Daily Current Affairs 26 November 2020

समारोह/सम्मेलन
राष्ट्रीय विज्ञान फिल्म महोत्सव
चर्चा में क्यों?
राष्ट्रीय विज्ञान फिल्म महोत्सव के दसवें संस्करण का आयोजन आभासी मोड में किया जा रहा है।
महत्वपूर्ण बिंदु
राष्ट्रीय विज्ञान फिल्म महोत्सव 2020 का आयोजन भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग (DST) की स्वायत्त संस्था ‘विज्ञान प्रसार’ और त्रिपुरा स्टेट काउंसिल ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी, सरकार द्वारा संयुक्त रूप से किया जा रहा है।
दस सदस्यीय जूरी द्वारा चुनी गई कुल 115 शॉर्टलिस्ट फिल्मों को महोत्सव के दौरान प्रदर्शित किया जाएगा।
इनमें हिंदी, अंग्रेजी, उर्दू, मलयालम, कश्मीरी, बंगाली, मराठी, पंजाबी और तमिल भाषाएं शामिल हैं।
………………………………………………………….
अफगानिस्तान कॉन्फ्रेंस
चर्चा में क्यों?
23-24 नवंबर 2020 को वर्चुअल प्लेटफार्म पर अफगानिस्तान कांफ्रेंस 2020 आयोजित की गई।
महत्वपूर्ण बिंदु
इस कॉन्फ्रेंस में अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने अरबों डॉलर की मदद और चाबहार पोर्ट के लिए भारत का धन्यवाद दिया।
यह कांफ्रेंस अफगानिस्तान के पुननिर्माण में मदद देने वाली तमाम देशों और अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों की तरफ से आयोजित की गई थी। इस दौरान भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने बताया कि काबुल सिटी के 20 लाख निवासियों को स्वच्छ पेयजल प्रदान करने के लिए शातूत डैम का निर्माण किया जाएगा।
इसके लिए हाल ही में भारत व अफगानिस्तान के बीच समझौता किया गया है।
भारत की मदद से काबुल में निर्बाध बिजली आपूर्ति के लिए 202 किलोमीटर लंबी फुल-ए-खुमरी ट्रांसमिशन लाइन का निर्माण पूरा कर लिया गया है।
विदेश मंत्री जयशंकर ने भारत की मदद से 80 करोड़ डॉलर की 100 ऐसी परियोजनाओं को मदद का भी ऐलान किया गया जो कई शहरों में स्थानीय निवासियों के जीवन स्तर को बेहतर बनाएंगे।
अफगानिस्तान को पड़ोसी व रणनीतिक साझेदार बताते हुए उन्होंने कहा कि लंबी अवधि में इसके विकास में भारत पूरी मदद करने को तैयार है।
………………………………………………………..
विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी
अलवणीकरण संयंत्र
चर्चा में क्यों?
हाल ही में, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे द्वारा मुंबई में पहले अलवणीकरण संयंत्र (Desalination Plant) की स्थापना हेतु मंजूरी प्रदान की गयी है।
महत्वपूर्ण बिंदु
इस प्रस्तावित संयंत्र द्वारा 200 मिलियन लीटर प्रतिदिन (MLD) जल संसाधित किया जाएगा, इससे मुंबई में, मई और जून के महीनों के दौरान होने वाली पानी की कमी को दूर किया जा सकेगा।
क्या हैं‘अलवणीकरण संयंत्र’ ?
