Follow Us On

Daily Current Affairs 28 June 2021

खेल परिदृश्य

साजन प्रकाश

चर्चा में क्यों?

  • भारतीय तैराक साजन प्रकाश ओलंपिक क्वालीफिकेशन टाइम पार करने वाले पहले भारतीय तैराक बन गए।
  • उन्होंने रोम में सेट्टे कोल्ली ट्रॉफी में पुरुषों के 200 मीटर बटरफ्लाय वर्ग में एक मिनट 56.38 सेकंड का समय निकाला।
  • रियो ओलंपिक 2016 खेल चुके साजन टोक्यो ओलंपिक ‘ए’ स्टैंडर्ड में प्रवेश में 0.1 सेकंड से कामयाब रहे।
  • टोक्यो ओलंपिक ए स्टैंडर्ड एक मिनट 56.48 सेकंड है। केरल के इस तैराक ने पिछले सप्ताह बेलग्रेड ट्रॉफी तैराकी प्रतियोगिता में एक मिनट 56.96 सेकंड का समय निकाला था।

…………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

दीपिका कुमारी

चर्चा में क्यों

  • पेरिस में चल रहे आर्चरी के वर्ल्ड कप स्टेज 3 टूर्नामेंट में भारत ने 27 जून को 3 गोल्ड मेडल जीते।
  • टूर्नामेंट में देश के नाम अब तक 4 स्वर्ण पदक हो गए हैं।
  • दीपिका कुमारी ने एक दिन में देश को 3 गोल्ड जीत कर बड़ी उपलब्धि हासिल की।
  • पहले उन्होंने पति अतनु दास के साथ मिलकर मिक्स्ड इवेंट में गोल्ड पर निशाना साधा।

……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

पुरस्कार/सम्मान

इंडिया स्मार्ट सिटी कॉन्टेस्ट-2020

चर्चा में क्यों?

  • स्मार्ट सिटी मिशन के 6 साल पूरे होने पर 25 जून 2021 को इंडिया स्मार्ट सिटी कॉन्टेस्ट-2020 के परिणाम घोषित किए गए।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • 100 स्मार्ट सिटीज में ओवरऑल परफॉर्मेंस के मामले में सूरत और इंदौर शीर्ष पर रहे।
  • राज्यों में उत्तर प्रदेश शीर्ष पर जबकि मध्य प्रदेश को पहला और तमिलनाडु को दूसरा रनर अप चुना गया है।
  • 2019 में सूरत स्मार्ट सिटीज में इकलौता विजेता था। इस बार उसे यह अवॉर्ड इंदौर के साथ बांटना पड़ा है।

उत्तर प्रदेश ने 7 शहरों को स्मार्ट बनाया

  • यह पहली बार है जब आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय ने राज्यों को उनके शहरों के ओवरऑल परफॉर्मेंस और उनकी बेहतर भूमिका के लिए अवॉर्ड दिए हैं। UP को सात और शहरों को अपने दम पर स्मार्ट सिटी बनाने के लिए पहला पुरस्कार मिला है।
  • ये शहर मेरठ, गाजियाबाद, अयोध्या, फिरोजाबाद, गोरखपुर, मथुरा-वृंदावन और सहारनपुर हैं।

कोविड इनोवेशन कैटेगिरी

  • कोविड इनोवेशन कैटेगिरी के तहत भी जॉइंट विनर घोषित किए हैं। महाराष्ट्र के कल्याण-डोंबिवली और UP में वाराणसी ने यह पुरस्कार जीता है।

9 शहरों को 4 स्टार रेटिंग

  • मंत्रालय ने बताया कि 70 स्मार्ट सिटीज ने अपने इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर्स डेवलप किए हैं। ये मिशन के तहत तैयार बुनियादी ढांचे के साथ-साथ कोविड मैजेनमेंट के लिए भी वॉर रूम की तरह काम कर रहे हैं। ऐसे सेंटर सभी 100 शहरों में डेवलप किए जा रहे हैं।
  • मिनिस्ट्री ने क्लाईमेट स्मार्ट सिटीज असेसमेंट फ्रेमवर्क (CSCAF) 0 पर एक रिपोर्ट लॉन्च की है। इसमें 126 शहरों ने हिस्सा लिया। 9 सबसे बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले शहरों को 4 स्टार रेटिंग दी गई है।
  • इनमें सूरत, इंदौर, अहमदाबाद, पुणे, विजयवाड़ा, राजकोट, विशाखापत्तनम, पिंपरी-चिंचवाड़ और वडोदरा शामिल हैं। स्मार्ट सिटीज लीडरशिप अवॉर्ड के लिए अहमदाबाद, वाराणसी और रांची को चुना गया है।

क्या है स्मार्ट सिटी मिशन?

  • स्मार्ट सिटी मिशन स्थानीय विकास को सक्षम करने और प्रौद्योगिकी की मदद से नागरिकों के लिए बेहतर परिणामों के माध्यम से जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने तथा आर्थिक विकास को गति देने हेतु भारत सरकार द्वारा एक अभिनव और नई पहल है।

कवरेज और अवधि

  • इस मिशन में 100 शहरों को शामिल किया गया है। 100 स्मार्ट शहरों की कुल संख्या एक समान मापदंड के आधार पर राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के बीच वितरित किया गया है।

……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

चर्चित स्थान

नेशेर रामला

चर्चा में क्यों?

