Daily Current Affairs 28 September 2020

समारोह/सम्मेलन

संयुक्‍त राष्‍ट्र महासभा का 75वां सम्‍मेलन

चर्चा में क्यों?

  • वर्ष 2020 में संयुक्त राष्ट्र अपनी स्थापना की 75वीं वर्षगाँठ मना रहा है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • संयुक्त राष्ट्र की 75वीं महासभा का 22 सितंबर को न्यूयार्क (USA) स्थित संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में उद्घाटन हुआ।

महत्वपूर्ण तथ्य

  • 75वीं संयुक्त राष्ट्र महासभा के अध्यक्ष वोल्कान बोज़किर ने उद्घाटन समारोह की अध्यक्षता की।
  • उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र संघ की स्थापना की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर विभिन्न देशों को बहुपक्षवाद को मजबूत करना चाहिए और बहुपक्षवाद में प्राप्त उपलब्धियों को मान्यता देनी चाहिए।
  • 26 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के 75वें सत्र को संबोधित किया।  अपने भाषण में प्रधानमंत्री ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की स्थायी सदस्यता के लिए भारत की दावेदारी को प्रभावी तरीके से उठाया।

क्या है संयुक्त राष्ट्र महासभा?

  • संयुक्त राष्ट्र महासभा संयुक्त राष्ट्र संघ में परामर्श, निगरानी और जांच की संस्था है, जो सभी सदस्य देशों से गठित है।
  • इस साल महासभा की आम बहस का मुख्य थीम है The Future we want, The United Nations we need  यानि ‘भविष्य, हमारी चाहत वाला, संयुक्त राष्ट्र, हमारी ज़रूरत वाला’.

………………………………………………………………………………………………………………………

रक्षा-प्रतिरक्षा

जिमेक्‍स- 20 (JIMEX 20)

चर्चा में क्यों?

  • भारत और जापान के बीच 26 से 28 सितंबर, 2020 को उत्तरी अरब सागर में द्विपक्षीय नौसैनिक मैरीटाइम युद्धाभ्‍यास जिमेक्‍स 20 आयोजित किया गया। 

महत्वपूर्ण बिंदु

  • यह अभ्यास ‘जिमेक्स 20’ (JIMEX 20) का चौथा संस्करण था। 
  • COVID-19 के कारण इस अभ्यास का आयोजन ‘नॉन-कॉन्टैक्ट एट-सी-ओनली फॉर्मेट’ (Non-contact at-sea-only Format) के आधार पर आयोजित किया जा रहा है।
  • यह अभ्यास भारतीय नौसेना और जापानी समुद्री आत्म-रक्षा बल (JMSDF) के मध्य द्विवार्षिक रूप से आयोजित किए जाते हैं।
  • भारत और जापान के मध्य जनवरी, 2012 में समुद्री सुरक्षा सहयोग पर विशेष ध्यान देने के साथ-साथ जिमेक्स (JIMEX) श्रृंखलाओं की शुरुआत हुई थी।
  • अक्तूबर, 2018 में जिमेक्स (JIMEX) के तीसरे संस्करण को भारत के विशाखापत्तनम में आयोजित किया गया था।
  • स्वदेश निर्मित स्टैल्थ विध्वंसक चेन्नई, तेग क्लास स्टैल्थ फ्रिगेट तरकश और फ्लीट टैंकर दीपक ने युद्धाभ्यास में भारत का प्रतिनिधित्व किया।

……………………………………………………………………………………………………………………….

निधन

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह

  • अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में रक्षा,वित्त और विदेश मंत्री रहे जसवंत सिंह का 27 सितंबर 2020 को निधन हो गया।
  • वह 82 साल के थे और पिछले छह साल से कोमा में थे।
  • ‘अ कॉल टू ऑनर’  उनकी जीवनी है।
  • जिन्नाह: इंडिया, पार्टीशन, इंडीपेंडस उनकी प्रसिद्ध पुस्तक है।

………………………………………………………………………………………………………………………

ईशर जज अहलूवालिया

  • प्रख्यात अर्थशास्त्री ईशर जज अहलूवालिया का 27 सितंबर 2020 को  निधन हो गया। वह 74 की थीं।
  • योजना आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष मोंटेक सिंह अहलूवालिया की पत्नी, ईशर ने 15 साल के लिए अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक मामलों के अनुसंधान परिषद (ICRIER)के निदेशक और अध्यक्ष के रूप में कार्य किया।
  • वर्ष 2009 में उन्हें शिक्षा और साहित्य के क्षेत्र में उनकी सेवाओं के लिये राष्ट्रपति द्वारा पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था।

…………………………………………………………………………………………………………………….

