Daily Current Affairs 6 August 2020

नियुक्ति/निर्वाचन

जम्मू-कश्मीर के नए उप राज्यपाल होंगे मनोज सिन्हा

चर्चा में क्यों?

  • गिरीश चन्द्र मुर्मू के त्यागपत्र देने के बाद मनोज सिन्हा को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने केन्द्रशासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर का नया उपराज्यपाल नियुक्त किया है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • गिरीश चन्द्र मुर्मू ने 5 अगस्त 2020 को अपने पद से त्यागपत्र दे दिया था।
  • गिरीश चन्द्र मुर्मू ने इस्तीफ़ा ऐसे दिन दिया जब जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 को निरस्त किए जाने और उसे दो केन्द्रशासित प्रदेशों में विभाजित करने का ठीक एक साल पूरा हुआ।
  • पूर्व आईएएस अधिकारी गिरीश चंद्र मुर्मू को पिछले वर्ष 29 अक्तूबर को राज्यपाल सत्यपाल मलिक को गोवा स्थानांतरित किए जाने के बाद जम्मू-कश्मीर का उपराज्यपाल बनाया गया था।
  • मनोज सिन्हा 1996, 1999, 2014  में उत्तर प्रदेश की गाजीपुर सीट से सांसद चुने गए। 2014  से 19 के बीच वह केन्द्र सरकार में रेल राज्यमंत्री भी रहे।

……………………………………………………………………………………………………………………………………..

चर्चित स्थान

अयोध्या

चर्चा में क्यों?

  • 5 अगस्त 2020 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अयोध्या में ‘श्री राम जन्मभूमि मंदिर’ के निर्माण हेतु भूमि पूजन किया।

महत्वूर्ण बिंदु

  • उल्लेखनीय है कि 9 नवंबर 2019 को सुप्रीम कोर्ट ने 1885 से चले आ रहे विवाद का पटाक्षेप करते हुए 2.77 एकड़ की पूरी विवादित जमीन राम जन्मभूमि न्यास को देने का आदेश देते हुए सुन्नी वक्फ बोर्ड को अयोध्या में 5 एकड़ की वैकल्पिक जमीन देने का फैसला दिया।
  • भावी मंदिर का डिजाइन वास्तुकार निखिल सोमपुरा ने तैयार किया है।
  • राममंदिर निर्माण का कार्य लार्सन एंड टुब्रो कंपनी ही कराएगी।

………………………………………………………………………………………………………………………………………………

कृषि पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी

देश का पहला हिम तेंदुआ संरक्षण केंद्र

चर्चा में क्यों?

  • देश का पहला हिम तेंदुआ संरक्षण केंद्र उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले की भैंरो घाटी में लंका नाम की जगह पर बनेगा।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • उत्तराखंड में हिम तेंदुओं के आवासीय क्षेत्रों के संरक्षण के लिए सिक्योर हिमालय (Secure Himalaya) के तहत 2017 में परियोजना शुरू की गई थी।
  • भारतीय वन्य जीव संस्थान (WII)  के वैज्ञानिकों के मुताबिक पूरे देश में इस समय करीब 586 हिम तेंदुए हैं।
  • आवासीय क्षेत्र संरक्षण के तहत ही प्रदेश में हिम तेंदुओं के लिए संरक्षण केंद्र बनाने का फैसला लिया गया था।
  • यह केंद्र नीदरलैंड के सहयोग से बनाया जा रहा है। इसके साथ ही गंगोत्री क्षेत्र में भी देवदार नेचर ट्रेल का विकास करने की भी योजना है।

हिम तेंदुओं से संबंधित महत्पूर्ण तथ्य

  • इसे IUCN की सुभेद्य (Vulnerable) तथा भारतीय वन्यजीव (संरक्षण) अधिनियम 1972 की अनुसूची 1 में रखा गया है।
  • इसे CITES और प्रवासी प्रजातियों पर सम्मेलन (CMS) के परिशिष्ट I में सूचीबद्ध किया गया है।
  • यह हिमाचल प्रदेश का राजकीय पशु है।
  • हिम तेंदुआ इतने कम दिखाई देते हैं कि उन्हें घोस्ट ऑफ माउंटेन कहा जाता है।
  • प्रदेश में हिम तेंदुआ 3000 लेकर 4500 मीटर की ऊंचाई में नंदा देवी जैव विविधता क्षेत्र, गंगोत्री नेशनल पार्क, अस्कोट वाइल्ड लाइफ सेंचुरी आदि क्षेत्रों में पाए जाते हैं।

भारत द्वारा हिम तेंदुए के संरक्षण के लिए शुरू किये गए अन्य प्रयास:

  • प्रोजेक्ट स्नो लेपर्ड- यह तेंदुए के संरक्षण के लिये समावेशी और भागीदारीपूर्ण दृष्टिकोण को बढ़ावा देता है जिसमें पूरी तरह से स्थानीय समुदाय शामिल होता है।
  • सिक्योर हिमालय- GEF तथा UNDP द्वारा जैव विविधता के संरक्षण और प्राकृतिक पारिस्थितिकी तंत्र पर स्थानीय समुदायों की निर्भरता को कम करने के लिये इस परियोजना का वित्तपोषण किया जा रहा है।
  • यह परियोजना अब चार हिम तेंदुए रेंज राज्यों, जम्मू और कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, और सिक्किम में चालू है

…………………………………………………………………………………………………………………………………………….