  • पुरातत्वविज्ञानियों के एक अंतर्राष्ट्रीय समूह ने इजराइल के नेशेर रामला (Nesher Ramla) में खुदाई में एक खोपड़ी मिली है जो संभवत: एक अलग होमो आबादी के अंतिम बचे मानव का उदाहरण हो सकती है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • शोध के अनुसार यह आबादी करीब 4,20,000 से 1,20,000 साल पहले अब के इजराइल में रहती थी।
  • ‘साइंस’ में प्रकाशित अध्ययनों में बताया कि इस आदिकालीन मानव समुदाय ने कई हजार वर्षों तक निकटवर्ती होमो सैपियंस समूहों के साथ अपनी संस्कृति और जीन साझा किए।
  • यहा मिली खोपड़ी के पीछे के हिस्सों समेत अन्य टुकड़ों और लगभग एक पूरे जबड़े के विश्लेषण से पता चलता है कि यह जिस व्यक्ति का अवशेष है वह पूरी तरह होमो सैपियंस नहीं था। न ही ये होमो वंश के विलुप्त सदस्य निएंडथरल मानव थे।

लेडी ऑफ़ ताबुन

  • शोधकर्ताओं के अनुसार, अन्य इजरायली स्थलों पर पाए गये लेडी ऑफ ताबुन (Lady of Tabun) जैसे जीवाश्म इस नई खोजी गई मानव आबादी का हिस्सा हो सकते हैं। पुरातत्वविद् युसरा (Yusra) ने 1932 में “लेडी ऑफ ताबुन” की खोज की थी।

भोजन पकाने के लिए आग के उपयोग के निशान

  • पकड़े गए, मारे गए और इस जगह पर खाए गए जानवरों की हड्डियों की भी खुदाई की गई। यह इंगित करता है कि नेशेर रामला होमो (Nesher Ramla Homo) हिरण, कछुआ, सूअर और शुतुरमुर्ग जैसी प्रजातियों का शिकार करते थे। इसके अलावा, वे अपना खाना पकाने के लिए आग का उपयोग करते थे।

……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

रिपोर्ट/इंडेक्स

वर्ल्ड ड्रग रिपोर्ट-2021

चर्चा में क्यों?

  • मादक पदार्थों एवँ अपराध पर संयुक्त राष्ट्र कार्यालय (UNODC) ने हाल ही में ‘वर्ल्ड ड्रग रिपोर्ट’ दर्शाती है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • ‘World Drug Report 2021 के अनुसार विश्व भर में पिछले वर्ष, 27 करोड़ 50 लाख लोगों ने मादक पदार्थों (ड्रग्स) का इस्तेमाल किया। वर्ष 2010 के मुक़ाबले यह 22 फ़ीसदी अधिक है।
  • रिपोर्ट में, कोविड-19 महामारी के दौरान व्यापक स्तर पर मची उथलपुथल को इसका एक बड़ा कारण बताया गया है।
  • यूएन एजेंसी की ‘World Drug Report 2021’ के मुताबिक, पिछले दो दशकों में विश्व के कुछ हिस्सों में कैनेबिस (भांग) की प्रबलता चार गुना तक बढ़ गई है।
  • कैनेबिस को आमतौर पर स्वास्थ्य के लिये नुक़सानदेह माना जाता है, विशेष रूप से इसका लम्बे समय तक सेवन करने वाले लोगों के लिये।
  • मगर, इस मादक पदार्थ को हानिकारक मानने वाले किशोरों की संख्या में 40 फ़ीसदी तक की कमी दर्ज की गई है।
  • यूएन एजेंसी की कार्यकारी निदेशक ग़ादा वाली ने कहा कि ड्रग के इस्तेमाल से होने वाले जोखिमों के प्रति जानकारी कम होने की वजह से इनके सेवन की दर बढ़ रही है।
  • इसकी एक वजह टैक्नॉलॉजी, क्रिप्टो-करेन्सी भुगतान विकल्प के इस्तेमाल में आई तेज़ी है, और यह सब नियमित वित्तीय प्रणाली के दायरे से बाहर हो रहा है.
  • ऑनलाइन बिक्री की वजह से मादक पदार्थों तक पहुँच पहले से सरल हुई है और डार्क वेब पर ड्रग बाज़ार का वार्षिक मूल्य 31 करोड़ डॉलर से अधिक आंका गया है।

ड्रग्स और अपराध पर संयुक्त राष्ट्र कार्यालय (UNODC)

  • इसकी स्थापना वर्ष 1997 में हुई थी ।
  •  2002 में इसे ड्रग्स और अपराध पर संयुक्त राष्ट्र कार्यालय (UNODC) के रूप में नामित किया गया था।
  • इसकी स्थापना यूनाइटेड नेशंस इंटरनेशनल ड्रग्स कंट्रोल प्रोग्राम (UNDCP) तथा संयुक्त राष्ट्र में अपराध निवारण और आपराधिक न्याय विभाग ( CPCJD) के संयोजन में की गई थी और यह ड्रग कंट्रोल एवं अपराध रोकथाम की दिशा में कार्य करता है।

Related Posts

Leave a Reply