राष्ट्रीय परिदृश्य

नीति आयोग बनाएगा गरीबी सूचकांक

चर्चा में क्यों?

  • नीति आयोग देश में गरीबी मापने के लिए नया पॉवर्टी इंडेक्स विकसित करेगा।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • नीति आयोग द्वारा विकसित किए जाने वाले सूचकांक का उद्देश्य ​​​​जीएमपीआई (Global Multidimensional Poverty Index,GMPI) के साथ मिलकर राज्यों में गरीबी कम करना है।
  • उल्लेखनीय है कि कोरोना काल में बिगड़ते आर्थिक हालात के चलते देश की बड़ी आबादी का गरीबी स्तर से नीचे जाने की आशंका है। नीति आयोग ने इस वर्ष के अंत तक इंडेक्स को तैयार करने और राज्यों में गरीबी की स्थिति में सुधार करने का लक्ष्य रखा है।
  • इससे यूएनडीपी एमपीआई के ग्लोबल रैंकिंग में भारत की रैंक भी सुधरेगी।
  • भारतीय गरीबी सूचकांक का लक्ष्य स्वास्थ्य ( शिशु मृत्यु दर, पोषण ) शिक्षा और रहन सहन के स्तर को बेहतर करना होगा।
  • इंटरनेशनल लेबर ऑर्गनाइजेशन (ILO) ने हाल ही में भारत से संबंधित आंकड़ा जारी किया था। इसमें कोविड-19 के चलते भारत में करीब 40 करोड़ काम करने वाले लोगों का गरीबी स्तर से नीचे जाने का अनुमान है।

देश में गरीबी की वर्तमान स्थिति

  • पूर्व आरबीआई गवर्नर सी रंगराजन की अध्यक्षता वाली कमिटी के मुताबिक साल 2014 में भारत में कुल 36.3 करोड़ लोग गरीब थे। जो देश की पूरी आबादी का करीब 29.6 फीसदी हिस्सा था।
  • इससे पहले वर्ष 2009 में सुरेश तेंदुलकर कमिटी के मुताबिक देश में करीब 26.98 करोड़ (कुल आबादी का करीब 21.9 फीसदी हिस्सा था) गरीब थे। देश में गरीबी के मापदंड को इन दोनों कमेटियों ने निर्धारित किया था।
  • वर्तमान में देश में गरीबी को ठीक से मापने का कोई मानक नहीं है। और न ही गरीब जनसंख्या का सही आंकड़ा है।

…………………………………………………………………………………………………………………………………………………

अंतर्राष्ट्रीय परिदश्य

काला सागर में टर्की को मिले प्राकृतिक गैस के भंडार

चर्चा में क्यों?

  • ग्रीस से चल रहे तनाव के बीच तुर्की के राष्‍ट्रपति रैचप तैय्यप एर्दोगन ने ऐलान किया है कि उन्‍हें काला सागर तट के पास में 320 अरब क्‍यूबिक मीटर प्राकृतिक गैस के भंडार मिले हैं।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • राष्‍ट्रपति रैचप तैय्यप एर्दोगन के अनुसार तुर्की ने काला सागर में अब तक के सबसे बड़े गैस के भंडार की खोज की है। इस प्राकृतिक गैस का उत्‍पादन वर्ष 2023 से होने लगेगा।
  • इस खोज के बाद अब तुर्की की गैस के लिए विदेशी निर्भरता और कम हो जाएगी।
  • तुर्की के ड्रिलिंग शिप फेथ ने काला सागर में इस गैस के भंड़ार का पता लगाया है।
  • गैस का यह भंडार तुर्की के तट से लगभग 100 नॉटिकल मील उत्तर में काला सागर में पानी की सतह से 2100 मीटर की गहराई में स्थित है, इस भंडार से गैस निकालने के लिये समुद्र की तलहटी से 1400 मीटर नीचे तक ड्रिलिंग की जाएगी।

ग्रीस से चल रहा विवाद

  • विशेषज्ञों का कहना है कि तुर्की को यहां उम्‍मीद से कम गैस मिली है। इससे पहले तुर्की ने दावा किया था कि उसे अगले दो दशक तक के लिए गैस मिल गई है।
  • इससे ज्‍यादा बड़ा गैस भंडार मिस्र को मिला है। माना जा रहा है कि मिस्र का गैस भंडार 850 अरब क्‍यूबिक मीटर है।
  • तुर्की को यह गैस भंडार ऐसे समय पर मिला है जब उसका ग्रीस यूनान के साथ पूर्वी भूमध्‍य सागर में तेल और गैस की खुदाई को लेकर विवाद चल रहा है।
  • तुर्की के रिसर्च जहाज भेजने के बाद यूनान ने वहां पर अपना युद्धपोत भेज दिया था। तुर्की और ग्रीस दोनों ही नाटो के सदस्‍य देश हैं।

…………………………………………………………………………………………………………………….

समारोह/सम्मेलन

आसियान-भारत नेटवर्क ऑफ थिंक टैंक

चर्चा में क्यों?

