Daily Current Affairs 9 December 2020

खेल परिदृश्य

ओलंपिक में जुड़े चार नए खेल

चर्चा में क्यों?

  • अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति (IOC) ने चार नए खेलों को ओलंपिक खेलों की सूची में शामिल किया है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • ब्रेकडांस समेत चार नए खेलों को अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (IOC) ने पेरिस में 2024 में होने वाले खेलों में शामिल कर लिया है।
  • शामिल किए गए नए खेल हैं- स्केटबोर्डिंग (Skateboarding,), स्पोर्ट क्लाइम्बिंग (sport climbing) और सर्फिंग (surfing ) ब्रेकडासिंग  (breaking)।
  • ब्रेकडासिंग ओलंपिक में ब्रेकिंग (breaking) के नाम से जाना जाएगा जैसा कि इसे सत्तर के दशक में अमेरिका में कहा जाता था।
  • युवा दर्शकों को आकर्षित करने के लिए आईओसी ने यह फैसला लिया है।
  • इन तीन खेलों को टोक्यो ओलंपिक में शामिल किया जाना था जो कोरोना वायरस महामारी के कारण एक साल के लिए स्थगित कर दिए गए।
  • आईओसी ने पेरिस खेलों में पदक स्पर्धाओं की संख्या टोक्यो की तुलना में 10 कम कर दी यानी अब वहां 329 पदक स्पर्धायें होंगी।
  • भारोत्तोलन की चार श्रेणियां कम कर दी गई है, इसके साथ ही 2024 में खिलाड़ियों का कोटा 10500 होगा जो टोक्यो ओलंपिक से 600 कम है।
  • प्रशासनिक अनियमितताओं को झेल रहे मुक्केबाजी और भारोत्तोलन से सबसे ज्यादा कटौती की गई है। पेरिस खेलों में भाारोत्तोलन में 120 खिलाड़ी होंगे जो रियो डि जिनेरियो की तुलना में आधे से भी कम है।

ओलंपिक में शामिल खेलों की सूची

  • तीरंदाजी, एथलेटिक्स, हॉकी, कुश्ती, घुड़सवार,शूटिंग,मुक्केबाज़ी,बैडमिंटन,टेनिस, टेबल टेनिस,सेलिंग

………………………………………………………………………..

कृषि, पर्यावरण एवं जैव विविधता

पेरिस समझौते के प्रावधानों को लागू कराने के लिए समिति का गठन

चर्चा में क्यों?

  • केंद्रीय पर्यावरण, वन व जलवायु परिवर्तन मंत्रालय भारत सरकार ने पेरिस समझौते के प्रावधानों को लागू कराने के लिए एक उच्च स्तरीय अंतरमंत्रालयी शीर्ष समिति (AIPA)  का गठन किया है।
  • इसका नेतृत्व मंत्रालय के सचिव को सौंपा गया है।
  •  इस समिति का गठन जलवायु परिवर्तन पर बातचीत चलाने के लिए भारत की गंभीरता की पुष्टि करने वाला एक और कदम है।
  • एआईपीए का लक्ष्य जलवायु परिवर्तन के मामलों पर एक समन्वित प्रयास करके देश में कार्बन उत्सर्जन को कम करने के लिए प्रयास करना है, जिससे भारत का राष्ट्रीय स्तर पर पेरिस समझौते के तहत अपने दायित्वों को पूरा करने की दिशा में निर्धारित योगदान देना सुनिश्चित हो सके।
  • इस समिति में 14 मंत्रालयों के वरिष्ठ अधिकारियों को रखा गया है। यह समिति प्रधानमंत्री के तहत काम करने वाली राष्ट्रीय परिषद के साथ मिलकर काम करेगी।
  • पेरिस समझौते के अनुच्छेद-6 के तहत एआईपीए भारतीय कार्बन बाजारों को विनियमित करने के लिए एक राष्ट्रीय प्राधिकरण की तरह काम करेगी।
  • इसमें अनुच्छेद-6 के दायरे में आने वाली परियोजनाओं या गतिविधियों के लिए गाइडलाइंस तैयार करना, कार्बन मूल्य निर्धारण के लिए गाइडलाइंस जारी करना, मार्केट मैकेनिज्म तैयार करना और एक ऐसा तंत्र विकसित करना, जिसका सीधे तौर पर जलवायु परिवर्तन और राष्ट्रीय विकास परिषद (NDC) पर असर पड़ता है।
  • यह समिति जलवायु परिवर्तन के क्षेत्र में निजी सेक्टर के साथ ही बहुपक्षीय व द्विपक्षीय एजेंसियों के योगदान पर भी ध्यान देगी और उन्हें अपने जलवायु से जुड़े कदमों को राष्ट्रीय प्राथमिकताओं के अनुरूप करने की राह दिखाएगी।

