Follow Us On

Daily Current Affairs: October 11, 2021

राष्ट्रीय परिदृश्य

भारतीय अंतरिक्ष संघ

चर्चा में क्यों?

  • हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अंतरिक्ष और उपग्रह क्षेत्र में संलग्न कंपनियों के एक समूह- ‘भारतीय अंतरिक्ष संघ’ (ISA) का शुभारंभ किया है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • ‘भारतीय अंतरिक्ष संघ’ अंतरिक्ष एवं उपग्रह प्रौद्योगिकियों में उन्नत क्षमताओं वाले घरेलू और वैश्विक निगमों का प्रतिनिधित्व करता है।
  • इसके संस्थापक सदस्यों में भारती एयरटेल, लार्सन एंड टुब्रो (L&T), नेल्को (टाटा ग्रुप), वनवेब, मैप मायइंडिया, वाल चंदनगर इंडस्ट्रीज़ तथा अनंत टेक्नोलॉजी लिमिटेड शामिल हैं।
  • यह भारत में उन्नत वैज्ञानिक एवं अनुसंधान कार्य करने के लिये एक मज़बूत अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी पारिस्थितिकी तंत्र की सुविधा प्रदान करेगा।
  • उल्लेखनीय है कि केन्द्र सरकार ने अंतरिक्ष क्षेत्र में निजी क्षेत्र, शैक्षणिक संस्थानों और अनुसंधान संस्थानों की अधिक भागीदारी तय करने के लिये एक नए निकाय- ‘भारतीय राष्ट्रीय अंतरिक्ष संवर्द्धन तथा प्रमाणीकरण केंद्र’ का गठन किया है।
  • इस निकाय के गठन का मुख्य उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) अपनी आवश्यक गतिविधियों जैसे- अनुसंधान एवं विकास और अंतरिक्ष के रणनीतिक उपयोग आदि पर ध्यान केंद्रित कर सके तथा अन्य सहायक कार्यों को निजी क्षेत्र को हस्तांतरित कर दिया जाए।

………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

आर्थिक एवं वाणिज्यिक परिदृश्य

एयर इंडिया का निजीकरण

चर्चा में क्यों?

  • हाल ही में सरकार ने ‘एयर इंडिया’ (AI) में भारत सरकार की शत-प्रतिशत इक्विटी हिस्सेदारी की बिक्री के लिये ‘टाटा संस प्राइवेट लिमिटेड’ की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी ‘टैलेस प्राइवेट लिमिटेड’ की सबसे उच्चतम मूल्य बोली को मंज़ूरी दे दी है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • डील के अनुसार टाटा ग्रुप 18,000 करोड़ रुपए में एयर इंडिया को खरीदेगा।
  • ‘एयर इंडिया’ में टाटा की 100% हिस्सेदारी होगी, साथ ही इसकी अंतर्राष्ट्रीय शाखा- एयर इंडिया एक्सप्रेस में 100% और ग्राउंड हैंडलिंग संयुक्त उद्यम- ‘AI SATS’ में 50% की हिस्सेदारी होगी।
  • डील में एअर इंडिया की जमीन और इमारतों सहित किसी भी नॉन एसेट को नहीं बेचा जाएगा। कुल कीमत 14,718 करोड़ रुपए के ये एसेट सरकारी कंपनी Air India Assets Holding Limited (AIAHL) के हवाले कर दिए जाएंगे।
  • कार्गो और ग्राउंड हैंडलिंग कंपनी Air India SATS Airport Services Private Limited (AISATS) की आधी हिस्सेदारी भी मिलेगी।

1932 में हुआ था राष्ट्रीयकरण

  • 1932 में जेआरडी टाटा ने टाटा एयरलाइंस की शुरुआत की थी। दूसरे विश्वयुद्ध के बाद दुनियाभर में एविएशन सेक्टर बुरी तरह प्रभावित हुआ था। ऐसे में मंदी से निपटने के लिए योजना आयोग ने सभी एयरलाइन कंपनियों का राष्ट्रीयकरण करने का सुझाव दिया था।
  • मार्च 1953 में संसद ने एयर कॉर्पोरेशंस एक्ट पास किया। इसके बाद देश की आठ एयरलाइंस का राष्ट्रीयकरण कर दिया गया। उनमें टाटा एयरलाइंस भी शामिल थी।
  • सभी कंपनियों को मिलाकर इंडियन एयरलाइंस और एअर इंडिया बनाई गई। एअर इंडिया को इंटरनेशनल और इंडियन एयरलाइंस को डोमेस्टिक फ्लाइट्स का जिम्मा दिया गया।

…………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………..

