Daily Current Affairs 5 October 2020

रक्षा विकास एवं अनुसंधान

शौर्य मिसाइल का नया संस्करण

चर्चा में क्यों?

  • भारत ने ‘शौर्य’ हाल ही में मिसाइल के नए वर्जन का सफलतापूर्वक टेस्‍ट कर लिया है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • शौर्य मिसाइल का नया संस्करण हल्का है और आसानी से ऑपरेट किया जा सकता है।
  • यह लगभग करीब 800 किलोमीटर दूर तक टारगेट को ध्‍वस्‍त कर सकती है।
  • यह जमीन से जमीन (Surface To Surface) में मार करने वाली मिसाइल है।
  • यह अपने साथ न्‍यूक्लियर पेलोड ले जा सकती है।
  • यह पनडुब्‍बी से लॉन्‍च की जाने वाली बैलिस्टिक मिसाइल का जमीनी रूप है।
  • टू-स्‍टेज रॉकेट वाली यह मिसाइल 40 किलोमीटर की ऊंचाई तक पहुंचने से पहले आवाज की छह गुना रफ्तार से चलती है। उसके बाद यह टारगेट की ओर बढ़ती है।
  • यह मिसाइल ठोस ईंधन से चलती है लेकिन क्रूज मिसाइल की तरफ खुद को टारगेट तक गाइड कर सकती है।
  • मिसाइल की रफ्तार इतनी तेज है कि सीमा पार बैठे दुश्‍मन के रडार को इसे डिटेक्‍ट, ट्रैक करने और इंटरसेप्‍ट करने के लिए 400 सेकेंड्स से भी कम का वक्‍त मिलेगा।
  • इसे कम्‍पोजिट कैनिस्‍टर में स्‍टोर किया जा सकता है यानी आसानी से छिपाकर ले जाया जा सकता है।

………………………………………………………………………………………………………………………

स्मार्ट मिसाइल

चर्चा में क्यों?

  • रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने 5 अक्टूबर 2020 को टॉरपीडो,  सुपरसोनिक मिसाइल असिस्टेड रिलीज (Supersonic Missile assisted release of Torpedo, SMART) का ओडिशा के व्हीलर द्वीप से सफलतापूर्वक परीक्षण किया है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • यह पनडुब्बी रोधी युद्ध में स्टैंड-ऑफ क्षमता के लिए एक प्रमुख प्रौद्योगिकी सफलता साबित होगी।
  • यह मिसाइल पारंपरिक टारपीडो रेंज से परे एंटी-सबमरीन वारफेयर (ASW) संचालन के लिए उपयोगी है।
  • यह प्रक्षेपण और प्रदर्शन पनडुब्बी रोधी युद्ध क्षमता स्थापित करने में महत्वपूर्ण है।

………………………………………………………………………………………………………………………

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी

एस.एस. कल्पना चावला

चर्चा में क्यों?

  • नासा ने भारतीय मूल की पहली महिला अंतरिक्ष यात्री कल्पना चावला के नाम वाले स्पेसशिप की 3 अक्टूबर 2020 को सफल लांचिंग की। महत्वपूर्ण बिंदु

महत्वपूर्ण बिंदु

  • 3 अक्टूबर 2020 को अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (ISS) के लिए एक वाणिज्यिक कार्गो अंतरिक्ष यान भेजा गया।
  • एस.एस. कल्पना चावला को मिड-अटलांटिक रीजनल स्पेसपोर्ट (MARS) से वर्जीनिया में नासा की वॉलॉप्स फ़्लाइट फैसिलिटी से लांच किया गया।
  • इसका नामकरण भारतीय मूल की अंतरिक्ष यात्री कल्पना चावला के नाम पर किया गया है।
  • कल्पना चावला को मानव अंतरिक्ष यान में उनके महत्वपूर्ण योगदान के लिए अंतरिक्ष में प्रवेश करने वाली पहली भारतीय महिला के तौर पर सम्मान देते हुए नासा ने यह नाम दिया है।
  •  अंतरिक्ष यान, एक नार्थरोप ग्रुमैन साइग्नस पर दो दिन बाद अंतरिक्ष स्टेशन पर पहुंचेगा और उससे जुड़ेगा। एनजी -14 मिशन पर एस.एस. कल्पना चावला स्पेसशिप अंतरिक्ष  स्टेशन पर लगभग 3,630 किलोग्राम सामान पहुंचाएगी।
  • इस स्पेसशिप पर सवार फ्लाइंग रिसर्च में एक जैविक दवा का परीक्षण शामिल है, जिसका उपयोग ल्यूकेमिया के इलाज के लिए किया जा सकता है, एक पौधे की वृद्धि का अध्ययन जो अंतरिक्ष में भविष्य की फसलों के लिए एक मॉडल के रूप में मूली की खेती करेगा।

