Daily Current Affairs 3 October 2020

राष्ट्रीय परिदृश्य

अटल सुरंग का उद्घाटन

चर्चा में क्यों?

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 3 अक्टूबर 2020 को सामरिक रूप महत्वपूर्ण बारहमासी अटल सुरंग (अटल टनल) का हिमाचल प्रदेश के रोहतांग में उद्घाटन किया।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • इस सुरंग के कारण मनाली और लेह के बीच की दूरी 46 किलोमीटर कम हो गई है।
  • हिमालय की पीर पंजाल रेंज के नीचे से गुजरने वाली इस सुरंग को पहले रोहतांग सुरंग के नाम से जाना जाता था।
  • 25 दिसंबर 2019 को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती के अवसर पर सरकार ने रोहतांग दर्रे के नीचे की रणनीतिक सुरंग का नाम ‘अटल सुरंग’ रखा।
  • 8.8 किलोमीटर लंबी यह सुरंग 3,000 मीटर की ऊँचाई पर दुनिया की सबसे लंबी सुरंग है।
  • यह 10.5 मीटर चौड़ी दो लेन वाली सुरंग है। इसमें आग से सुरक्षा के सभी उपाय मौजूद हैं, साथ ही आपात निकासी के लिये सुरंग के साथ ही बगल में एक और सुरंग बनाई गई है।
  • इस सुरंग का निर्माण हिमाचल प्रदेश और लद्दाख के सुदूर सीमावर्ती क्षेत्रों में रहने वालों को सदैव कनेक्टिविटी उपलब्ध कराने की दिशा में एक महत्त्वपूर्ण कदम है जो शीत ऋतु के दौरान लगभग 6 महीने तक लगातार शेष देश से कटे रहते हैं।
  • सेरी नुल्लाह डिफ़ॉल्ट ज़ोन इस सुरंग के अंदर है।
  • रोहतांग दर्रे के नीचे रणनीतिक महत्त्व की सुरंग बनाए जाने का ऐतिहासिक फैसला 3 जून, 2000 को लिया गया था जब श्री अटल बिहारी वाजपेयी देश के प्रधानमंत्री थे।
  • सुंरग के दक्षिणी हिस्‍से को जोड़ने वाली सड़क की आधारशिला 26 मई, 2002 को रखी गई थी।

…………………………………………………………………………………………………………………………….

राज्य परिदृश्य

असम:कृतज्ञता पोर्टल

चर्चा में क्यों?

  • हाल ही में असम के मुख्यमंत्री सर्वानन्द सोनोवाल ने ऑनलाइन पेंशन सबमिशन और ट्रैकिंग सिस्टम “कृतज्ञता” नामक एक नया पोर्टल लॉन्च किया है।
  • इस पोर्टल को पेंशनभोगियों को उनके पेंशन संबंधी दावों का निपटान करने के लिए शुरू किया गया है।
  • पोर्टल की मदद से सेवानिवृत्त सरकारी कर्मचारी पेंशन से संबंधित कागजात ऑनलाइन जमा कर सकेंगे और उन्हें अपनी पेंशन की स्थिति की जांच करने का अवसर भी मिलेगा।
  • इस पोर्टल को भारत सरकार के “भविष्य” पोर्टल के अनुरूप लॉन्च किया गया है।

……………………………………………………………………………………………………………………………

गुजरात सरकार का डेनमार्क के साथ समझौता

चर्चा में क्यों?

  • गुजरात सरकार ने जल क्षेत्र में डेनमार्क के साथ 5 वर्ष के समझौता ज्ञापन (MoU) पर हस्ताक्षर किए हैं ।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • राज्य सरकार की शाखा गुजरात जल आपूर्ति और सीवरेज बोर्ड ने ऑनलाइन इंटरएक्टिव प्लेटफॉर्म के माध्यम से ‘डेनिश जल फोरम (Danish Water Forum)’ के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं।
  • समझौते के तहत प्रौद्योगिकी विनिमय, प्रशिक्षण, क्षमता निर्माण, ज्ञान विनिमय, जल आपूर्ति में सहयोग, अपशिष्ट जल उपचार-पुन: उपयोग और जल प्रबंधन में विशेषज्ञता हासिल की जाएगी।
  • गुजरात में इंडो-दानिश वाटर टेक्नोलॉजी अलायंस स्थापित करने और संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास लक्ष्य -6 में योगदान देने के लिए पांच साल की अवधि के लिए MoU पर हस्ताक्षर किए गए हैं।
  • उल्लेखनीय है कि सतत विकास लक्ष्य सभी के लिये स्वच्छता और पानी के सतत् प्रबंधन की उपलब्धता सुनिश्चित करने से संबंधित है।

……………………………………………………………………….

