Follow Us On

Daily Current Affairs 24 June 2021

खेल परिदृश्य

भारत को हराकर न्यूजीलैंड बना विश्व टेस्ट चैंपियन

चर्चा में क्यों?

  • न्यूजीलैंड ने साउथैंप्टन के द रोज बाउल में खेले गए विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल मुकाबले में भारत को आठ विकेट से हरा दिया।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • इसके साथ ही न्यूजीलैंड विश्व टेस्ट चैंपियनशिप का खिताब जीतने वाली पहली टीम बन गई है।
  • भारत ने दूसरी पारी में न्यूजीलैंड को जीत के लिए 139 रनों का लक्ष्य दिया था, जिसे उसने दो विकेट खोकर हासिल कर लिया।
  • न्यूजीलैंड के लिए कप्तान केन विलियमसन ने 89 गेंदो में आठ चौको की मदद से नाबाद 52 रन बनाए।
  • वहीं रॉस टेलर ने 100 गेंदो में छह चौको के साथ नाबाद 47 रनों की पारी खेली।
  • पहली पारी में 5 और दूसरी पारी में 7 विकेट लेने वाले काइल जेमिसन को प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया।
  • 91 साल के इतिहास में न्यूजीलैंड टीम ने पहली बार कोई ICC वर्ल्ड कप जीता है।
  • न्यूजीलैंड ने 10 जनवरी 1930 को अपना पहला मैच इंग्लैंड के खिलाफ खेला था। तब से कोई वर्ल्ड कप नहीं जीत सकी थी।
  • ICC ने पहली बार वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप यानी टेस्ट का वर्ल्ड कप टूर्नामेंट शुरू किया है।

विजेता टीम की पुरस्कार राशि

  • टेस्ट चैंपियन न्यूजीलैंड को 16 लाख डॉलर (करीब 11.71 करोड़ रुपए) की इनामी राशि मिली। वहीं, फाइनल में हारने वाली टीम इंडिया को 8 लाख डॉलर (करीब 5.85 करोड़ रुपए) मिले।
  • न्यूजीलैंड को इनामी राशि के साथ-साथ टेस्ट चैंपियनशिप गदा भी मिली।

बीजे वाटलिंग ने लिया क्रिकेट से सन्यास

  • न्यूजीलैंड के लिए सबसे ज्यादा टेस्ट रन बनाने वाले विकेटकीपर बल्लेबाज बीजे वाटलिंग ने क्रिकेट को अलविदा कह दिया है।
  • उन्होंने अपना आखिरी मैच वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल खेला। फाइनल में न्यूजीलैंड ने भारत को 8 विकेट से हराकर पहली बार ICC का कोई वर्ल्ड कप जीता है।

……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

चर्चित पुस्तक

  • ‘नाइटमेयर सिनेरियो: इनसाइड द ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशंस रिस्पॉन्स टू द पैनडेमिक दैट चेंज्ड हिस्ट्री’

लेखक:

  • वॉशिंगटन पोस्ट के दो रिपोर्टर- यास्मीन आबूतालेब और डेमियन पालेट्टा इसके लेखक हैं।

चर्चा में क्यों?

  • अक्सर विवादों में रहने वाले अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प फिर चर्चा में हैं। इसकी वजह उनकी वह प्रतिक्रिया है जो अमेरिका में कोरोना संक्रमण की शुरुआत के वक्त उन्होंने दी थी। महामारी के शुरुआती दिनों में ट्रम्प ने कोरोना से संक्रमित लोगों को ग्वांतानामो बे भेजने की वकालत की थी।
  • ‘नाइटमेयर सिनेरियो: इनसाइड द ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशंस रिस्पॉन्स टू द पैनडेमिक दैट चेंज्ड हिस्ट्री’ पुस्तक में यह दावा किया गया है।
  • ग्वांतानामो बे द्वीप क्यूबा में अमेरिकी सेना का बेस है, जिसमें एक कुख्यात हिरासत कैंप है।

……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

अंतर्राष्ट्रीय परिदृश्य

हॉन्गकॉन्ग का प्रसिद्ध लोकतंत्र समर्थक अखबार एप्पल डेली

चर्चा में क्यों?

