Follow Us On

Daily Current Affairs: 24 August 2021

भारत एवं विश्व

मिशन सागर

चर्चा में क्यों?

  • भारतीय नौसेना का लैंडिंग शिप टैंक आईएनएस ऐरावत 24 अगस्त 2021 को इंडोनेशिया के जकार्ता में तंजुंग प्रियक पोर्ट पर 10 लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन (LMO) कंटेनर देने के लिए पहुंचा।
  • इंडोनेशिया सरकार द्वारा कंटेनरों की आवश्यकता जताई गई थी जिसके आधार पर आईएनएस ऐरावत द्वारा यह डिलिवरी की गई है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • इंडोनेशिया में जहाज से चिकित्सा का सामान उतरने का काम पूरा होने पर, चल रहे मिशन सागर के हिस्से के रूप में, आईएनएस ऐरावत इस क्षेत्र के अन्य मित्र देशों को चिकित्सा आपूर्ति प्रदान करना जारी रखेगा।
  • आईएनएस ऐरावत को जल और स्थल पर संचालन करने के लिए प्राथमिक भूमिका के साथ एचएडीआर मिशन करने के लिए भी बनाया गया है।
  • आईएनएस ऐरावत पूर्व में हिंद महासागर में विभिन्न राहत प्रयासों का हिस्सा रहा है।
  • इससे पहले इसी जहाज ने चिकित्सा सहायता को ट्रांस-शिप किया था और 24 जुलाई 2021 को इंडोनेशिया को 05 लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन (LMO) कंटेनर (100 मीट्रिक टन) और 300 ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर सौंपे थे।
  • भारत और इंडोनेशिया एक मजबूत सांस्कृतिक विरासत से बंधे हुए हैं और दोनों देश के बीच बेहतरीन साझेदारी हैं।
  • दोनों देश एक सुरक्षित भारत-प्रशांत क्षेत्र की दिशा में समुद्री क्षेत्र में एक साथ मिलकर काम कर रहे हैं। दोनों देशों की नौसेनाएं नियमित रूप से द्विपक्षीय अभ्यास और समन्वित पहरेदारी भी करती हैं।

………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………….

खेल-परिदृश्य

विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप?

चर्चा में क्यों?

  • अंडर-20 विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में 17 वर्षीय शैली सिंह ने इतिहास रच दिया है। लंबी कूद की उभरती हुई खिलाड़ी और दिग्गज अंजू बॉबी जॉर्ज से खेल की सीख लेने वाली शैली ने 59 मीटर की छलांग के साथ रजत पदक अपने नाम किया।
  • शैली स्वर्ण पदक से सिर्फ एक सेंटीमीटर से चूक गईं। शैली अब अंडर-20 विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप के इतिहास में लंबी कूद में पदक जीतने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी बन गई हैं।
  • स्वर्ण पदक जीतने वाली स्वीडन की स्वीडन की 18 वर्षीय माजा असकाग ने 60 मीटर की छलांग लगाई और शैली से सिर्फ एक सेंटीमीटर ही आगे रहीं।
  • शैली ने अंडर 20 वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप के आखिरी दिन रजत पदक जीता।
  • इसके साथ ही नैरोबी (केन्या) में आयोजित इस विश्वस्तरीय टूर्नामेंट में भारत तीन मेडल जीतने में सफल रहा।शैली से पहले 4X400 मीटर रिले टीम ने कांस्य पदक तो 10000 मीटर रेस वॉक में अमित खत्री ने सिल्वर मेडल अपने नाम किया था।

…………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………..

ई-गवर्नेंस

युक्तधारा” भू-स्थानिक योजना पोर्टल

चर्चा में क्यों?