एस.पी. बालासुब्रमण्‍यम

  • गायक-अभिनेता एस.पी. बालासुब्रह्मण्यम (S.P. Balasubrahmanyam) का 74 वर्ष की उम्र में कोरोना वायरस संक्रमण के कारण 25 सितंबर 2020 को निधन हो गया ।
  •  एस.पी. बालासुब्रह्मण्यम को भारतीय संगीत में उनके अद्वितीय योगदान के लिये पहचाना जाता था।
  •  उल्लेखनीय है कि उन्होंने उन्होंने 40,000 से अधिक गानों का गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड भी बनाया था।
  • भारत सरकार ने भी एस.पी. बालासुब्रमण्‍यम को वर्ष 2001 में पद्म श्री और वर्ष 2011 में पद्म भूषण से सम्मानित किया था।

………………………………………………………………………………………………………………………

नियुक्ति / निर्वाचन

एल अदिमूलम

  • एल अदिमूलम (L Adimoolam) को ‘इंडियन न्यूजपेपर सोसायटी’ (INS) का नया प्रेजिडेंट चुना गया है।
  • वह ‘मिड-डे’ (Mid-Day) के शैलेष गुप्ता की जगह यह पदभार संभालेंगे।
  • बेंगलुरु में हुई ‘इंडियन न्यूजपेपर सोसायटी’ की 81वीं वार्षिक आम सभा में यह घोषणा की गई।

इंडियन न्यूज पेपर सोसायटी

  • INS देश में समाचारपत्रों, पत्रिकाओं और जर्नलों के प्रकाशकों की शीर्ष संस्था है।

………………………………………………………………………………………………………………………

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी

‘मौशिक’ (Moushik)माइक्रो प्रोसेसर

चर्चा में क्यों?

  • IIT मद्रास ने तकनीक के क्षेत्र में एक और नई उपलब्धि हासिल करते हुए ‘मौशिक’ (Moushik) नाम का माइक्रो प्रोसेसर बनाया है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • ‘मौशिक’ एक माइक्रो प्रोसेसर (Micro processor) होने के साथ ही एक चिप भी है।
  • यह 180nm चिप है और इसकी स्पीड 100Mhz है. इस चिप को घर में इस्तेमाल होने वाले घरेलू उपकरणों में भी इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • शक्ति माइक्रो प्रोसेसर (Shakti Micro processor) प्रोग्राम के तहत विकसित की जा रही 6 कंप्यूटर चिपों में यह तीसरी है।
  •  ‘यह एक मल्टीपरपज चिप है इसका इस्तेमाल क्रेडिट कार्डस इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन, सर्विलांस कैमरा, सेफ लॉक, पर्सनल हेल्थ मैनेजमेंट सिस्टम और इंटरनेट बूस्टअप करने के लिए किया जा सकता है।

……………………………………………………………………………………………………………………..

राष्ट्रीय परिदृश्य

राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग (NMC) के गठन की अधिसूचना जारी

चर्चा में क्यों?

  • स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने देश में चिकित्सा शिक्षा और व्यवसाय के शीर्ष नियामक के रूप में राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग (National Medical Commission- NMC) के गठन की अधिसूचना जारी कर दी है। इसके साथ ही यह आयोग अस्तित्त्व में आ गया है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग (NMC) का गठन भारतीय चिकित्सा परिषद (MCI) के स्थान पर किया गया है।
  • इसके साथ ही चिकित्सा शिक्षा के क्षेत्र में केंद्र सरकार द्वारा राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग (NMC) के संविधान सहित बड़े बदलाव किए गए हैं। साथ ही 4 स्वायत्त बोर्डों का गठन भी किया गया है।
  • इस ऐतिहासिक सुधार के चलते भारतीय चिकित्सा शिक्षा क्षेत्र में पारदर्शिता आएगी और गुणवत्तापूर्ण उत्तरदायी व्यवस्था बनेगी।
  • इसके तहत सबसे बड़ा बदलाव यह आया है कि नियामक नियंत्रक का चयन योग्यता के आधार पर किया जाएगा ना कि चुने गए नियामक नियंत्रक द्वारा।
  • एम्स में ईएनटी विभाग में प्रोफेसर डॉ. एस. पी. शर्मा (सेवानिवृत्त) को 3 वर्षों की अवधि के लिए इसके प्रथम अध्यक्ष के पद पर चुना गया है।
  • उल्लेखनीय है कि अगस्त 2019 में संसद ने राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग अधिनियम 2019 को पारित किया था।
  • 25 सितंबर 2020 से एनएमसी अधिनियम के प्रभावी होने के साथ ही भारतीय चिकित्सा परिषद अधिनियम 1956 को खत्म कर दिया गया है और भारतीय चिकित्सा परिषद द्वारा नियुक्त किए गए शासक मंडल को भी तत्काल प्रभाव से खत्म कर दिया गया है।

