Follow Us On

Daily Current Affairs: 20 August 2021

भारत एवं विश्व

भारत-बांग्लादेश में आपदा प्रबंधन समझौता

चर्चा में क्यों?

  • प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भारत और बांग्लादेश के बीच आपदा प्रबंधन, सहनीयता और शमन के क्षेत्र में सहयोग पर समझौता ज्ञापन (MoU) को मंज़ूरी दे दी है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • इस समझौता ज्ञापन के तहत एक ऐसी प्रणाली स्थापित की जाएगी जिससे भारत और बांग्लादेश एक-दूसरे की आपदा प्रबंधन व्यवस्था से लाभ ले सकेंगे।
  • इससे आपदा प्रबंधन के क्षेत्र में तैयारी, त्वरित बचाव व राहत कार्य एवं क्षमता निर्माण को मज़बूती प्रदान करने में सहायता मिलेगी।
  • इस समझौते की प्रमुख विशेषताओं में त्वरित बचाव व राहत कार्य, पुनर्निर्माण और रिकवरी हेतु समर्थन; प्रासंगिक जानकारी, रिमोट सेंसिंग डेटा तथा अन्य वैज्ञानिक डेटा का आदान-प्रदान करना; त्वरित बचाव व राहत कार्य के अनुभव/सर्वोत्तम प्रथाओं को साझा करना; आपदा प्रबंधन के क्षेत्र में अधिकारियों के प्रशिक्षण का समर्थन करना; दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय रूप से संयुक्त आपदा प्रबंधन अभ्यास आयोजित करना; आपदा सहनीय समुदाय बनाने के लिये मानक, नवीनतम तकनीक और उपकरण साझा करना आदि शामिल हैं।
  • इस समझौते में भारत की ओर से ‘राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण’ (NDMA) और बांग्लादेश की ओर से ‘आपदा प्रबंधन और राहत मंत्रालय’ शामिल हैं।

……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

भारत-ऑस्ट्रेलिया

ऑस्ट्रेलिया-इंडिया नेवी टू नेवी रिलेशनशिप

चर्चा में क्यों?

  • भारतीय नौसेना और रॉयल ऑस्ट्रेलियाई नौसेना के बीच 18 अगस्त 2021 को ‘ऑस्ट्रेलिया-इंडिया नेवी टू नेवी रिलेशनशिप’ के लिए संयुक्त मार्गदर्शन दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर किए गए।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • हस्ताक्षर समारोह भारतीय नौसेना के नौसेनाध्यक्ष एडमिरल करमबीर सिंह और वाइस एडमिरल माइकल जे नूनन, नौसेना प्रमुख, ऑस्ट्रेलियाई नौसेना के बीच आयोजित किया गया था।
  • दस्तावेज़ प्रधानमंत्रियों द्वारा सहमत ‘व्यापक रणनीतिक साझेदारी 2020’ से जुड़ा हुआ है और इसका उद्देश्य क्षेत्रीय और वैश्विक सुरक्षा चुनौतियों के लिए साझा दृष्टिकोण सुनिश्चित करना है।
  • संयुक्त मार्गदर्शन दोनों नौसेनाओं के द्विपक्षीय/बहु-पक्षीय रूप से काम करने के इरादे को प्रदर्शित करने के लिए दिशानिर्देश दस्तावेज के रूप में कार्य करेगा।
  • मार्गदर्शन का व्यापक दायरा आपसी समझ विकसित करने, क्षेत्रीय सुरक्षा के लिए सहयोग करने, पारस्परिक रूप से लाभकारी गतिविधियों में सहयोग करने और अंतःक्रियाशीलता विकसित करने पर केंद्रित है।
  • दस्तावेज़ के मुख्य आकर्षण में क्षेत्रीय और बहुपक्षीय मंचों- जिसमें हिंद महासागर नौसेना संगोष्ठी (आईओएनएस), पश्चिमी प्रशांत नौसेना संगोष्ठी (डब्ल्यूपीएनएस), हिंद महासागर रिम एसोसिएशन (आईओआरए) और आसियान रक्षा मंत्रियों के मीटिंग प्लस फ्रेमवर्क के अधीन विशेषज्ञ कार्य समूह शामिल हैं- में घनिष्ठ सहयोग शामिल है।
  • भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच द्विपक्षीय रक्षा संबंध पिछले कुछ वर्षों में मजबूत हुए हैं। ‘व्यापक रणनीतिक साझेदारी’, पारस्परिक रसद समर्थन समझौता, त्रिपक्षीय समुद्री सुरक्षा कार्यशाला का आयोजन और अभ्यास मालाबार में आरएएन की भागीदारी महत्वपूर्ण मील के पत्थर हैं जो हाल के दिनों में इस संबंध को मजबूत करने में दोनों नौसेनाओं द्वारा निभाई गई भूमिका को रेखांकित करते हैं।
  • यह दस्तावेज़ भारत-प्रशांत क्षेत्र में शांति, सुरक्षा, स्थिरता और समृद्धि को बढ़ावा देने के लिए साझा प्रतिबद्धता को मजबूत करने में महत्वपूर्ण होगा।