अलवणीकरण संयंत्र (Desalination Plant) द्वारा समुद्र के खारे पानी को पीने योग्य पानी में बदला जाता है।
इस प्रक्रिया में सर्वाधिक इस्तेमाल की जाने वाली तकनीक ‘उत्क्रम परासरण/ रिवर्स ऑस्मोसिस (Reverse osmosis– RO) होती है।
इसके तहत, बाहरी दबाव (Pressure) का उपयोग करके पानी में दूषित पदार्थो को उच्च सांद्रण वाले क्षेत्र से, एक अर्धपारगम्य झिल्ली (Membrane) के माध्यम से, दूषित पदार्थो के निम्न सांद्रण वाले क्षेत्र में धकेला जाता है।
झिल्ली में मौजूद सूक्ष्म छिद्रों से होकर स्वच्छ जल-अणु दूसरी और पहुँच जाते है, तथा दूषित पदार्थ पीछे रह जाते हैं।
इन अलवणीकरण संयत्रों को अधिकांशतः सागरीय जल की पहुँच वाले क्षेत्रों में स्थापित किया जाता है।
भारत में इस तकनीक का उपयोग
यह तकनीक, मुख्यतः अभी तक मध्य पूर्व के समृद्ध देशों तक ही सीमित है किंतु हाल ही में अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया के कुछ हिस्सों में इसका प्रयोग शुरू किया गया है।
भारत में, इस तकनीक का सबसे पहले तमिलनाडु में प्रयोग किया गया है। राज्य में चेन्नई के निकट वर्ष 2010 और 2013 में दो अलवणीकरण संयंत्र स्थापित किए गए।
…………………………………………………………
भारत के ‘शुक्रयान’ मिशन में शामिल होगा स्वीडन
चर्चा में क्यों
भारत के वीनस मिशन (Venus mission)’शुक्रयान’ में स्‍वीडन (Sweden) का नाम भी शामिल हो गया है जो अपने वैज्ञानिक उपकरण के साथ ग्रह पर रवाना होगा।
महत्वपूर्ण बिंदु
शुक्र ग्रह के लिए भेजे जाने वाला मिशन ‘शुक्रयान’ दरअसल जून 2023 में प्रक्षेपित किया जाना था लेकिन महामारी कोविड-19 के कारण इसकी तारीख आगे बढ़ा दी गई। अब इसे 2024 या 2026 में प्रक्षेपित किया जा सकता है।
भारत में स्‍वीडन के राजदूत क्‍लास मोलिन (Klas Molin) ने कहा कि स्‍वीडिश इंस्‍टीट्यूट ऑफ स्‍पेस फिजिक्‍स (IRF) इस उद्यम में शामिल है जो इसका भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्‍थान ISRO के साथ दूसरा वेंचर है।
वीएनए, आईआरएफ द्वारा विकसित नौवीं पीढ़ी का उपकरण है।
पहली पीढ़ी के उपकरण का नाम ‘सारा’ (SRA) था और उसका इस्तेमाल 2008-2009 के दौरान चंद्रयान-एक अभियान में किया गया था।
यह आईआरएफ और इसरो के बीच पहली सहयोगात्मक परियोजना थी।
आईआरएफ उपग्रह उपकरण विनसियन न्यूट्रल्स एनालाइजर (Vincenne Neutrals Analyzer, VNA) इस बात का अध्ययन करेगा कि सूर्य से निकलने वाले आवेशित कण की (शुक्र) ग्रह के वातावरण में कैसी प्रकृति होगी और वे कैसा व्यवहार दिखाते हैं।
हर 19 माह पर आता है प्रक्षेपण का अनुकूल अवसर
उल्‍लेखनीय है कि शुक्र ग्रह पर मिशन को प्रक्षेपित करने का बेहतरीन अवसर हर 19 महीने में आता है जब शुक्र ग्रह पृथ्वी के सबसे निकट होता है।
बता दें कि आकार, घनत्व और गुरुत्वाकर्षण में समानताओं के कारण शुक्र को पृथ्वी की ‘जुड़वां बहन’ माना जाता है।
दोनों ही ग्रहों की उत्पत्ति 4.5 अरब साल पहले हुई थी। पृथ्वी की तुलना में शुक्र ग्रह सूर्य के करीब 30 फीसद अधिक निकट है।
………………………………………………………………………..