आर्थिक एवं वाणिज्यिक परिदृश्य

बेसल III प्रावधानों का स्थगन

चर्चा में क्यों?

  • भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने COVID संकट से संबंधित अनिश्चितता के कारण बेसल III मानदंडों के तहत किए गए पूंजी प्रावधानों को लागू करने को स्थगित किया है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • भारतीय रिजर्व बैंक (RBI)पूंजी संरक्षण बफर (Capital Conservation Buffer-CCB) की अंतिम किश्त और शुद्ध स्थिर वित्त पोषण अनुपात (Net Stable Funding Ratio-NSFR) को छह महीने अर्थात् 1 अप्रैल, 2021 तक लागू करेगा।

बासेल नियमों के उद्देश्य

  • बासेल नियमों का उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि दायित्वों को पूरा करने और अप्रत्याशित हानि को सहन करने के लिये वित्तीय संस्थानों के पास पर्याप्त पूंजी होनी चाहिये।
  • भारत ने अपनी बैंकिंग प्रणाली के लिये बासेल नियमों को स्वीकार किया है। अब तक तीन बासेल नियम (1, 2, 3) जारी हो चुके हैं।

बासेल III नियम

  • बासेल III या बासेल मानकों को 3 दिसंबर 2010 में जारी किया गया था और यह बासेल समझौते की श्रृंखला का तीसरा चरण है।
  • ये समझौते बैंकिंग क्षेत्र में जोखिम प्रबंधन पहलुओं से जुड़े हैं। (बासेल I और बासेल II इसके पूर्व संस्करण थे लेकिन कम कठोर थे)।
  • ये मानदंड 31 मार्च 2015 से कई चरणों में लागू हो चुके हैं लेकिन पूरी तरह से अब जनवरी 2023 से ही लागू हो सकेंगे।
  • बैंकिंग पर्यवेक्षण पर बासेल समिति के अनुसार, ” बासेल III सुधार उपायों का एक व्यापक सेट है जिसे बासेल समिति ने, बैंकिंग क्षेत्र में विनियमन, पर्यवेक्षण और जोखिम प्रबंधन को मजबूत बनाने के लिए बैंकिंग पर्यवेक्षण पर तैयार किया है।”

बासेल III उपायों का उद्देश्य है–

  • वित्तीय और आर्थिक अस्थिरता से पैदा हुए उतार– चढ़ाव से निपटने में बैंकिंग क्षेत्र की क्षमता में सुधार लाना।
  • जोखिम प्रबंधन क्षमता और बैंकिंग क्षेत्र के प्रशासन में सुधार लाना।
  • बैंक की पारदर्शिता एवं खुलासे को मजबूत बनाना।
  • वित्तीय क्षेत्र विधायी सुधार आयोग (एफएसएलआरसी) की गैर-विधायी सिफारिशों का कार्यान्वयन.

………………………………………………………………………………………………………………………

समारोह/सम्मेलन

वैश्विक जलवायु शिखर सम्मेलन

चर्चा में क्यों?

  • 2015 में पेरिस जलवायु समझौते पर हस्ताक्षर करने की पांचवीं वर्षगांठ के अवसर पर 12 दिसंबर, 2020 को एक वैश्विक जलवायु शिखर सम्मेलन (global climate summit) का आयोजन किया जा रहा है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • इस सम्मेलन का आयोजन यूनाइटेड किंगडम और संयुक्त राष्ट्र  करेंगे।
  • संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस और यूके के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन इस कार्यक्रम की सह-मेजबानी करेंगे।
  • यह शिखर सम्मेलन नवंबर 2021 में स्कॉटलैंड के ग्लासगो में आयोजित होने वाले संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन (COP 26) से पहले किया जा रहा है।
  • शिखर सम्मेलन राष्ट्रीय सरकारों को अधिक महत्वाकांक्षी और उच्च गुणवत्ता वाली जलवायु योजनाओं को पेश करने के लिए आमंत्रित करेगा।

………………………………………………………………………..

खेल परिदृश्य

एलिसा हीली ने तोड़ा एमएस धोनी का रिकार्ड

चर्चा में क्यों?