ऐसी है आयोग की संरचना

  • एनएमसी के साथ-साथ स्नातक और परास्नातक चिकित्सा शिक्षा बोर्डों, चिकित्सा आकलन और मानक बोर्ड, और नैतिक एवं चिकित्सा पंजीकरण बोर्ड का गठन किया गया है, जो एनएमसी को दिन प्रतिदिन के काम काज में मदद करेंगे।
  • आयोग में एनएमसी के अध्यक्ष के अलावा 10 अन्य अधिकारी सदस्य होंगे जिनमें चारों स्वायत्त बोर्डों के अध्यक्ष शामिल हैं जिन पर पीजीआईएमईआर, चंडीगढ़ के निदेशक डॉ. जगत राम, टाटा मेमोरियल अस्पताल के डॉ. राजेंद्र बादवे और गोरखपुर एम्स के कार्यकारी निदेशक डॉ. सुरेखा किशोर को नियुक्त किया गया है।
  • एनएमसी में 10 नामित सदस्य होंगे जो राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के स्वास्थ्य विश्वविद्यालयों के उपकुलपति स्तर के होंगे।
  • 9 मनोनीत सदस्य राज्य शिक्षा परिषदों से होंगे और विविध सेवा क्षेत्रों से जुड़े तीन विशेषज्ञ सदस्य होंगे।
  •  एनएमसी का मुख्य कार्य नियामक व्यवस्था को सुव्यवस्थित करना,संस्थाओं का मूल्यांकन, एचआर आकलन और शोध पर अधिक ध्यान देना है।

राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग (NMC) में शामिल स्वायत्त बोर्ड –

  • स्नातक चिकित्सा शिक्षा बोर्ड (UGMEB): यह बोर्ड ग्रेजुएशन स्तर यानी MBBS स्तर पर चिकित्सा योग्यता, पाठ्यक्रम, चिकित्सा शिक्षा के लिये दिशा-निर्देश तैयार करने और चिकित्सा योग्यता को मान्यता देने का कार्य करेगा।
  • स्नातकोत्तर चिकित्सा शिक्षा बोर्ड (PGMEB): यह बोर्ड पोस्ट ग्रेजुएशन स्तर पर यानी MD,PHD स्तर पर चिकित्सा योग्यता, पाठ्यक्रम, चिकित्सा शिक्षा के लिये दिशा-निर्देश तैयार करने और चिकित्सा योग्यता को मान्यता देने का कार्य करेगा।
  • चिकित्सा मूल्यांकन एवं रेटिंग बोर्ड: इस बोर्ड को उन संस्थानों पर मौद्रिक दंड लगाने की शक्ति होगी जो UGMEB और PGMEB द्वारा निर्धारित न्यूनतम मानकों को बनाए रखने में विफल रहेंगे। यह बोर्ड नए मेडिकल कॉलेजों की स्थापना, स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम शुरू करने और मेडिकल कॉलेज में सीटों की संख्या बढ़ाने की भी अनुमति देगा।

एथिक्स और मेडिकल रजिस्ट्रेशन बोर्ड: यह बोर्ड देश में सभी लाइसेंस प्राप्त चिकित्सकों का एक नेशनल रजिस्टर बनाएगा और चिकित्सकों के पेशेवर आचरण का भी नियनम करेगा। यह बोर्ड देश में सभी लाइसेंस प्राप्त सामुदायिक स्वास्थ्य प्रदाताओं के एक रजिस्टर का भी निर्माण करेगा।

…………………………………………………………………………………………………………………………….

खेल परिदृश्य

रूसी एफवन ग्रां प्री

चर्चा में क्यों?

  • मर्सिडीज के चालक वालटेरी बोटास ने रूस ग्रांप्री फार्मूला वन (एफवन) रेस को अपने नाम किया।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • यह 2020 सीजन की उनकी यह दूसरी जीत है।
  • बोटास ने इससे पहले सत्र के शुरुआती ऑस्ट्रियाई ग्रांप्री में जीत दर्ज की थी।
  •  इस जीत के साथ ही बोटास ने सत्र की तालिका में दूसरे स्थान पर अपनी स्थिति मजबूत कर ली।

Related Posts