  • हाल ही में भारत के विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने आसियान- इंडिया नेटवर्क ऑफ थिंक टैंक (ASEAN-India Network of Think Tanks-AINTT) की छठे गोलमेज सम्मेलन में भाग लिया।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • आसियान-भारत नेटवर्क ऑफ थिंक टैंक के छठे गोलमेज के अपने वर्चुअल संबोधन में विदेश मंत्री ने कहा, कि दुनिया एक अभूतपूर्व चुनौती का सामना कर रही है। वैश्विक सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में 6.5 प्रतिशत से 9.7 प्रतिशत की गिरावट हो सकती है, जो कि 5.8-8.8 ट्रिलियन डॉलर का घाटा साबित होगी।
  • विदेश मंत्री ने अप्रत्यक्ष रूप से संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के स्थायी सदस्यों चीन और अमेरिका के बीच मतभेदों के कारण महामारी पर एक बयान जारी कर सकने की संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) की विफलता का भी जिक्र किया।
  • उल्लेखनीय है कि AINTT की स्थापना भारत और दक्षिण पूर्व एशियाई देशों के संगठन (आसियान) के मध्य सहयोग के भविष्यगामी निर्देशों पर नीतिगत इनपुट प्रदान करने के लिये की गई थी।

आसियान

  • आसियान (ASEAN ) दक्षिण पूर्व एशियाई देशों का संघ है। इसकी स्थापना एशिया-प्रशांत क्षेत्रों के देशों में सामाजिक और राजनीतिक स्थिरता को बढ़ावा देने के लिए की गई थी।
  • आसियान का आदर्श वाक्य ‘वन विजन, वन आइडेंटिटी, वन कम्युनिटी’ है। 8 अगस्त को आसियान दिवस के रूप में मनाया जाता है।
  • आसियान के सदस्य राष्ट्र इंडोनेशिया, मलेशिया, फिलीपींस, सिंगापुर, थाईलैंड, ब्रुनेई, लाओस, वियतनाम, म्यांमार और कंबोडिया हैं।

……………………………………………………………………………………………………………………..

पुरस्कार/सम्मान

USISPF लीडरशिप अवॉर्ड 2020

चर्चा में क्यों?

  • अमेरिका आधारित और भारत केंद्रित एक शीर्ष समूह महिंद्रा समूह के अध्यक्ष आनंद महिंद्रा और एडोब अध्यक्ष व सीईओ शांतनु नारायण को 2020 के लीडरशिप अवॉर्ड से सम्मानित करेगा।
  • यह सम्मान उन्हें भारत-अमेरिकी रिश्तों को बढ़ावा देने के लिए दिया जा रहा है। भारत-अमेरिका रणनीतिकसाझेदारी फोरम (USISPF) द्वारा आनंद महिंद्रा और शांतनु नारायण को यह सम्मान तीसरे वार्षिक लीडरशिप सम्मेलन के दौरान प्रदान किया जाएगा।
  • यह सम्मेलन 31 अगस्त से तीन सितंबर तक आयोजित किया जाएगा। इस दौरान दुनिया के 500 बड़े सीईओ और दोनों देशों के वरिष्ठ अधिकारी शामिल होंगे। बोर्ड के अध्यक्ष जॉन कोम्बर्स ने दोनों कारोबारियों को मिलने वाले इस सम्मान पर प्रसन्नता जताई।

…………………………………………………………………………………………………………………………………………………….

नियुक्ति/निर्वाचन

अश्विनी भाटिया

चर्चा में क्यों?

  • अश्विनी भाटिया को 20 अगस्त 2020 को भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के प्रबंध निदेशक (एमडी) के रूप में नियुक्त किया गया।
  • वह वर्तमान में एसबीआई में उप प्रबंध निदेशक के पद पर कार्यरत हैं।
  • कार्मिक मंत्रालय के आदेश के अनुसार, उन्हें अपनी सेवानिवृत्ति की तारीख 31 मई, 2022 तक एमडी के रूप में नियुक्त किया गया है।

………………………………………………………………………………………………………………………

चर्चित स्थल

चोरा चर्च

चर्चा में क्यों ?

  • तुर्की के राष्ट्रपति रैचप तैय्यप एर्दोगन ने ऐतिहासिक हागिया सोफिया संग्रहालय के बाद अब ऐतिहासिक चोरा चर्च (Chora Church) को एक मस्जिद में बदलने का फैसला किया है। यह इस्तांबुल के बाइजान्टाइन चर्चों में से एक है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • देश के आधिकारिक राजपत्र में तुर्की के राष्ट्रपति के इस फैसले को प्रकाशित किया गया है। फैसले में कहा गया है कि इस्तांबुल के चर्च ऑफ सेंट सेवोर इन चोरा को देश धार्मिक प्राधिकरण को सौंप दिया गया है। अब इसे मुस्लिम प्रार्थनाओं के लिए खोला जाएगा।
  • मध्य काल का चोरा चर्च शहर की प्राचीन दीवारों के नज़दीक मौजूद है, जिसमें 14वीं शताब्दी की बाईजान्टिक मोज़ाइक और भित्तिचित्रों में बाइबिल की कहानियों के दृश्य दिखाए गए हैं।
  • ऑटोमन तुर्क द्वारा कस्तुनतुनिया या कॉन्सटेनटिनोपोल (Constantinople) की 1453 में जीत के बाद इसे मूल रूप से कारी मस्जिद में बदल दिया गया था।
  • द्वितीय विश्व युद्ध के बाद यह कारी संग्रहालय बन गया। 1958 में फिर इसे चर्च के रूप में सार्वजनिक प्रदर्शन के लिए खोल दिया।
  • हागिया सोफिया की तरफ अब चोरा को मस्जिद में बदलने का फैसला एर्दोगन की पार्टी के रूढ़िवादी और धार्मिक आधार को और मज़बूत करने के तौर पर देखा जा रहा है।

 
 
 

Related Posts

Leave a Reply