रक्षा-प्रतिरक्षा

अजेय वारियर-2021

चर्चा में क्यों?

  • हाल ही में भारत और यूनाइटेड किंगडम के बीच संयुक्त सैन्य प्रशिक्षण अभ्यास अजेय वारियर (AJEYA WARRIOR-2021) का छठा संस्करण उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले के चौबटिया में शुरू हुआ।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • यह अभ्यास यूनाइटेड किंगडम और भारत में वैकल्पिक रूप से आयोजित किया जाता है।
  • यह अभ्यास मित्र देशों के साथ अंतर- संचालनीयता का विकास और विशेषज्ञता साझा करने की एक पहल का हिस्सा है।

भारत और यूके के बीच अन्य संयुक्त अभ्यास:

  • नौसेना: कोंकण
  • वायु सेना: इन्द्रधनुष

………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………….

भारत-जापान समुद्री द्विपक्षीय अभ्यास:  जिमेक्स

चर्चा में क्यों?

  • ‘भारत-जापान समुद्री द्विपक्षीय अभ्यास’ (JIMEX) का पांचवां संस्करण 6-8 अक्तूबर तक अरब सागर में आयोजित किया गया।
  • ‘JIMEX-21’ का उद्देश्य समुद्री संचालन के पूरे स्पेक्ट्रम में कई उन्नत अभ्यासों के माध्यम से परिचालन प्रक्रियाओं की एक सामान्य समझ विकसित करना और अंतर-संचालन क्षमता को बढ़ाना है।
  • यह नौसैनिक अभ्यास भारतीय नौसेना एवं जापानी समुद्री आत्म-रक्षा बल (JMSDF) के बीच द्विवार्षिक रूप से आयोजित किया जाता है।
  • इस द्विपक्षीय अभ्यास का चौथा संस्करण वर्ष 2020 में मध्य उत्तरी अरब सागर में आयोजित किया गया था।
  • जापान ने जनवरी 2012 में समुद्री सुरक्षा सहयोग पर विशेष ध्यान देने के उद्देश्य से ‘जिमेक्स’ (JIMEX) शृंखला की शुरुआत की थी।

…………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

भारत एवं विश्व

हाई एम्बिशन कोएलिशन फॉर नेचर एंड पीपल (HAC)

चर्चा में क्यों?

  • हाल ही में भारत प्रकृति और लोगों के लिए उच्च आकांक्षा गठबंधन (High Ambition Coalition (HAC) for Nature and People) में शामिल हुआ है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • यह 70 से अधिक देशों का एक समूह है और 30×30 की रक्षा के लिए वैश्विक लक्ष्य को अपनाने के लिये प्रोत्साहित कर रहा है।
  • वर्तमान में दुनिया भर में अलग-अलग आर्थिक और सामाजिक स्थिति वाले देश एचएसी सदस्यों में शामिल है; यूरोपीय, लैटिन अमेरिकी, अफ्रीका और एशिया के देश इसके सदस्य हैं।
  • भारत एचएसी में शामिल होने वाली प्रमुख उभरती अर्थव्यवस्थाओं (ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका) के ब्रिक्स ब्लॉक में से पहला है।
  • भारत के द्वारा किया गया ऐलान चीन द्वारा आयोजित एक उच्च स्तरीय जैव विविधता बैठक से ठीक पहले हुआ है।
  • 11-15 अक्टूबर को होने वाली ये वर्चुअल बैठक 2022 में अंतिम रूप दी जाने वाली जैव विविधता संधि के प्रमुख पहलुओं पर चर्चा करेगी।
  • वैश्विक 30×30 लक्ष्य वर्तमान में संधि का एक केन्द्रबिन्दु है।
  • इस गठबंधन को जनवरी 2021 में पेरिस में “वन प्लैनेट समिट” में शुरू किया गया था।
  • इस गठबंधन का उद्देश्य (वैश्विक 30×30 लक्ष्य ) 2030 तक दुनिया की कम से कम 30% भूमि और महासागर की रक्षा के लिए एक अंतरराष्ट्रीय समझौते को बढ़ावा देना है।

…………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………..

