Daily Current Affairs Quiz: 19 January 2021

चर्चित दिन/दिवस

पराक्रम दिवस

चर्चा में क्यों?

  • संस्कृति मंत्रालय ने घोषणा की कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती, 23 जनवरी को प्रतिवर्ष ‘पराक्रम दिवस’ के रूप में मनाई जाएगी।

महत्वपूर्ण दिवस

  • यह दिन नेताजी की अदम्य भावना और राष्ट्र के प्रति निस्वार्थ सेवा के सम्मान और अभिवादन के लिए मनाया जाता है।
  • उल्लेखनीय है कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती को भव्‍य रूप से मनाने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्यक्षता में संस्कृति मंत्रालय ने एक उच्च स्तरीय समिति का गठन किया गया है।

सुभाष चंद्र बोस

  • सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी, 1897 को उड़ीसा के कटक शहर में हुआ था। उनकी माता का नाम प्रभावती दत्त बोस (Prabhavati Dutt Bose) और पिता का नाम जानकीनाथ बोस (Janakinath Bose) था।
  • वर्ष 1919 में बोस भारतीय सिविल सेवा (Indian Civil Services- ICS) परीक्षा की तैयारी करने के लिये लंदन चले गए और वहाँ उनका चयन भी हो गया। हालाँकि बोस ने सिविल सेवा से त्यागपत्र दे दिया क्योंकि उनका मानना था कि वह अंग्रेज़ों के साथ कार्य नहीं कर सकते।
  • सुभाष चंद्र बोस, विवेकानंद की शिक्षाओं से अत्यधिक प्रभावित थे और उन्हें अपना आध्यात्मिक गुरु मानते थे, जबकि चितरंजन दास (Chittaranjan Das) उनके राजनीतिक गुरु थे।
  • वर्ष 1923 में बोस को अखिल भारतीय युवा कॉन्ग्रेस का अध्यक्ष और साथ ही बंगाल राज्य कॉन्ग्रेस का सचिव चुना गया।
  • बोस ने वर्ष 1938 (हरिपुरा) में भारतीय राष्ट्रीय कॉन्ग्रेस का अध्यक्ष निर्वाचित होने के बाद राष्ट्रीय योजना आयोग का गठन किया। यह नीति गांधीवादी विचारों के अनुकूल नहीं थी।
  • वर्ष 1939 (त्रिपुरी) में बोस फिर से अध्यक्ष चुने गए लेकिन जल्द ही उन्होंने अध्यक्ष पद से त्यागपत्र दे दिया और कॉन्ग्रेस के भीतर एक गुट ‘ऑल इंडिया फॉरवर्ड ब्लॉक’ का गठन किया, जिसका उद्देश्य राजनीतिक वाम को मज़बूत करना था।
  • 18 अगस्त, 1945 को जापान शासित फॉर्मोसा (Japanese ruled Formosa) (अब ताइवान) में एक विमान दुर्घटना में उनकी मृत्यु हो गई।

……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

निधन

उस्ताद गुलाम मुस्तफा खान

  • महान भारतीय शास्त्रीय संगीतकार और पद्म विभूषण से सम्मानित उस्ताद गुलाम मुस्तफा खान का निधन हो गया।
  • उन्हें 1991 में पद्म श्री, 2006 में पद्म भूषण, और 2018 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था।
  • 2003 में उन्हें संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार से भी नवाजा गया, जो कि संगीत नाटक अकादमी द्वारा भारतीय कलाकारों को अभ्यास करने के लिए दिया जाने वाला सर्वोच्च सम्मान है।
  • वह हिन्दुस्तानी गायन परम्परा के रामपुर सहसवान घराने के गायक थे।

……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

खेल परिदृश्य

थाईलैंड ओपन बैडमिटन-2021

विजेता

  • वूमैन सिंगल्स- स्पेन की स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी कैरोलिना मारिन ने थाईलैंड ओपन  का खिताब जीत लिया है।
  • महिलाओं के एकल वर्ग के फाइनल में कैरोलिना ने तैवान के खिलाड़ी ताइ जू यिंग को 21-9, 21-16 से हराया।
  • मैन सिंगल्स: विक्टर एक्सेलसेन (डेनमार्क) ने एंगस लॉन्ग (हांगकांग) को हराकर पुरुष एकल खिताब जीता.

युगल खिताब के विजेता:

  • मैन्स डबल्स में, ताइवान के ली यांग और वांग ची-लिन ने मलेशिया के गोह वी शेम और टैन वी किओंग को हराकर डबल्स खिताब जीता.
  • वुमैन डबल्स में, इंडोनेशिया की ग्रीशिया पोली और अप्रियानी रहायु ने थाईलैंड के जोंगकोल्फ़न कितिथराकुल और राविंदा प्रजोंगजई को हराकर डबल्स का खिताब जीता.

मिक्स डबल्स के विजेता:

  • थाईलैंड के डेकोपोल पुरावरणुकरो और सैपसैरी तैरातनाचाई ने इंडोनेशिया के प्रवीण जॉर्डन और मेलति डेवा ओकटावंती को हराकर मिश्रित युगल का खिताब जीता।

……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

खेलो इंडिया ज़ास्कर विंटर स्पोर्ट एंड यूथ फ़ेस्टिवल-2021

चर्चा में क्यों?

