Follow Us On

Daily Current Affairs Quiz: 26 August 2021

1- जापान की राजधानी टोक्यो में ओलंपिक के बाद अब 16 वें पैरालंपिक खेलों की शुरुआत हो गई है। ये खेल 24 अगस्त से 5 सितंबर 2021 तक आयोजित होंगे। इन खेलों में भारतीय ध्वजवाहक टेक चंद रहे। वह किस खेल के खिलाड़ी हैं?
(a) निशानेबाजी
(b) डिस्कस थ्रो
(c) जेवलिन थ्रो
(d) लॉन टेनिस

2- शत्रुंजय शिखर के संबंध में किस हाई कोर्ट ने महत्वपूर्ण फैसला देते हुए कहा है कि यह जैनों का अति पवित्र यात्राधाम है। इसे स्वच्छ और व्यवस्थित रखने का कार्य जैन ट्रस्टों द्वारा किया जा रहा है। इसकी तलहटी से लेकर शिखर तक किसी प्रकार का अतिक्रमण न हो, यह देखना सरकार की जिम्मेदारी है?
(a) राजस्थान हाई कोर्ट
(b) गुजरात हाई कोर्ट
(c) मध्य प्रदेश हाई कोर्ट
(d) उपरोक्त में से कोई नहीं

3- हाल ही में ‘मदुर फ्लोर मैट’ हस्तशिल्प के निर्माण से जुड़ी महिलाओं को राष्ट्रपति ने राष्ट्रीय हस्तशिल्प पुरस्कार से सम्मानित किया। यह हस्त शिल्प किस राज्य से संबंधित है?
(a) पश्चिम बंगाल
(b) ओड़िशा
(c) तेलंगाना
(d) मिजोरम

4 – चकमा डेवलपमेंट फाउंडेशन ऑफ इंडिया (CDFI) ने 60,000 से अधिक चकमाओं और हाजोंगों को अन्य राज्यों में निर्वासित करने के प्रस्ताव पर अरुणाचल प्रदेश सरकार के प्रति रोष प्रकट किया है। चकमा और हाजोंग समुदायों से संबंधित निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए-
1- चकमास और हाजोंग्स और पूर्व-असम राइफल्स के जवानों को 1964 से 1968 तक भारत की रक्षा के लिए तत्कालीन केंद्र प्रशासित नॉर्थ ईस्ट फ्रंटियर एजेंसी (NEFA) वर्तमान अरुणाचल प्रदेश में बसाया गया था।
2- चकमा बौद्ध धर्म से संबंधित हैं, जबकि हाजोंग हिन्दू हैं।
उपरोक्त में से कौन सा/से कथन सही है/हैं-
(a) केवल 1
(b) केवल 2
(c) 1 व 2 दोनों
(d) न 1 न ही 2

5- तिवा जनजाति के लोगों ने हाल ही में वांचुवा महोत्सव मनाया, यह जनजाति किस राज्य से संबंधित हैं?
(a) असम
(b) ओडिशा
(c) आंध्र प्रदेश
(d) हिमाचल प्रदेश

उत्तर एवं व्याख्या

1 (c) उद्घाटन समारोह के मार्च पास्ट में सबसे पहले जापान के खिलाड़ियों का दल स्टेडियम में आया। भारतीय दल ने 17वें नंबर पर अपना मार्च पास्ट किया।भालाफेंक खिलाड़ी टेकचंद भारतीय दल के ध्वजवाहक रहे।भारत ने इन खेलों में अब तक 12 मेडल जीते हैं जिसमें चार गोल्ड, चार सिल्वर और इतने की ब्रॉन्ज मेडल शामिल हैं।भारत ने 1972 में पहली बार पैरालंपिक खेलों में हिस्सा लिया था। इस बार 54 खिलाड़ियों का दल भारत की तरफ से गया है, जो अबतक का सबसे बड़ा दल है।

2 (a) गुजरात के पालीताणा में विराजित शत्रुंजय शिखर पर 815 मंदिर हैं। इसकी यात्रा मोक्षदायी मानी जाती है। 1900 फुट की ऊंचाई पर शत्रुंजय शिखर पर विराजित आदिनाथजी के दर्शन के लिए 3,745 सीढ़ियां चढ़कर जाना होता है। यह सीढ़ियां 13वीं सदी में बनाई गई थी

3 (a) बंगाली जीवनशैली का एक आंतरिक हिस्सा मदुर मैट या मधुरकथी, प्राकृतिक रेशों से बने होते हैं। इसे अप्रैल 2018 में भौगोलिक संकेत (GI Tag) टैग दिया गया था। यह एक प्रकंद आधारित पौधा (साइपरस टेगेटम या साइपरस पैंगोरेई) है जो पश्चिम बंगाल के पुरबा और पश्चिम मेदिनीपुर के जलोढ़ इलाकों में प्रचुर मात्रा में पाया जाता है।बंगाल के जीआई टैग वाले अन्य उत्पाद: कुष्मंडी का लकड़ी का मुखौटा, पुरुलिया चौ-मुखौटा, गोविंदभोग चावल, तुलापंजी चावल, बंगाल पटचित्र, दार्जिलिंग चाय आदि।

4 (c) यह दोनों जनजातियां देश के विभाजन के पहले से चटगांव की पहाड़ियों (अब बांग्लादेश में) रहती थीं। लेकिन 1960 के दशक में इलाके में एक पनबिजली परियोजना के तहत काप्ताई बांध के निर्माण की वजह से जब उनकी जमीन पानी में डूब गई तो उन्होंने पलायन शुरू किया। चकमा जनजाति के लोग बौद्ध हैं जबकि हाजोंग जनजाति हिंदू है। देश के विभाजन के बाद तत्कालीन पूर्वी पाकिस्तान में भी उनको धार्मिक आधार पर काफी अत्याचर सहना पड़ा था। साठ के दशक में चटगांव से भारत आने वालों में से महज दो हजार हाजोंग थे और बाकी चकमा। यह लोग तत्कालीन असम के लुसाई पर्वतीय जिले (जो अब मिजोरम का हिस्सा है) से होकर भारत पहुंचे थे। उनमें से कुछ लोग तो लुसाई हिल्स में पहले से रहने वाले चकमा जनजाति के लोगों के साथ रह गए। लेकिन भारत सरकार ने ज्यादातर शरणार्थियों को अरुणाचल प्रदेश में बसा दिया और इन लोगों को शरणार्थी का दर्जा दिया गया।

5 (a) वांचुवा महोत्सव असम में तिवा आदिवासियों द्वारा अपनी अच्छी फसल को चिह्नित करने के लिए मनाया जाता है। तिवा को लालुंग के नाम से भी जाना जाता है, यह असम और मेघालय राज्यों में रहने वाला एक जनजाति समुदाय है और अरुणाचल प्रदेश और मणिपुर के कुछ हिस्सों में भी पाया जाता है।उन्हें असम राज्य के भीतर एक अनुसूचित जनजाति के रूप में मान्यता प्राप्त है। ये झूम खेती करते हैं। वांचुवा इस जनजाति के सबसे महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है।

Related Posts

Quick Connect

Whatsapp Whatsapp Now

Call +91 8130 7001 56