Follow Us On

Daily Current Affairs Quiz : September 3, 2021

1- अफगानिस्तान में अमेरिका ने अपना युद्ध अभियान समाप्त कर दिया है। किस तारीख को अफगानिस्तान से सभी अमेरिकी सैनिकों की पूर्ण वापसी हो गई है?
(a) 1 सितंबर 2021
(b) 2 सितंबर 2021
(c) 31 अगस्त 2021
(d) 30 अगस्त 2021

2- अमेरिका के लुइसियाना प्रांत में चक्रवाती तूफ़ान (हरीकेन) आइडा (Ida) ने दस्तक दी है। यह तूफान कहां उत्पन्न हुआ?
(a) कैलीफोर्निया की खाड़ी
(b) मैक्सिको की खाड़ी
(c) हडसन की खाड़ी
(d) उपरोक्त में से कोई नहीं

3- आर्थिक संगठन बिम्सटेक (बे ऑफ बंगाल इनीशियेटिव फोर मल्टी-सेक्टोरल टेक्नीकल एंड इकोनॉमिक कोओपरेशन) ने सदस्य देशों के बीच एक ऑनलाइन सम्मेलन के दौरान कृषि और संबद्ध क्षेत्रों में परस्पर भागीदारी बढ़ाने और सहयोग को गहरा करने की आवश्यकता पर जोर दिया है। निम्न में से कौन इस संगठन का सदस्य देश नहीं है?
(a) म्याँमार
(b) थाईलैंड
(c) नेपाल
(d) पाकिस्तान

4 – हाल ही में किस अफ्रीकी देश की नौसेना के साथ भारतीय नौसेना ने पहले नौसैनिक अभ्यास में भाग लिया?
(a) नाईजीरिया
(b) अल्जीरिया
(c) रवांडा
(d) दक्षिण अफ्रीका

5- समाचारों में चर्चित उत्तराखंड के ऐतिहासिक गरतांगगली मार्ग जो अपनी लकड़ी की सीढ़ियों के लिए जाना जाता है, को कई दशकों के बाद पुन: पर्यटकों के लिए खोला गया है। यह उत्तराखंड के किस जिले में स्थित है?
(a) चमोली
(b) पिथौरागढ़
(c) उत्तरकाशी
(d) पौड़ी

उत्तर एवं व्याख्या

1 (c) अफगानिस्तान में अमेरिका ने अपना युद्ध अभियान समाप्त कर दिया है। 31 अगस्त 2021 को अफगानिस्तान से सभी अमेरिकी सैनिकों की वापसी हो गई है। एस सेंट्रल कमांड के कमांडर जनरल केनेथ मैकेंज़ी ने पुष्टि की कि अमेरिका ने अफ़ग़ानिस्तान से अपनी वापसी पूरी कर ली है अमेरिका की अंतिम इवेक्यूशन फ़्लाइट हामिद करज़ई इंटरनेशनल एयरपोर्ट से 31 अगस्त की मध्यरात्रि (स्थानीय समयानुसार) को रवाना हुई। 9/11 यानी 11 सितंबर 2001 को दुनिया को सबसे बड़ा आतंकी हमला झेलने के करीब एक माह बाद अमेरिका ने अफगानिस्तान में आतंकवाद को पनाह देने वाले तालिबान के खिलाफ युद्ध छेड़ा था।

2 (b) अमेरिका के लुइसियाना प्रांत में चक्रवाती तूफ़ान (हरीकेन) आइडा (Ida) ने दस्तक दी है।मैक्सिको की खाड़ी में उठा यह चक्रवाती तूफ़ान जब ज़मीन से टकराया तब 240 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ़्तार से हवाएं चल रही थीं।आइडा तूफ़ान को एक प्रकार से शहर की बाढ़ से रक्षा की एक परीक्षा के तौर पर भी देखा जा रहा है।दरअसल, साल 2005 में कैटरीना चक्रवाती तूफ़ान के बाद 1,800 लोग मारे गए थे। इसके बाद शहर की बाढ़ से सुरक्षा के लिए कई अहम क़दम उठाए गए थे।