क्या है पेरिस समझौता?

  • पेरिस समझौता को जलवायु परिवर्तन और उसके नकारात्मक प्रभावों से निपटने के लिये वर्ष 2015 में अपनाया गया था।
  • इस समझौते का उद्देश्य वैश्विक ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को काफी हद तक कम करना है, ताकि इस सदी में वैश्विक तापमान वृद्धि को पूर्व-औद्योगिक स्तर (Pre-Industrial level) से 2 डिग्री सेल्सियस कम रखा जा सके।
  • इसके साथ ही आगे चलकर तापमान वृद्धि को और 1.5 डिग्री सेल्सियस रखने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।
  •  इन लक्ष्यों की प्राप्ति के लिये प्रत्येक देश को ग्रीनहाउस गैसों के अपने उत्सर्जन को कम करना होगा, जिसके संबंध में कई देशों द्वारा सराहनीय प्रयास भी किये गए हैं।
  • यह समझौता विकसित राष्ट्रों को उनके जलवायु से निपटने के प्रयासों में विकासशील राष्ट्रों की सहायता हेतु एक मार्ग प्रदान करता है।
  • अमेरिका इस समझौते से बाहर निकल गया है।

……………………………………………………………………….

चर्चित स्थल

ग्वालियर और ओरछा

चर्चा में क्यों?

  • मध्य प्रदेश के ऐतिहासिक  शहर ग्वालियर और ओरछा को यूनेस्को ने अपने ‘अर्बन लैंडस्केप सिटी प्रोग्राम’ (Urban landscape city programme) के तहत विश्व धरोहर शहरों की सूची में शामिल किया है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • यूनेस्को अब ग्वालियर और ओरछा के ऐतिहासिक स्थलों को बेहतर बनाने तथा उसकी खूबसूरती निखारने के लिए पर्यटन विभाग के साथ मिलकर मास्टर प्लान तैयार करेगा।
  • 2021 में यूनेस्को की टीम मध्य प्रदेश आएगी और यहां की धरोहर संपदा को देखकर मास्टर प्लान तैयार करेगी।
  • मध्य प्रदेश के बुंदेलखंड क्षेत्र में स्थित ओरछा अपने मंदिरों और महलों के लिए पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है।
  • ओरछा पूर्ववर्ती बुंदेला राजवंश की 16 वीं शताब्दी की राजधानी है।
  • ओरछा राज महल, जहांगीर महल, रामराजा मंदिर, राय प्रवीन महल, लक्ष्मीनारायण मंदिर एवं कई अन्य प्रसिद्ध मंदिरों और महलों के लिए विख्यात है।
  • वहीं, ग्वालियर भी मध्य प्रदेश का ऐतिहासिक नगर और प्रमुख शहर है।
  • नौवीं शताब्दी में स्थापित ग्वालियर गुर्जर प्रतिहार राजवंश, तोमर, बघेल, कछवाहों तथा सिंधिया राजवंश की राजधानी रहा है।
  • विश्व धरोहर शहरों की सूची में आने के बाद ग्वालियर के मानसिंह पैलेस, गूजरी महल और सहस्रबाहु मंदिर के अलावा अन्य धरोहरों का रासायनिक रूप से परिशोधन किया जाएगा।

……………………………………………………………………….

पुरस्कार/सम्मान

‘इन्वेस्ट इंडिया’ को संयुक्त राष्ट्र निवेश संवर्धन पुरस्कार 2020

चर्चा में क्यों?

