

कैसे होती है सर्वोच्च न्यायालयों में न्यायाधीशों की नियुक्ति?

  • सर्वोच्च और उच्च न्यायालयों में न्यायाधीशों की नियुक्ति की प्रणाली को कॉलेजियम व्यवस्था कहा जाता है।
  • सर्वोच्च न्यायालय के कॉलेजियम में देश के मुख्य न्यायाधीश के अलावा शीर्ष अदालत के चार अन्य वरिष्ठतम जज शामिल होते हैं।
  • उच्च न्यायालयों के कॉलेजियम में संबद्ध न्यायालय के तीन वरिष्ठतम जज शामिल होते हैं।
  • 1990 में सर्वोच्च न्यायालय के दो फैसलों के बाद यह व्यवस्था बनाई गई थी और 1993 से इसी के माध्यम से उच्च न्यायपालिका में जजों की नियुक्तियाँ होती हैं। कॉलेजियम व्यवस्था के अंतर्गत सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के नेतृत्व में बनी वरिष्ठ जजों की समिति जजों के नाम तथा नियुक्ति का फैसला करती है।
  • सर्वोच्च न्यायालय तथा उच्च न्यायालयों में जजों की नियुक्ति तथा तबादलों का फैसला भी कॉलेजियम ही करता है।
  • उच्च न्यायालयों के कौन से जज पदोन्नत होकर सर्वोच्च न्यायालय जाएंगे यह फैसला भी कॉलेजियम ही करता है।
  • कॉलेजियम की सिफारिशें प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति को भेजी जाती हैं और उनकी मंज़ूरी मिलने के बाद ही नियुक्ति की जाती है।
  • 2015 में सर्वोच्च न्यायालय ने राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्ति आयोग की स्थापना करने वाले संवैधानिक संशोधन को रद्द कर दिया जो कॉलेजियम की जगह लेने के लिये बनाया जाना था।

…………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………..

निधन

बुद्धदेव गुहा

  • प्रख्यात बंगाली लेखक बुद्धदेव गुहा जिन्होंने ‘मधुकरी’ जैसी रचनाएं रची थी, का 85 साल की उम्र में निधन हो गया है।
  • बुद्धदेव गुहा को ‘कोलेर कच्छै’ , ‘कोजागर’, ‘इकतु उसनोतर जोनया’, ‘मधुकरी’ , ‘जंगलहन’, ‘चोरोबेटी’ और उनकी अन्य रचनाओं के लिए याद किया जाएगा।
  • वह बंगाल के प्रमुख मशहूर काल्पनिक किरदार ‘रिजुदा’ और ‘रुद्र’ के भी रचयिता थे।’’
  • गुहा का जन्म 29 जून 1936 को कोलकाता में हुआ था। उनका बचपन पूर्वी बंगाल (अब बांग्लादेश) के रंगपुर और बारीसाल जिलों में बीता।

…………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………..

राष्ट्रीय परिदृश्य

उत्तराखंड की सात जलविद्युत परियोजनाओं के स्वीकृति

चर्चा में क्यों?

  • केन्द्र सरकार ने कई सालों से अटकी पड़ी पनबिजली परियोजनाओं को मंजूरी देने का फैसला किया है। जून 2013 में अचानक आई बाढ़ में 5,000 से अधिक लोगों की मौत हो गई थी। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने उत्तराखंड में पनबिजली परियोजनाओं को मंजूरी देने पर रोक लगा दी थी।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • सुप्रीम कोर्ट द्वारा लगाई गई रोक के आठ साल बाद केंद्रीय पर्यावरण, बिजली और जल शक्ति मंत्रालय राज्य में गंगा और उसकी सहायक नदियों पर जल विद्युत परियोजनाओं के निर्माण की अनुमति पर सहमत हो गया है।
  • पर्यावरण मंत्रालय द्वारा 17 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट में रखे गए एक हलफनामे में सहमति व्यक्त की गई थी।

ये सात परियोजनाएँ इस प्रकार हैं:

  • टिहरी चरण 2: भागीरथी नदी पर 1000 मेगावाट
  • तपोवन विष्णुगढ़ : धौलीगंगा नदी पर 520 मेगावाट
  • विष्णुगढ़ पीपलकोटी : अलकनंदा नदी पर 444 मेगावाट
  • सिंगोली भटवारी : मंदाकिनी नदी पर 99 मेगावाट
  • फटा भुयांग: मंदाकिनी नदी पर 76 मेगावाट
  • मध्यमहेश्वर : मध्यमहेश्वर गंगा पर 15 मेगावाट
  • कालीगंगा 2: कालीगंगा नदी पर 6 मेगावाट

Related Posts

Quick Connect

Whatsapp Whatsapp Now

Call +91 8130 7001 56