भारत एवं विश्व

भारत- संयुक्त राष्ट्र विकास भागीदारी कोष

चर्चा में क्यों?

  • भारत ने भारत- संयुक्तराष्ट्र विकास भागीदारी कोष (ndia-UN Development Partnership Fund) में 1.54 करोड़ डालर का योगदान किया है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • संयुक्तराष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि राजदूत टीएस तिरुमूर्ति ने 1 करोड़ 54 लाख 60 हजार डालर का चेक दक्षिण- दक्षिण सहयोग (South-south Cooperation (UNOSSC) के संयुक्तराष्ट्र कार्यालय के निदेशक जोर्गे चेदिक को भेंट किया।
  • जोर्गे चेदिक को सौंपी गई इस राशि में 60 लाख डालर सकल कोष के लिये दिये गये हैं जिसमें कि सभी विकासशील देश भागीदारी के पात्र हैं। वहीं 94.60 लाख डालर राष्ट्रकुल देशों को दिये गये हैं।
  • भारत- संरा विकास भागीदारी कोष का काम संयुक्तराष्ट्र के दक्षिण -दक्षिण सहयोग कार्यालय (UNOSSC) द्वारा संभाला जाता है।
  • वर्ष 2017 में इस कोष की स्थापना के बाद से अब तक 55 परियोजनाओं और प्रस्तावों को मंजूरी दी जा चुकी है।

दक्षिण-दक्षिण सहयोग क्या है?

  • दक्षिण-दक्षिण सहयोग से अर्थ दुनिया के विकासशील देशों में तकनीकी सहयोग से है जिसके ज़रिए सदस्य देश, अंतर्राष्ट्रीय संगठन, शिक्षाविद्, नागरिक समाज और निजी सेक्टर आपस में मिलकर काम करते हैं और ज्ञान, कौशल और सफल उपक्रमों को साझा करते हैं।
  • यह सहयोग मुख्य रूप से कृषि विकास, मानवाधिकार, शहरीकरण, स्वास्थ्य, जलवायु परिवर्तन जैसी चुनौतियों पर केंद्रित है।
  • 18 सितंबर, 1978 को संयुक्त राष्ट्र के 138 सदस्य देशों ने अर्जेंटीना में ‘ब्यूनस आयर्स प्लान ऑफ़ एक्शन’ (BAPA) को पारित किया जो विकासशील देशों में तकनीकी सहयोग बढ़ाने के नज़रिए से किया गया था।
  • इस योजना के माध्यम से अल्प विकसित देशों – दक्षिणी गोलार्द्ध में स्थित अधिकांश देश – के आपस में मिल जुलकर काम करने का रास्ता भी तैयार हुआ।
  • बापा के तहत नई और ठोस अनुशंसाएं भी जारी की गईं जिसका उद्देश्य राष्ट्रीय, क्षेत्रीय और अंतर-क्षेत्रीय स्तरों पर सहयोग के लिए क़ानूनी रूपरेख़ा और वित्तीय प्रक्रियाओं को स्थापित करना था।

“उत्तर” और “दक्षिण” के विभाजन से तात्पर्य

  • “उत्तर” और “दक्षिण” के विभाजन से तात्पर्य सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक विभिन्नताओं से है जो विकसित देशों (उत्तरी गोलार्द्ध में स्थित देश) और विकासशील देशों (दक्षिणी गोलार्द्ध में स्थित देश) में मौजूद हैं।
  • हालांकि उच्च आय वाले अधिकतर देश उत्तरी गोलार्द्ध में स्थित हैं लेकिन यह मुख्य रूप से वास्तविक भौगोलिक स्थिति पर ही निर्भर नहीं करता।
  • किसी देश को उत्तर या दक्षिण, उसके स्थान की वजह से नहीं बल्कि कुछ निश्चित आर्थिक कारणों और वहां जीवन की गुणवत्ता के आधार पर कहा जाता है।
  • उत्तर-दक्षिण सहयोग सबसे पारंपरिक सहयोग रहा है और तब होता है जब एक विकसित देश आर्थिक रूप से कम विकसित देश को सहायता प्रदान करता है. जैसे प्राकृतिक या मानवीय आपदा के समय में वित्तीय मदद।

……………………………………………………………………………………………………………………………………………..