  • ऑस्ट्रेलियाई महिला क्रिकेटर और विकेटकीपर, एलिसा हीली ने 98 T20 इंटरनेशनल (T20Is) में एमएस धोनी द्वारा 91 विकेट लेकर बनाए गए “मोस्ट डिसमिसल बाय विकेट कीपर (Most Dismissal by Wicket Keeper)” के रिकॉर्ड को तोड़ दिया है।
  • हीली ने ऑस्ट्रेलिया के लिए 114 T20Is खेले और ऑस्ट्रेलिया के ब्रिस्बेन में न्यूजीलैंड के खिलाफ खेले गए मैच के दौरान 92 वां विकेट लेकर एमएस धोनी  रिकॉर्ड तोड़ दिया।

………………………………………………………………………………………………………………………

पुरस्कार/सम्मान

स्वच्छ भारत पुरस्कार, 2020

चर्चा में क्यों?

  • 2 अक्टूबर, 2020 को गांधी जयंती के अवसर पर केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने स्वच्छ भारत पुरस्कार, 2020 प्रदान किये। यह पुरस्कार स्वच्छता श्रेणियों और पेयजल श्रेणी के तहत दिए गए।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • इन पुरस्कारों को तीन श्रेणियों के अंतर्गत प्रस्तुत किया गया था, जिनका नाम स्वच्छ सुंदर शौचालय, गंदगी मुक्त भारत और समुदायिक शौचालय अभियान है।
  • राज्य स्तर पर स्वच्छ सुंदर समुदयिक शौचालय श्रेणी के तहत प्रथम पुरस्कार गुजरात ने जीता।
  • जिला स्तर पर प्रथम पुरस्कार तमिलनाडु के तिरुनेलवेली जिले को मिला।
  • ब्लॉक स्तर पर प्रथम स्थान मध्यप्रदेश के उज्जैन जिले के खारचौड़ ब्लॉक ने प्राप्त किया।
  • गाम पंचायत स्तर पर तमिलनाडु के चिन्ननूर गांव को प्रथम पुरस्कार मिला।
  • समुदायिक शौचालय श्रेणी के तहत, निम्नलिखित पुरस्कार प्रदान किये गये :
  • गुजरात और उत्तर प्रदेश इस श्रेणी के तहत सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले राज्य थे।
  • प्रयागराज और बरेली ने सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले जिले का पुरस्कार जीता।
  • गन्दगी मुक्त भारत मिशन के तहत, तेलंगाना और हरियाणा को प्रथम पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

स्वच्छ भारत मिशन

  • घर, समाज और देश में स्वच्छता को जीवनशैली का अंग बनाने के लिये, सार्वभौमिक साफ-सफाई का यह अभियान 2014 में शुरू किया गया। जिसे 2 अक्तूबर, 2019 (बापू की 150 वीं जयंती) तक पूरा कर लेना है।
  • वर्तमान में इसका दूसरा चरण लागू किया गया है।

………………………………………………………………………………………………………………….

योजना/परियोजना

ट्राइब्स इंडिया ई-मार्केटप्लेस (market.tribesindia.com)

चर्चा में क्यों?

  • केंद्रीय जनजातीय मामलों के मंत्री अर्जुन मुंडा ने 2 अक्टूबर, 2020 को गांधी जयंती के अवसर पर, भारत के सबसे बड़े हस्तशिल्प और जैविक उत्पादों के बाजार, ट्राइब्स इंडिया ई-मार्केटप्लेस (market.tribesindia.com) को लांच किया।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • यह जनजातीय मामलों के मंत्रालय के तहत ‘द ट्राइबल कोऑपरेटिव मार्केटिंग डेवलपमेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया’ (TRIFED) की एक पहल है।
  • इसमें देश भर के आदिवासी उद्यमों की उपज और हस्तशिल्प का प्रदर्शन किया जाएगा।
  • यह एक ऐसी पहल है जिसके माध्यम से TRIFED का लक्ष्य देश भर में विभिन्न हस्तकला, ​​हथकरघा, प्राकृतिक खाद्य उत्पादों की सोर्सिंग के लिए 5 लाख आदिवासी उत्पादकों को शामिल करना है।
  • इस पहल के तहत आपूर्तिकर्ताओं में व्यक्तिगत आदिवासी कारीगर, आदिवासी स्वयं सहायता समूह और आदिवासी के साथ काम करने वाले संगठन या एनजीओ शामिल हैं।
  •  यह मंच आदिवासी आपूर्तिकर्ताओं को एक ओमनी-चैनल सुविधा प्रदान करता है, यह उन्हें अपने ई-मार्केट प्लेस खाते के साथ-साथ आउटलेट्स और ईकामर्स भागीदारों के नेटवर्क के माध्यम से अपने माल को अपने खुदरा विक्रेताओं और वितरकों के माध्यम से बेचने की अनुमति देता है।

Related Posts