  • हॉन्गकॉन्ग का लोकतंत्र समर्थक अखबार ‘एप्पल डेली’ बंद होने जा रहा है।

 

 

 

महत्वपूर्ण बिंदु

  • संपादकों और कार्यकारी अधिकारियों की गिरफ्तारी और अखबार से जुड़ी 23 लाख डॉलर की संपत्ति की चीनी और हॉनगकॉन्ग सरकार द्वारा की गई जब्ती के बाद यह फैसला लिया गया है।
  • उल्लेखनीय है कि पुलिस ने राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरे में डालने के आरोप में एप्पल डेली के लिए सामाजिक मुद्दों पर कॉलम लिखने वाले ली पिंग को गिरफ्तार कर लिया है।
  • पुलिस आगे और गिरफ्तारियां कर सकती है। हॉन्गकॉन्ग की चाइनीज यूनिवर्सिटी में मीडिया लेक्चरर ग्रेस लेउंग ने कहा, ‘एप्पल डेली के बंद होने से सभी मीडिया संगठनों को इस बात का स्पष्ट संकेत मिलता है अगर वे संवेदनशील या महत्वपूर्ण राजनीतिक मुद्दों को छूते हैं तो उन पर गिरफ्तारी का खतरा मंडराता रहेगा।’
  • दूसरी ओर, कमेटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट्स (सीपीजे) ने कहा है कि वह हॉन्गकॉन्ग की नेक्स्ट डिजिटल मीडिया कंपनी और एप्पल डेली अखबार के जेल में बंद संस्थापक जिमी लाई को 2021 ग्वेन इफिल प्रेस फ्रीडम अवार्ड से सम्मानित करेगी।
  • 26 साल पुराने इस अखबार ने चीन की कम्युनिस्ट पार्टी में बड़े पदों पर बैठे नेताओं की छिपी हुई संपत्ति का खुलासा किया था।
  • साथ ही यह अखबार हॉन्गकॉन्ग में लोकतंत्र समर्थक आंदोलन की प्रमुख आवाजों में से एक बन गया था। जिसके बाद अखबार के मुख्य संपादक जिमी लाई समेत पांच संपादकों और कार्यकारियों को राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरे में डालने के आरोप में पकड़ा गया है।

……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

कृषि. पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी

रामगढ़ विषधारी वन्यजीव अभयारण्य

चर्चा में क्यों?

  • हाल ही में राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण (NTCA) की तकनीकी समिति ने राजस्थान के रामगढ़ विषधारी वन्यजीव अभयारण्य को बाघ अभयारण्य बनाने की मंज़ूरी दी है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • रामगढ़ विषधारी वन्यजीव अभयारण्य राजस्थान का चौथा टाइगर रिज़र्व बन जाएगा।
  • यह भारत का 52वां टाइगर रिज़र्व होगा।
  • यह अभयारण्य राजस्थान के बूंदी ज़िले में रामगढ़ गाँव के निकट बूंदी शहर से 45 किमी. की दूरी पर बूंदी-नैनवा रोड पर स्थित है। यह 252.79 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है।
  • वर्ष 1982 में यह वन्यजीव अभयारण्य के रूप में अधिसूचित किया गया था।
  • यहां आम और बेर के कुछ वृक्षों के साथ-साथ ढोक, खैर, सालार, खिरनी के वृक्ष पाए जाते हैं। जबकि तेंदुआ, सांभर, जंगली सूअर, चिंकारा, स्लॉथ बियर, भारतीय भेड़िया, लकड़बग्घा, सियार, लोमड़ी, हिरण और मगरमच्छ जैसे पक्षी और जानवर भी यहां पाए जाते हैं।

राजस्थान के अन्य टाइगर रिज़र्व:

  • रणथंभौर टाइगर रिज़र्व (RTR) (सवाई माधोपुर)
  • सरिस्का टाइगर रिज़र्व (STR) (अलवर)
  • मुकुंदरा हिल्स टाइगर रिज़र्व (MHTR) (कोटा)

राजस्थान में अन्य संरक्षित क्षेत्र:

  • मरुभूमि राष्ट्रीय उद्यान (Desert National Park), जैसलमेर
  • केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान, भरतपुर
  • सज्जनगढ़ राष्ट्रीय उद्यान, उदयपुर
  • राष्ट्रीय चंबल अभयारण्य (राजस्थान, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश की सीमा पर)

……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

रिपोर्ट/इंडेक्स

चिल्ड्रन एंड डिजिटल डंपसाइट्स

चर्चा में क्यों?