कल्पना चावला से संबंधित महत्वपूर्ण बिंदु

  • कल्पना चावला का जन्म 17 मार्च, 1962 को हरियाणा के करनाल में हुआ था।
  • 1982 में उन्होंने पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज से वैमानिक इंजीनियरिंग की डिग्री प्राप्त की।
  • इसके बाद वह आगे की पढ़ाई के लिए अमेरीका चली गईं, जहाँ 1984 में टेक्सस विश्विद्यालय से उन्होंने अंतरिक्ष वैमानिकी में मास्टर्स की डिग्री हासिल की।
  •  इसके बाद इसी विषय में 1988 में उन्होंने अमेरिका के ही कोलोराडो विश्विद्यालय से डॉक्टरेट किया।
  • वह 1988 में अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी, नासा से जुड़ीं।
  • 19 नवंबर 1997 को वह दिन आया जब करनाल की बेटी कल्पना चावला ने अंतरिक्ष में भारत का नाम रोशन किया।
  • नासा के जनवरी 2003 के अभियान एसटीएस-107 के लिए कल्पना को मिशन विशेषज्ञ के रूप में अंतरिक्ष प्रयोगों के लिए चुना गया था।
  • इस मिशन के तहत 16 जनवरी, 2003 में कोलंबिया नामक अंतरिक्ष यान कल्पना चावला सहित सात अंतरिक्ष यात्रियों को लेकर अंतरिक्ष के लिए रवाना हुआ था।
  • लेकिन एक फरवरी, 2003 को अमरीका के कैनेडी अंतरिक्ष केंद्र पर उतरने से पहले अमरीकी अंतरिक्ष यान कोलंबिया दुर्घटनाग्रस्त हो गया।
  • इस हादसे में भारतीय मूल की कल्पना चावला सहित सातों अंतरिक्ष यात्रियों की मौत हो गई थी।

………………………………………………………………………………………………………………………

बंगसागर युद्धाभ्यास

चर्चा में क्यों?

  • भारत और बांग्लादेश की नौसेनाओं के बीच दूसरा द्विपक्षीय अभ्यास ‘बंगसागर’ उत्तरी बंगाल की खाड़ी में 3 अक्टूबर से शुरू हो रहा है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • दोनों देशों की नौसेनाओं के बीच यह अभ्यास पहली बार 2019 में हुआ था।
  • इसका उद्देश्य अनुभवों को परस्पर साझा करना तथा विभिन्न अभियानों के दौरान तालमेल विकसित करना है।
  • अभ्यास के दौरान दोनों नौसेनाओं के समुद्रीपोत युद्धसंबंधी ड्रिल और हेलिकॉप्टर अभियानों में हिस्सा लेंगी।
  •  इसके बाद ये चार और पांच अक्टूबर को उत्तरी बंगाल की खाड़ी में तीसरे समन्वित गश्त ‘कोरपेट’ में भी शामिल होंगी।
  • इस दौरान ये अंतर्राष्ट्रीय समुद्री सीमा लाइन पर संयुक्त गश्त करेंगी।
  • इस पहल से दोनों नौसेनाओं के बीच परस्पर समझ बढी है और गैर कानूनी गतिविधियों को रोकने के उपायों पर भी एकमत हुई हैं।
  • अभ्यास में नौसेना का देश में ही बना फ्रिगेट आईएनएस किलतान (INS Kiltan) और आईएनएस खुखरी (INS Khukri) भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे।
  • इसके अलावा दोनों नौसेनाओं के समुद्री गश्त लगाने वाले विमान तथा एकीकृत हेलीकॉप्टर भी अभ्यास में हिस्सा लेंगे।
  • वहीं बांग्लादेश की तरफ से बीएनएस अबू बक्र (BNS Abu Bakr) और बीएनएस प्रेटॉय (BNS Prottoy) इस अभ्यास में भाग ले रहे हैं।

………………………………………………………………………..