  • हाल ही में गिरिराज सिंह, केंद्रीय ग्रामीण विकास एवं पंचायती राजमंत्री ने इसरो के भुवन जीपीएस पर आधारित “युक्तधारा” भू-स्थानिक योजना पोर्टल का शुभारंभ किया।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • इस पोर्टल से रिमोट सेंसिंग और जीआईएस आधारित जानकारियों का उपयोग करते हुए नई मनरेगा परिसंपत्तियों की योजना बनाने में सुविधा प्राप्त होगी।
  • यह प्लेटफॉर्म विभिन्न राष्ट्रीय ग्रामीण विकास कार्यक्रमों यानी मनरेगा, एकीकृत वाटरशेड प्रबंधन कार्यक्रम, पर ड्रॉप मोर क्रॉप और राष्ट्रीय कृषि विकास योजना आदि के अंतर्गत बनाई गई परिसंपत्तियों (जियोटैग) के भंडार के रूप में कार्य करेगा, जिसमें फील्ड फोटोग्राफी भी शामिल है।
  • यह भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो और ग्रामीण विकास मंत्रालय द्वारा संयुक्त रूप से किए गए प्रयासों का परिणाम है, जो विकेन्द्रीकृत निर्णय लेने के समर्थन में ग्रामीण योजनाओं के लिए जी2जी सेवा को साकार करने के लिए किया गया है।
  • यह पोर्टल विभिन्न प्रकार की थीमेटिक परतों, मल्टी-टेम्पोरल हाई रेजोल्यूशन अर्थ ऑब्जर्वेशन डेटा को, विश्लेषण उपकरणों के साथ एकीकृत करता है।
  • योजनाकारों द्वारा विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत पिछली परिसंपत्तियों का विश्लेषण किया जाएगा और वे ऑनलाइन उपकरणों के माध्यम से नए कार्यों की पहचान करने हेतु सुविधा प्रदान करेंगे।
  • राज्य के विभागों के अंतर्गत आने वाले उपयुक्त प्राधिकारियों द्वारा तैयार की गई योजनाओं का मूल्यांकन किया जाएगा।
  • इस प्रकार से,युक्तधारा आधारित योजनाएं निचले स्तर के पदाधिकारी द्वारा तैयार की जाएंगी और प्रासंगिकता और संसाधन आवंटन के लिए इसे उपयुक्त प्राधिकारियों द्वारा सत्यापित किया जाएगा। इसके माध्यम से योजना की गुणवत्ता सुनिश्चित की जा सकेगी और वर्षों से सृजित किए गए परिसंपत्तियों की दीर्घकालिक निगरानी संभव हो सकेगी।

……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

रक्षा-प्रतिरक्षा

पहली बार पांच महिला अधिकारियों को कर्नल पद पर प्रोन्नति

चर्चा में क्यों?

  • भारतीय सेना के चयन बोर्ड ने सेना में 26 साल की मानद सेवा पूरी करने के बाद पांच महिला अधिकारियों को कर्नल (टाइम स्केल) के पद पर पदोन्नत करने का निर्णय लिया है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • ऐसा पहली बार हो रहा है जब कॉर्प्स ऑफ सिग्नल्स, कॉर्प्स ऑफ इलेक्ट्रॉनिक एंड मैकेनिकल इंजीनियर्स (EME) और कॉर्प्स ऑफ इंजीनियर्स में सेवारत महिला अधिकारियों को कर्नल के पद पर पदोन्नत करने को मंजूरी दी गई है।
  • इससे पहले, कर्नल के पद पर पदोन्नति केवल सैन्य चिकित्सा सेवा इकाई (AMC), जज एडवोकेट जनरल (JAG) और सैन्य शिक्षा कोर (AEC) में कार्यरत महिला अधिकारियों के लिए ही लागू होती थी।
  • भारतीय सेना की अधिक से अधिक शाखाओं में पदोन्नत होने का विस्तार करना महिला अधिकारियों के लिए इस क्षेत्र में करियर के बढ़ते अवसरों का संकेत है। भारतीय सेना की अधिकांश शाखाओं से महिला अधिकारियों को स्थायी कमीशन देने के निर्णय के साथ ही यह फैसला सैन्य सेवाओं में लैंगिक समानता के प्रति भारतीय सेना के सकारात्मक दृष्टिकोण को परिभाषित करता है।
  • जिन पांच महिला सैन्य अधिकारीयों का कर्नल टाइम स्केल रैंक के लिए चयन किया गया है, वे हैं कॉर्प्स ऑफ सिग्नल्स से लेफ्टिनेंट कर्नल संगीता सरदाना, कॉर्प्स ऑफ ईएमई से लेफ्टिनेंट कर्नल सोनिया आनंद और लेफ्टिनेंट कर्नल नवनीत दुग्गल तथा कॉर्प्स ऑफ इंजीनियर्स से लेफ्टिनेंट कर्नल रीनू खन्ना और लेफ्टिनेंट कर्नल ऋचा सागर हैं।