  • हाल ही में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चिल्ड्रन एंड डिजिटल डंपसाइट्स (Children and Digital Dumpsites) शीर्षक से प्रकाशित नई रिपोर्ट में कहा है कि बेकार इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों या ई-कचरे के कारण अनौपचारिक प्रसंस्करण में काम करने वाले बच्चे जोखिम में हैं ।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • ई-वेस्ट से यानी पुराने,फेंक दिए गए इलेक्ट्रानिक उपकरणों हैं। इसमें कम्प्यूटर, फोन, फ्रिज, एसी से लेकर टीवी, बल्ब, खिलौने और इलेक्ट्रिक टूथब्रश जैसे गैजेट तक शामिल हैं।

रिपोर्ट के महत्वपूर्ण बिन्दु

  • निम्न और मध्यम आय वाले देशों में ई-कचरा डंपिंग स्थलों पर काम करने वाले 1.8 करोड़ बच्चे और किशोर अनौपचारिक रूप से औद्योगिक क्षेत्र में कार्य कर रहे हैं, जिससे इनके स्वास्थ्य को गंभीर खतरा है।
  • 29 करोड़ (12.9 मिलियन ) महिलाएं कचरे से जुड़े अनौपचारिक क्षेत्र में काम करती हैं, जो उन्हें संभावित रूप से जहरीले इलेक्ट्रॉनिक कचरे के संपर्क में लाता है। इससे न केवल उन महिलाओं के स्वास्थ्य पर साथ ही उनके अजन्में बच्चों को भी खतरे में डाल रहा है।
  • अकसर बच्चों के माता-पिता और उनका ध्यान रखने वाले उन्हें इलेक्ट्रॉनिक कचरे की रीसाइक्लिंग के काम में लगा देते हैं क्योंकि उनके छोटे-छोटे हाथ बड़ों की तुलना में कहीं ज्यादा कुशल होते हैं।
  • वहीं अन्य बच्चे जो इस इलेक्ट्रॉनिक कचरे के आसपास रहते हैं या स्कूल जाते हुए इनके संपर्क में आते हैं या फिर रीसाइक्लिंग सेंटर के आस-पास खेलते हैं; उनके इस कचरे में मौजूद जहरीले केमिकल्स के संपर्क में आने का खतरा सबसे ज्यादा होता है।
  • इस कचरे में मौजूद सीसा और पारा उन बच्चों की बौद्धिक क्षमता को नुकसान पहुंचा सकता है।

ई कचरे का स्वास्थ्य पर प्रभाव

  • ई-कचरे के संपर्क में आने वाले बच्चे छोटे आकार, अपने कम विकसित अंगों और विकास की तीव्र दर के कारण उनमें मौजूद जहरीले केमिकल्स के प्रति विशेष रूप से संवेदनशील होते हैं।
  • वे अपने आकार की तुलना में अधिक प्रदूषकों को अवशोषित करते हैं। उनका शरीर विषाक्त पदार्थों को सहन करने और शरीर से बाहर निकालने में वयस्कों की तुलना में कम सक्षम होता है।
  • ई- वेस्ट (e-waste) में 1,000 से अधिक कीमती धातुएँ और अन्य पदार्थ जैसे सोना, तांबा, सीसा, पारा, कैडमियम, क्रोमियम, पॉलीब्रोमिनेटेड बाइफिनाइल और पॉलीसाइक्लिक एरोमैटिक हाइड्रोकार्बन आदि शामिल होते हैं।
  • इनका प्रसंस्करण कम आय वाले देशों में किया जाता है, जिनके पास उचित सुरक्षा विनियमन नहीं है जिससे यह प्रक्रिया और भी खतरनाक बन जाती है।

Related Posts

Leave a Reply