समारोह/सम्मेलन

वैश्विक भारतीय वैज्ञानिक (वैभव) सम्मेलन 2020

चर्चा में क्यों?

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2 अक्टूबर, 2020 को दिल्ली में वैश्विक भारतीय वैज्ञानिक (वैभव) सम्मेलन का वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से उद्घाटन किया। सम्मेलन का समापन 31 अक्टूबर, 2020 को होगा।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • इस सम्मेलन का उद्देश्य समग्र विकास के समक्ष उभरती नई चुनौतियों का मुकाबला करने के लिए वैश्विक भारतीय शोधकर्ताओं के ज्ञान और उनकी विशेषज्ञता की मदद से एक समग्र खाका तैयार करना।
  • वैभव सम्मेलन एक वर्चुअल सम्मेलन है, जिसमें भारतीय और भारतीय मूल के प्रवासी अनुसंधानकर्ता तथा शिक्षाविद हिस्सा ले रहे हैं।
  • वैभव सम्मेलन भारत सरकार के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार के नेतृत्व में 200 भारतीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी और शैक्षिक संस्थानों द्वारा आयोजित किया जा रहा है।

……………………………………………………………………….

रिपोर्ट/इंडेक्स

डेटा गवर्नेंस क्वालिटी इंडेक्स

चर्चा में क्यों?

  • हाल ही में जारी ‘डेटा गवर्नेंस क्वालिटी इंडेक्स’ (Data Governance Quality Index- DGQI) की रिपोर्ट जारी की गई।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • इंडेक्स में केंद्रीय रसायन और उर्वरक मंत्रालय  के तहत आने वाले उर्वरक विभाग को 16 आर्थिक मंत्रालयों/विभागों में दूसरा स्थान प्राप्त हुआ है।
  • रिपोर्ट में उर्वरक विभाग को कुल 5 में से 4.11 अंक प्राप्त हुए।
  • इसके साथ ही उर्वरक विभाग को इस सर्वेक्षण रिपोर्ट में 65 मंत्रालयों/विभागों में तीसरा स्थान प्राप्त हुआ है।
  • यह सर्वेक्षण नीति आयोग (NITI Aayog) के विकास निगरानी और मूल्यांकन कार्यालय (Development Monitoring and Evaluation Office- DMEO) द्वारा संचालित किया गया था।

क्या है डेटा गवर्नेंस क्वालिटी इंडेक्स?

  • डेटा गवर्नेंस क्वालिटी इंडेक्स नीति आयोग (NITI Aayog) के विकास निगरानी और मूल्यांकन कार्यालय का विभिन्न मंत्रालयों/विभागों के डेटा तैयारियों के स्तर की स्व-मूल्यांकन आधारित समीक्षा है।
  • इसके लिये एक मानकीकृत ढाँचे पर विभिन्न मंत्रालयों/विभागों द्वारा डेटा तैयारी के आकलन के लिये एक सर्वेक्षण शुरू किया गया।
  • सर्वेक्षण के दौरान मंत्रालयों/विभागों को छह श्रेणियों (प्रशासनिक, सामरिक, अवसंरचना, सामाजिक, आर्थिक और वैज्ञानिक) में विभाजित किया गया था।
  • इस सर्वेक्षण के लिये DGQI ने छह प्रमुख विषयों के तहत एक ऑनलाइन प्रश्नावली तैयार की थी।
  • इस सर्वेक्षण के दौरान कुल 65 मंत्रालयों/विभागों से 250 CS/CSS योजनाओं के अनुपालन के संबंध में जानकारी एकत्रित की गई।

………………………………………………………………………..

पुरस्कार/ सम्मान

राइट लाइवलीहुड अवार्ड 2020

चर्चा में क्यों?