……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

आर्थिक एवं वाणिज्यिक परिदृश्य

एनएस विश्‍वनाथन समिति

चर्चा में क्यों?

  • प्राइमरी (शहरी) सहकारी बैंकों को लेकर भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा बनाई गई कमेटी ने अपनी रिपोर्ट सौंपी दी है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • आरबीआई ने अब आम नागरिकों और हितधारकों से इस पर सुझाव मांगे हैं।
  • कमेटी की सिफारिशों पर अंतिम फैसला लेने से पहले आरबीआई की ओर से इन सुझावों को भी देखा जाएगा।
  • इसी साल 5 फरवरी को भारतीय रिज़र्व बैंक ने पूर्व डिप्‍टी गवर्नर एन एस विश्‍वनाथन की अगुवाई में प्राइमरी (शहरी) सहकारी बैंक को लेकर एक एक्‍सपर्ट कमेटी बनाने की घोषणा की थी।

क्‍या हैं कमेटी के सुझाव?

  • आरबीआई के पूर्व डिप्‍टी गवर्नर एनएस विश्‍वनाथन की अगुवाई वाली कमेटी ने न्‍यूनतम 300 करोड़ रुपये की पूंजी के साथ एक अम्‍ब्रेला संस्‍थान बनाने का सुझाव दिया है।
  • ये संस्‍थान शहरी सहकारी बैंकों के लिए स्‍व-नियमन ईकाई के तौर पर काम करेगा।बाद में इसे सदस्‍य बैंकों द्वारा यूनिवर्सल बैंक में तब्‍दील किया जा सकता है।
  • इस संस्‍थान इन्‍फॉर्मेशन टेक्‍नोलॉजी सपोर्ट मुहैया कराने के लिए आरबीआई की ओर से एकबारगी अनुदान देने पर भी विचार किया जा सकता है।
  • नेटवर्थ समेत अन्‍य शर्तों को लेकर क्‍या सिफारिश की गई है?
  • आरबीआई की कमेटी ने सिफारिश की है कि शहरी सहकारी बैंकों में 4 टियर के आधार पर रेगुलेट किया जा सकता है।ये टियर उनके डिपॉजिट बेस पर तय किया जाएगा।
  • किसी एक ज़‍िले में ऑपरेट होने वाले बैंकों का न्‍यूनतम नेटवर्थ कम से कम 2 करोड़ रुपये की होनी चाहिए।
  • पहले टियर में शामिल बैंकों की नेटवर्थ कम से कम 5 करोड़ रुपये होनी चाहिए।
  • इन बैंकों का न्‍यूतमन CRAR 9 से 14 फीसदी होना चाहिए। इसके अलावा कुछ शर्तें भी तय होंगी।
  • अगर नियामकीय शर्तों को पूरा लिया जाता है तो ये बैंक एक ज़‍िले में 10 अतिरिक्‍त ब्रांचों को खोल सकते हैं।

Related Posts

Quick Connect

Whatsapp Whatsapp Now

Call +91 8130 7001 56