3 (d) बिम्सटेक एक क्षेत्रीय बहुपक्षीय संगठन है तथा बंगाल की खाड़ी के तटवर्ती और समीपवर्ती क्षेत्रों में स्थित इसके सदस्य हैं जो क्षेत्रीय एकता का प्रतीक हैं।इसके 7 सदस्यों में से 5 दक्षिण एशिया से हैं, जिनमें बांग्लादेश, भूटान, भारत, नेपाल और श्रीलंका शामिल हैं तथा दो- म्याँमार और थाईलैंड दक्षिण-पूर्व एशिया से हैं।बिम्सटेक न सिर्फ दक्षिण और दक्षिण पूर्व-एशिया के बीच संपर्क बनाता है है बल्कि हिमालय तथा बंगाल की खाड़ी की पारिस्थितिकी को भी जोड़ता है।• वर्ष 1997 में बैंकॉक घोषणा के माध्यम से यह संगठन अस्तित्व में आया।प्रारंभ में इसका गठन चार सदस्य राष्ट्रों के साथ किया गया था जिनका संक्षिप्त नाम ‘BIST-EC’ (बांग्लादेश, भारत, श्रीलंका और थाईलैंड आर्थिक सहयोग) था।वर्ष 1997 में म्याँमार के शामिल होने के बाद इसका नाम बदलकर ‘BIMST-EC’ कर दिया गया। वर्ष 2004 में नेपाल और भूटान के इसमें शामिल होने के बाद संगठन का नाम बदलकर “बे ऑफ़ बंगाल इनिशिएटिव फॉर मल्टी सेक्टरल टेक्निकल एंड इकोनॉमिक को-ऑपरेशन” कर दिया गया।

4 (b) हाल ही में भारत और अल्जीरिया की नौसेनाओं ने समुद्री सहयोग बढ़ाने हेतु अल्जीरियाई तट पर पहले नौसैनिक अभ्यास में भाग लिया।अल्जीरिया के साथ नौसैनिक अभ्यास भारत के लिये महत्त्वपूर्ण है क्योंकि यह रणनीतिक रूप से माघरेब क्षेत्र (भूमध्य सागर की सीमा से लगे उत्तरी अफ्रीका के क्षेत्र) में स्थित है और अफ्रीका का सबसे बड़ा देश है।इस अभ्यास में भारतीय नौसेना के जहाज़ आईएनएस तबर ने अल्जीरियाई नौसेना के जहाज़ ‘एज्जादजेर’ के साथ समुद्री साझेदारी अभ्यास में भाग लिया। आईएनएस तबर, रूस में भारतीय नौसेना के लिये बनाया गया तलवार श्रेणी का ‘स्टील्थ फ्रिगेट’ है।

5 (c) उत्तरकाशी में स्थित गरतांग गली पहा़ड़ की चट्टानों को काटकर बनाया गया लकड़ी का मार्ग है जो भारत और तिब्बत के बीच का व्यापार के लिए प्रयोग में लाया जाता था। 18 अगस्त 2021 को जिला प्रशासन ने 59 साल बाद ऐतिहासिक गरतांग गली को पर्यटकों के लिए खोला था। भारत-तिब्बत के बीच व्यापारिक रिश्तों की गवाह रही गली (रास्ते) को 1962 के भारत-चीन युद्ध के बाद सुरक्षा कारणों के चलते बंद कर दिया गया था। करीब 150 साल पुरानी इस रास्ते के बारे में कहा जाता है कि इसे सीमांत जादूंग गांव के सेठ धनी राम ने कामगारों से तैयार कराया था, जो कि चट्टान को काटकर उस पर लोहे की रॉड गाड़कर व लकड़ी के फट्टे बिछाकर बनाई गई थी। लेकिन चलन से बाहर होने पर यह खस्ताहाल हो गई थी।

Related Posts

Quick Connect

Whatsapp Whatsapp Now

Call +91 8130 7001 56