निधन
डिएगो माराडोना
अर्जेन्टीना के महान फुटबॉलर और कोच रह चुके डिएगो माराडोना का 25 नवंबर 2020 को 60 साल की उम्र में निधन हो गया। कार्डिएक अरेस्ट से उनका निधन हुआ।
महत्वपूर्ण तथ्य
उनका जन्म 30 अक्टूबर 1960 को अर्जेंटीना के लानुस (ब्यूनस आयर्स) शहर में हुआ था।
माराडोना ने 491 मैचों में कुल 259 गोल दागे थे।इतना ही नहीं, एक सर्वेक्षण में उन्होंने पेले को पीछे छोड़ ’20वीं सदी के सबसे महान फ़ुटबॉलर’ होने का गौरव अपने नाम कर लिया था।
माराडोना ने अर्जेंटीना के लिए 91 मैच खेले, जिनमें उन्होंने कुल 34 गोल दागे। लेकिन ये उनके उतार-चढ़ाव भरे अंतरराष्ट्रीय करियर का एक हिस्सा भर ही है।
उन्होंने अपने देश को साल 1986 में मेक्सिको में आयोजित वर्ल्ड कप में जीत दिलाई और चार बार टूर्नामेंट के फ़ाइनल तक पहुंचाया।
‘हैंड ऑफ़ गॉड’ और ‘गोल ऑफ़ द सेंचुरी’ उनके किए गए दो प्रसिद्ध गोल के विशेषण हैं।
1997 में वह तीसरे डोप टेस्ट में पॉज़िटिव टेस्ट के बाद प्रोफ़ेशनल फ़ुटबॉल से रिटायर हुए।
………………………………………………………………………..
आर्थिक एवं वाणिज्यिक परिदृश्य
भारत के लिए एसडीजी इनवेस्‍टर मैप लॉन्च
चर्चा में क्यों?
संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) और इन्वेस्टइंडिया ने भारत के लिए सतत विकास लक्ष्‍य(SDG) इनवेस्‍टर मैप (निवेशक मानचित्र) लॉन्च किया है। इसमें सतत विकास लक्ष्‍य में सक्षम 6 महत्‍वपूर्ण क्षेत्रों मेंनिवेश अवसर वाले 18 क्षेत्र दिखाये गये हैं।
एसडीजी इन्‍वेस्‍टर मैप की प्रमुख विशेषताएं :
निवेश अवसर वाले 18 क्षेत्रों (आईओए) में से 10 पहले से ही निवेश योग्‍य परिपक्‍व क्षेत्र हैं। जिनकी प्राइवेट इक्विटी और उद्यम पूंजी गतिविधि मजबूत रही है। निवेश अवसर वाले इन क्षेत्रों की कंपनियां लाभ की संभावना दिखाती हैं।
शेष 8 आईओए उभरते अवसरों वाले क्षेत्र हैं और इन क्षेत्रों में प्रारम्भिक चरण के निवेशकों के खिंचाव को देखा है।
मानचित्र में चिन्ह्ति आठ सफेद स्‍थान दिखाए गए हैं। इन स्‍थानों पर निवेशक की दिलचस्‍पी रही है और इनमें 5-6 वर्षों के अंदर आईओए बन जाने की क्षमता है। लेकिन इसके आगे नीति समर्थन और नीति क्षेत्र की भागीदारी जरूरी है, ताकि इसे वाणिज्यिक रूप से आकर्षक क्षेत्र बनाया जा सके।
चिन्हित लगभग 50 प्रतिशत आईओए में ऐतिहासिक रूप से निवेश होता रहा हैं और निवेश से 20 प्रतिशत अधिक आईआरआर की प्राप्ति हुई है।
84 प्रतिशत आईओए के निवेश की समय सीमा है। यह सीमा अल्‍पावधि (5 वर्ष से कम) और मध्‍यम अवधि (5 से 15 वर्ष के बीच) की है।
………………………………………………………………………..

नियुक्ति
ग्रेग बार्कले
चर्चा में क्यों?
ग्रेग बार्कले (Greg Barclay) को विश्व क्रिकेट की सर्वोच्च संस्था International Cricket Council (ICC) क नया चेयरमैन नियुक्त किया गया है।
महत्वपूर्ण बिंदु
ग्रेग बार्कले न्यूजीलैंड क्रिकेट के प्रमुख  हैं। उन्होंने सिंगापुर के इमरान ख्वाजा को पराजित किया।
वह इस पद पर भारत के शशांक मनोहर की जगह लेंगे। 
आकलैंड (न्यूजीलैंड) के व्यावसायिक अधिवक्ता बार्कले 2012 से एनजेडसी बोर्ड का हिस्सा हैं।
वह फिलहाल आईसीसी बोर्ड में न्यूजीलैंड के प्रतिनिधि हैं लेकिन स्वतंत्र रूप से जिम्मेदारी निभाने के लिए इस पद को छोड़ेंगे। 
………………………………………………………………………..

Leave a Reply