  • व्यापार और विकास पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन (UNCTAD) ने ‘इन्वेस्ट इंडिया’ कैंपेन को संयुक्त राष्ट्र निवेश संवर्धन पुरस्कार 2020 (United Nations Investment Promotion Award) के लिए विजेता घोषित किया है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • यह पुरस्कार विश्व की निवेश संवर्धन एजेंसियों को उनकी उल्लेखनीय उपलब्धियों के लिए दिया जाता है।
  • पुरस्कार समारोह अंकटाड के मुख्यालय जिनेवा में हुआ।
  • यह पुरस्कार दुनिया के निवेश संवर्धन एजेंसियों की उल्लेखनीय उपलब्धियों को प्रतिबिंबित करता है।
  • यह अंकटाड के 180 राष्ट्रीय निवेश संवर्धन एजेंसियों के कामकाज और गतिविधियों के आकलन पर आधारित है।

व्यापार और विकास पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन (UNCTAD)

  • व्यापार और विकास पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन ( UNCTAD) की स्थापना 1964 में  की गई थी।
  • यह संयुक्त राष्ट्र का एक स्थायी अंतर सरकारी निकाय है।
  • अंकटाड का उद्देश्य अल्पविकसित देशों के तीव्र आर्थिक विकास हेतु अंतर्राष्ट्रीय व्यापार को प्रोत्साहित करना, व्यापार व विकास नीतियों का निर्माण एवं इनका क्रियान्वयन करना, व्यापार व विकास के सम्बंध में संयुक्त राष्ट्र संघ की विभिन्न संस्थाओं के मध्य समन्वय की समीक्षा व संवर्द्धन करना तथा सरकारों एवं क्षेत्रीय आर्थिक समूहों की व्यापार व विकास नीतियों में सामंजस्य लाना है।
  • इसका मुख्यालय जिनेवा, स्विट्ज़रलैंड में है।
  • मुखीसा कितूयी इसके वर्तमान महासचिव हैं।

इसके द्वारा प्रकाशित प्रमुख रिपोर्ट हैं:

  • विश्व निवेश रिपोर्ट (World Investment Report)
  • व्यापार और विकास रिपोर्ट (Trade and Development Report)
  • प्रौद्योगिकी एवं नवाचार रिपोर्ट (Technology and Innovation Report)
  • वस्तु तथा विकास रिपोर्ट (Commodities and Development Report)
  • न्यूनतम विकसित देश रिपोर्ट (The Least Developed Countries Report)
  • सूचना एवं अर्थव्यवस्था रिपोर्ट (Information and Economy Report)

………………………………………………………………………..

खेल परिदृश्य

पार्थिव पटेल ने क्रिकेट से लिया संन्यास

महत्वपूर्ण बिंदु

  • 17 साल की उम्र में भारत के लिए डेब्यू करने वाले विकेटकीपर बल्लेबाज पार्थिव पटेल ने इंटरनेशनल क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से संन्यास की घोषणा की है।
  • पार्थिव पटेल ने जब भारत के लिए डेब्यू किया था तब उनकी उम्र महज 17 साल 153 दिन थी।
  • वह भारत के सबसे युवा विकेटकीपर रहे हैं।
  • 35 वर्षीय पार्थिव पटेल ने भारत के लिए 25 टेस्ट, 38 वनडे इंटरनेशनल और दो टी20 मैच खेले हैं।
  •  घरेलू क्रिकेट के 194 मैचों में उन्होंने गुजरात का प्रतिनिधित्व किया।

………………………………………………………………………..

विज्ञान प्रौद्योगिकी

भारत में 2021 तक 5G कनेक्टिविटी

चर्चा में क्यों?

  • इंडियन मोबाइल कॉन्ग्रेस (IMC)के दौरान रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने कहा कि रिलायंस जियो भारत में 2021 के मध्य तक भारत में 5G नेटवर्क उपलब्ध हो सकता है।

5जी तकनीक क्या है?