दिन/दिवस

6 अगस्त:हिरोशिमा दिवस

चर्चा में क्यों?

  • इस साल हिरोशिमा-नागासाकी में परमाणु हमले की 75 वीं वर्षगांठ है।
  • 6 अगस्त 1945 को अमेरिका ने जापान के शहर हिरोशिमा पर परमाणु बम गिराया था। इसके तीन दिन के बाद 9 अगस्त को नागासाकी पर एक और बम गिराया। इसमें लाखों लोग मारे गए, जबकि लाखों प्रभावित हुए। वहीं, हमले के बाद कई लोग रेडियोएक्टिव ‘काली बारिश’ की चपेट में भी आए।
  • इसी स्मृति में हर साल 6 अगस्त को हिरोशिमा दिवस मनाया जाता है।
  • इस हमले से प्रभावित लोगों को जापान में फ्री मेडिकल ट्रीटमेंट दिया जाता है, जिन्हें जापान में ‘हिबाकुशा’ के नाम से जाना जाता है।

अमेरिका ने हिरोशिमा और नागासाकी पर बम क्यों गिराया?

  • द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान 7 दिसंबर 1941 को जापान के युद्धक विमानों ने पर्ल हार्बर में मौजूद अमेरिकी बेस का ज्यादातर हिस्सा तबाह कर दिया। इस हमले में हजारों सैनिकों की मौत हुई। इसके अगले ही दिन अमेरिका ने दूसरे विश्वयुद्ध में उतरने का एलान कर दिया।
  • साल 1942 में अगस्त के महीने में अमेरिका ने आधिकारिक रूप से परमाणु बम बनाने के लिए एक बेहद खुफिया कार्यक्रम का फैसला किया। इस प्रोजेक्ट का नाम बाद में मैनहटन प्रोजेक्ट रखा गया।
  • 16 जुलाई को न्यू मेक्सिको के अलामोगोर्दो के पास सुबह 5.30 बजे ट्रिनिटी टेस्ट किया गया। इस टेस्ट में परमाणु बम की ताकत समझ में आई और परमाणु युग की शुरुआत हो गई।
  • “ट्रिनिटी टेस्ट” के सफल होने के बाद 25 जुलाई को तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति हेनरी ट्रूमैन ने जापान पर परमाणु बम गिराने के मिशन को मंजूरी दे दी।
  • 26 जुलाई को पोट्सडाम घोषणा के बाद ब्रिटेन, चीन और अमेरिका ने जापान को चेतावनी दी कि वो या तो समर्पण करे या फिर “तुरंत और पूर्ण विनाश का” सामना करे।
  • जापान ने इस चेतावनी की अनदेखी करने का फैसला किया हालांकि इसके लिए “मोकुसात्सु” शब्द का प्रयोग किया गया जिसका मतलब है “नो कमेंट।”
  • 6 अगस्त को सुबह 8.15 बजे अमेरिकी बी29 बॉम्बर “इनोला गे” ने 9000 पाउंड का परमाणु बम लिटल बॉय (Little Boy) हिरोशिमा पर गिराया। दिसंबर के महीने तक इसकी वजह से 1लाख 40 हजार लोगों की मौत हो गई।
  • 9 अगस्त को अमेरिका ने दूसरा परमाणु बम फैट मैन (Fat Man) जापान के नागासाकी पर गिराया। समय था सुबह 11.02 बजे का। परमाणु बम के इस हमले में 74000 लोगों की जान चली गई।

…………………………………………………………………………………………………………………………………………….

निधन

शिवाजीराव पाटिल निलंगेकर

  • महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शिवाजीराव पाटिल निलंगेकर का 5 अगस्त 2020 को कोरोना से निधन हो गया। वह 88 वर्ष के थे।
  • शिवाजी पाटिल निलंगेकर मराठावाड़ा क्षेत्र के लातूर के रहने वाले थे। वह 1985-86 में राज्य के मुख्यमंत्री थे।

विलियम इंग्लिश

  • कंप्यूटर माउस बनाने में प्रमुख भूमिका निभाने वाले अमेरिकी वैज्ञानिक विलयम इंग्लिश का 91 वर्ष की आयु में निधन हो गया है।
  • 1960 के आसपास वह स्टैनफोर्ड रिसर्च इंस्टीट्यूट (SRI) में डगलस एंगेलबार्ट की टीम में शामिल हो गए थे, जो आज के कंप्यूटर माउस के आविष्कारक माने जाते हैं।
  • पहला माउस लकड़ी का बनाया था। इसमें धातु के दो छोटे पहिये लगे थे।

Related Posts

Leave a Reply