  • स्वीडन के स्टॉकहोम में हर साल राइट लाइवलीहुड अवार्ड फाउंडेशन (Right Livelihood Award Foundation) उन लोगों को सम्मानित करता है जो दुनिया को बेहतर बनाने के लिए कार्य करने वालों में सबसे ऊपर हैं।
  • 2020 के लिए यह पुरस्कार बेलारूस, ईरान, निकारागुआ और संयुक्त राज्य अमेरिका के कार्यकर्ताओं को यह अवार्ड दिया गया है।
  • ईरानी वकील, नसरीन सोतौडेह (Nasrin Sotoudeh) को यह पुरस्कार “ईरान में राजनीतिक स्वतंत्रता और मानवाधिकारों को बढ़ावा देने के लिए, व्यक्तिगत निडर जोखिम में, निडर सक्रियता के लिए” दिया गया है।
  • अमेरिकी नागरिक अधिकार वकील ब्रायन स्टीवेन्सन (Bryan Stevenson) ने “आपराधिक आघात के विरोध में अमेरिकी आपराधिक न्याय प्रणाली में सुधार और नस्लीय सुलह के अग्रिम प्रयास के लिए” प्रेरक प्रयास के लिए पुरस्कार जीता।
  • निकारागुआ के 61 वर्षीय अधिकारों और पर्यावरण कार्यकर्ता लोट्टी कनिंघम वारेन (Lottie Cunningham Wren) ने “शोषण और लूट से स्वदेशी भूमि और समुदायों की सुरक्षा के लिए अपने समर्पण के लिए” जीता।
  • 58 वर्षीय मानवाधिकार कार्यकर्ता एलेस बालियात्स्की (Ales Bialiatski) और गैर-सरकारी संगठन ह्यूमन राइट्स सेंटर वियना की प्रमुख, जिन्होंने “बेलारूस में लोकतंत्र और मानव अधिकारों की प्राप्ति के लिए अपने दृढ़ संघर्ष के लिए” जीता।
  • हालांकि राइट लाइवलीहुड अवार्ड को “वैकल्पिक नोबेल पुरस्कार” के रूप में प्रचारित किया जाता है, लेकिन यह नोबेल पुरस्कार नहीं है। नोबेल पुरस्कार या नोबेल फाउंडेशन के पुरस्कृत संस्थानों में इसका कोई संगठनात्मक संबंध नहीं है।

………………………………………………………………………………………………………………………

नोबेल पुरस्कार: 2020

मेडिसिन के क्षेत्र में नोबल पुरस्‍कार की घोषणा

चर्चा में क्यों?

  • स्‍वीडन के स्‍टॉकहोम शहर में मेडिसिन के क्षेत्र में नोबल पुरस्‍कार की घोषणा कर दी गई है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • मेडिसिन का नोबेल पुरस्‍कार इस साल हार्वे अल्‍टर (Harvey Alter), माइकल हॉफटन (Michael Houghton) और चार्ल्‍स राइस ( Charles Rice) को दिया गया है।
  • इन वैज्ञानिकों को हेपटाइटिस सी (hepatitis c) वायरस की खोज के लिए दिया गया है। अल्‍टर और चार्ल्‍स राइस जहां अमेरिका से हैं वहीं माइकल हॉफटन ब्रिटेन के वैज्ञानिक हैं।
  • इन वैज्ञानिकों को करीब 11 लाख 20 हजार डॉलर की धनराशि दी गई है।
  • नोबल पुरस्‍कार देने वाली संस्‍था ने कहा कि इस साल यह पुरस्‍कार खून से पैदा होने वाले हेपटाइटिस से लड़ाई में योगदान देने के लिए तीनों वैज्ञानिकों को द‍िया गया है।
  •  संस्‍था ने कहा कि इस हेपटाइटिस से दुनियाभर में बड़ी संख्‍या में लोगों को सिरोसिस और लीवर कैंसर होता है। तीनों ही वैज्ञानिकों ने एक नोवल वायरस की खोज में मूलभूत खोज की जिससे हेपटाइटिस सी की पहचान हो सकी।
  • नोबेल पुरस्कार नोबेल फाउंडेशन द्वारा दिया जाता है। यह स्वीडन के वैज्ञानिक अल्फ्रेड बनार्ड नोबेल (Alfred Nobel) की याद में दिया जाता है।
  • अल्फ्रेड बनार्ड नोबेल द्वारा दी गई राशि स्वीडिश बैंक में जमा है और इस पर जो ब्याज बनता है उससे हर साल नोबेल फाउंडेशन नोबेल पुरस्कार देता है।
  • पहला नोबेल शांति पुरस्कार 1901 में शांति के लिए दिया गया था।

………………………………………………………………………………………………………………………

Related Posts