  • 5जी या फिफ्थ जेनरेशन, ब्रॉडबैंड सेल्युलर नेटवर्क की वह तकनीक है जो आगे चलकर मौजूदा सबसे तेज सेल्युलर इंटरनेट कनेक्टिविटी यानी 4-जी (fourth generation Long-Term Evolution) की जगह लेगी।
  • सेल्युलर नेटवर्क की पिछली पीढ़ियों का जिक्र करें तो 1-जी वायरलेस तकनीक से जहां खरखराहट भरी आवाजों के जरिए संवाद संभव हो पाया था, वहीं 2-जी के जरिये पहली बार स्पष्ट आवाज के साथ एसएमएस सरीखी बेसिक डेटा ट्रांसफर सर्विस मिली और मोबाइल इंटरनेट की शुरूआत हुई थी।
  • 3-जी के साथ इंटरनेट पर तमाम तरह का एडवांस्ड कम्युनिकेशन जैसे कि वेबसाइट्स को एक्सेस करना, वीडियो देखना, म्यूजिक सुनना और मेल करना आदि संभव हुआ, और 4-जी-एलटीई ने इसे तेज रफ्तार बनाया।
  • अब 5जी तकनीक के साथ एक नए तरह की वायरलेस कनेक्टिविटी का समय शुरू होने जा रहा है जिसकी स्पीड इतनी होगी कि घटनाओं के घटने और उनकी सूचना पहुंचने के बीच लगने वाला समय यानी लेटेंसी न के बराबर होगी।
  • 5जी के माध्यम से न सिर्फ अभी की तरह लोग आपस में जुड़े होंगे बल्कि डिवाइसेज और मशीनें भी आपस में कनेक्ट होंगी और आपस में लगभग रियल टाइम में संवाद कर सकेंगी।
  • यानी, आने वाले समय में घर, कार, मोबाइल और घरेलू उपकरणों जैसी तमाम चीजों के आपस में कनेक्ट होने वाले जिस स्मार्ट युग की शुरुआत हो सकती है।

………………………………………………………………………..

रिपोर्ट/इंडेक्स

अर्बन गवर्नेंस इंडेक्स

चर्चा में क्यों?

  • प्रजा फाउंडेशन ने अर्बन गवर्नेंस इंडेक्स (Urban Governance Index) जारी किया है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • इसके तहत कुल चार रैंकिंग जनप्रतिनिधियों के अधिकारों, स्थानीय शहरी प्रशासन की शक्तियों और नागरिक अधिकारों की रैंकिंग भी जारी की गई है।
  • अर्बन गवर्नेंस सूची में राजधानी दिल्ली समेत देश के कुल 29 शहर शामिल हैं। इसमें दिल्ली का 13वां स्थान है, जबकि पहले स्थान पर ओडिशा और दूसरे स्थान पर महाराष्ट्र है।
  • प्रजा फाउंडेशन ने अर्बन गवर्नेंस सूची में दिल्ली को 100 में से कुल 33.80 नंबर दिए गए हैं।
  • इस तरह जनप्रतिनिधियों को मिले अधिकारों के मामले में दिल्ली 21वें नंबर पर है।
  • इस सूची में केरल पहले और छत्तीसगढ़ दूसरे नंबर पर है।
  • इसी तरह शहरी प्रशासन की शक्तियों की दृष्टि से भी दिल्ली 21वें नंबर हैं।
  • हालांकि नागरिक अधिकारों के मामलों में दिल्ली की स्थिति अपेक्षाकृत बेहतर है।
  • कुल 29 शहरों की सूची में दिल्ली को 8वां स्थान मिला है।
  • नागरिक अधिकारों को जनता के लिए शहरी प्रशासन संबंधी आंकड़ों की सुलभता, जनशिकायतों के निस्तारण के लिए सक्रिय तंत्र, औपचारिक और सक्रिय नागरिक परामर्श तंत्र की मौजूदगी सरीखे पैमाने पर मापा गया।
  • नागरिक अधिकारों की रैंकिंग में महाराष्ट्र दूसरे और छत्तीसगढ़ तीसरे नंबर पर रहा।
  • अर्बन गवर्नेंस में वित्तीय शक्तियों की महत्ता को देखते हुए इसकी भी रैंकिंग जारी की गई है।
  • इस सूची में दिल्ली 7वें नंबर पर है, जबकि पहले नंबर पर संयुक्त रुप से केरल और महाराष्ट्र है।

………………………………………………………………………..

Related Posts

Leave a Reply