योजना-परियोजना

गुड समैरिटन योजना

चर्चा में क्यों?

  • केंद्र सरकार ने हाल ही में ‘गुड समैरिटन’ स्कीम की शुरुआत की है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • इस योजना के तहत जो कोई भी सड़क दुर्घटना के शिकार व्यक्ति को ‘गोल्डन ऑवर’ के भीतर अस्पताल ले जाकर भर्ती करवाएगा।
  • उसे सरकार द्वारा 5,000 रुपए का नकद इनाम दिया जाएगा।
  • इस संबंध में जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार, एक व्यक्ति को एक वर्ष में अधिकतम पांच बार पुरस्कार दिया जा सकता है।
  • इसमें प्रतिवर्ष 10 राष्ट्रीय स्तर के पुरस्कार भी होंगे, जिसके तहत उन लोगों को चुना जाएगा जिन्हें पूरे वर्ष के दौरान सम्मानित किया गया है और उनमें से प्रत्येक को 1 लाख रुपए का पुरस्कार दिया जाएगा।
  • इसके लिये योजना के प्रारंभिक दौर में केंद्र सरकार सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के परिवहन विभाग को 5 लाख रुपए प्रदान करेगी।
  • ‘गोल्डन ऑवर’ से तात्पर्य दुर्घटना के बाद की एक घंटे के समय से है जिसके अंतर्गत उपचार मिलने पर पीड़ित की जान बचाना काफी हद तक संभव होता है।

………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………….

रिपोर्ट/इंडेक्स

हेनले पासपोर्ट इंडेक्स-2021

हेनले पासपोर्ट इंडेक्स-2021में भारत को 90वां स्थान प्राप्त हुआ है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • ‘हेनले पासपोर्ट इंडेक्स’ (Henley Passport Index-2021) दुनिया के सबसे शक्तिशाली पासपोर्ट को प्रदर्शित करता है।
  • यह दुनिया के सभी पासपोर्टों की मूल रैंकिंग है, जो यह बताता है कि किसी एक विशेष देश का पासपोर्ट धारक कितने देशों में बिना पूर्व वीज़ा के यात्रा कर सकता है।

किसने की थी शुरूआत?

  • यह इंडेक्स हेनले एंड पार्टनर्स के अध्यक्ष डॉ. क्रिश्चियन एच. केलिन ने स्थापित किया था।
  • इसे वर्ष 2006 में लॉन्च किया गया था और इसमें 199 देशों के पासपोर्ट शामिल हैं।
  • इसकी रैंकिंग ‘इंटरनेशनल एयर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन’ (IATA) के विशेष डेटा पर आधारित है, जो अंतर्राष्ट्रीय यात्रा की जानकारी का दुनिया का सबसे बड़ा और सबसे सटीक डेटाबेस प्रदान करता है।

शीर्ष स्थानों पर कौन से देश हैं?

  • इस वर्ष की रैंकिंग में जापान और सिंगापुर को शीर्ष स्थान प्राप्त हुआ है तथा इन देशों के पासपोर्ट धारकों को 192 देशों में वीज़ा-मुक्त यात्रा करने की अनुमति है, जबकि दक्षिण कोरिया और जर्मनी दूसरे स्थान पर हैं।
  • यह लगातार तीसरी बार है जब जापान ने शीर्ष स्थान हासिल किया है।
  • वहीं इस रैंकिंग में अफगानिस्तान, इराक, सीरिया, पाकिस्तान और यमन सबसे कम शक्तिशाली पासपोर्ट वाले देश हैं।

भारत का प्रदर्शन

  • भारत इस रैंकिंग में 90वें स्थान पर पहुँच गया है और भारत के पासपोर्ट धारकों को कुल 58 देशों में वीज़ा-मुक्त यात्रा करने की अनुमति है।
  • भारत ताजिकिस्तान और बुर्किना फासो के साथ रैंक साझा कर रहा है।
  • जनवरी 2021 के सूचकांक में भारत 85वें, 2020 में 84वें और 2019 में 82वें स्थान पर था।

Related Posts

Quick Connect

Whatsapp Whatsapp Now

Call +91 8130 7001 56