  • लद्दाख में 18 जनवरी 2021 को खेलो इंडिया ज़ास्कर विंटर स्पोर्ट एंड यूथ फ़ेस्टिवल 2021 का उद्घाटन सत्र का शुभारंभ किया गया।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • 13 दिनों तक चलने वाले ज़ांस्कर विंटर स्पोर्ट्स फ़ेस्टिवल का उद्देश्य लद्दाख में साहसिक और प्रकृति प्रेमी पर्यटकों के लिए एक नए खेल युग की शुरुआत करना है, और भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिए शीतकालीन खेलों में अपने कौशल को बढ़ाने के लिए स्थानीय युवा में उत्साह भरना है।
  • स्नोबाउंड, सुरम्य ज़ांस्कर में पर्यटन और आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए अगले 13 दिनों में बर्फ पर आधारित गतिविधियों की एक श्रृंखला आयोजित की जाएगी।

……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

नियुक्ति/निर्वाचन

योवेरी मुसोवेनी

चर्चा में क्यों?

  • युगांडा में राष्ट्रपति चुनाव में योवेरी मुसोवेनी ने लगातार छठी बार जीत दर्ज की है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • हालांकि, योवेरी मुसोवेनी के खिलाफ चुनाव लड़ने वाले मुख्य प्रतिद्वंदी बॉबी वाइन ने चुनाव में राष्ट्रपति पर फर्जीवाड़ा करने के आरोप लगाए हैं।
  • चुनाव कैंपेन के दौरान काफ़ी हिंसा हुई थी और दर्जनों लोग मारे गए थे. वोटिंग से पहले सरकार ने इंटरनेट बंद कर दिया था, जिसका इलेक्शन मॉनीटर्स ने विरोध किया था।
  • युगांडा की आबादी का एक तिहाई हिस्सा यानी 35 साल से कम उम्र के लोग सिर्फ़ एक ही राष्ट्रपति को जानते हैं।
  • यूवेरी मुसेविनी साल 1986 में सशस्त्र विद्रोह के बल पर सत्ता में आए. उन्होंने राजनीतिक नियमों को ताक पर रख दिया और अपने विपक्षियों को रास्ते से हटा दिया।
  • 76 साल के यूवेरी मुसेविनी के 35 साल के शासन के दौरान आई शांति और विकास कार्यों के कारण कई लोग उनकी तारीफ़ करते हैं।
  • लेकिन सत्ता में बने रहने के लिए उन्होंने करिश्माई व्यक्तित्व के विचार को बढ़ावा दिया, स्वतंत्र संस्थानों से समझौता किया और विरोधियों को दरकिनार करके सफलता हासिल की।
  • लोगों के बीच उनकी छवि एक पिता और दादा की है। युगांडा के कई नौजवान उन्हें ‘सेवो’ के नाम से जानते हैं और यूवेरी मुसेविनी उन्हें बाज़ुकुलु (लुगांडा भाषा में नाति-पोते) कहकर बुलाते हैं।

……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

योजना/परियोजना

वन वन आईएएस

चर्चा में क्यों?

  • केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने राज्य के 10 हजार प्रतिभाशाली लेकिन आर्थिक रूप से कमजोर बच्चों को मुफ्त में प्रशासनिक सेवा एवं अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं की कोचिंग देने की योजना की शुरुआत की है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • ‘एक स्कूल, एक आईएएस’ कार्यक्रम को विधिक इरुडाइट फाउंडेशन प्रायोजकों की मदद से से लागू करेगा।
  • इस अवसर पर राज्यपाल ने कहा, ‘‘उच्च शिक्षा के इस मंच से बच्चों को अपनी भविष्य की योजना के लिए खुद को पूरी तरह से ढालने और ज्ञान को विस्तार देने का मौका मिलेगा।’’
  • अभिनेत्री मंजू वरियर ने फाउंडेशन की छात्रवृत्ति योजना की प्रशंसा करते हुए पहले प्रायोजक बनने की घोषणा की। इसके तहत वह 10 छात्राओं को प्रशासनिक सेवा के लिए कोचिंग कराने पर आने वाले खर्च को वहन करेंगी।

…………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………..

रक्षा प्रतिरक्षा

रक्षिता’ एंबुलेंस

चर्चा में क्यों?

  • रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने हाल ही में केंद्रीय रिज़र्व पुलिस बल (CRPF) को एक मोटर बाइक-आधारित एंबुलेंस प्रदान की है, जिसे मुख्य तौर पर भीड़भाड़ वाली सड़कों और दूरदराज़ के स्थानों में रहने वाले लोगों को त्वरित चिकित्सा सहायता प्रदान करने के उद्देश्य से विकसित किया गया है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • ‘रक्षिता’ नाम की इस बाइक-आधारित एंबुलेंस को रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) की एक प्रमुख प्रयोगशाला ‘इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूक्लियर मेडिसिन एंड अलाइड साइंसेज़’ (INMAS) द्वारा विकसित किया गया है।
  • ‘रक्षिता’ एंबुलेंस उन क्षेत्रों के लिये काफी लाभदायक साबित होगी, जहाँ बड़ी एंबुलेंस के माध्यम से नहीं पहुँचा जा सकता है। इस एंबुलेंस में एक आकस्मिक निकासी सीट (CES) भी है, जिसे आवश्यकता पड़ने पर लगाया और निकाला जा सकता है।
  • इसमें मेडिकल और ऑक्सीजन किट भी मौजूद है, जिसे आवश्यकता पड़ने पर तत्काल प्रयोग किया जा सकता है।
  • केंद्रीय रिज़र्व पुलिस बल (CRPF) के जवानों को भारत भर में कई दुर्गम स्थानों पर नियुक्त किया जाता है, ऐसे में पारंपरिक एंबुलेंस के माध्यम से घायल और बीमार जवानों को अस्पताल पहुँचाना काफी चुनौतीपूर्ण हो जाता है, DRDO द्वारा विकसित ‘रक्षिता’ एंबुलेंस से जवानों का समय पर उपचार करने में मदद मिलेगी।

Leave a Reply