……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

राज्य परिदृश्य

छत्तीसगढ़ : राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन मज़दूर न्याय योजना

चर्चा में क्यों?

  • छत्तीसगढ़ सरकार ने हाल ही में 12 लाख भूमिहीन परिवारों को लाभान्वित करने हेतु 200 करोड़ रुपए के प्रावधान के साथ ‘राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन मज़दूर न्याय योजना’ की शुरुआत की है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • राज्य सरकार के मुताबिक, इस योजना राशि को वित्तीय वर्ष 2021-2022 के अनुपूरक बजट में शामिल किया गया है।
  • यह ग्रामीण भूमिहीन मज़दूरों के लिये आर्थिक न्याय सुनिश्चित करने की दिशा में अपनी तरह की पहली योजना है।
  • इस योजना का उद्देश्य ग्रामीण भूमिहीन मज़दूरों को न्यूनतम मज़दूरी के साथ समर्थन प्रदान करना है ताकि बुनियादी सुविधाओं तक उनकी पहुँच सुनिश्चित की जा सके।
  • योजना के तहत लाभार्थी परिवारों को प्रतिवर्ष 6,000 रुपए की राशि प्रदान की जाएगी।
  • इस योजना के सफल संचालन को सुनिश्चित करने के लिये राज्य सरकार ने लाभार्थी के बैंक खाते से संबंधित किसी भी विसंगति को 15 दिनों के भीतर हल करने हेतु एक तंत्र भी स्थापित किया है।
  • राज्य सरकार द्वारा इस योजना के माध्यम से मुख्य तौर पर मनरेगा और ठेका श्रमिकों पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा।
  • इसके अलावा समाज के अन्य समूहों जैसे- नाइ, धोबी, लोहार और पुजारी आदि को भी इस योजना के तहत कवर किया जाएगा। योजना के लाभार्थी समर्पित पोर्टल पर अपना पंजीकरण करा सकते हैं।

…………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………..

निधन

माकी काजी

माकी काजी

  • हाल ही में ‘सुडोकू के गॉडफादर’ के रूप में प्रसिद्ध जापान के ‘माकी काजी’ का 69 वर्ष की आयु में निधन हो गया है।
  • माकी काजी ने ‘सुडोकू’ को 1980 के दशक में सर्वप्रथम अपनी पत्रिका ‘निकोली’ में प्रकाशित किया था। तब से यह लोकप्रिय खेल- जिसमें 9×9 ग्रिड की प्रत्येक पंक्ति, स्तंभ और वर्ग में 1 से 9 तक की संख्या भरनी होती है, विश्व भर में फैला और लोकप्रिय हो गया है।
  • माकी काजी का जन्म उत्तरी जापान के ‘साप्पोरो’ शहर में वर्ष 1951 में हुआ था।
  • जापान के ‘कीओ विश्वविद्यालय’ से अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़ने के बाद उन्होंने एक पहेली पत्रिका ‘निकोली’ की स्थापना की और अगस्त 1980 में इसका पहला संस्करण प्रकाशित किया गया।
  • एक खेल के रूप में ‘सुडोकू’ की उत्पत्ति का इतिहास स्पष्ट नहीं है, एक मत के अनुसार, इस खेल की उत्पत्ति का श्रेय 18वीं शताब्दी के स्विस गणितज्ञ ‘यूलर’ को दिया जाता है, जबकि एक अन्य मत के अनुसार, यह 8वीं या 9वीं शताब्दी में भारत के रास्ते चीन से अरब जगत में आया।
  • ‘निकोली’ पत्रिका में प्रकाशित होने के बाद ‘सुडोकू’ खेल जापान समेत दुनिया भर में लोकप्रिय हो गया।

Related Posts

Quick Connect

Whatsapp Whatsapp Now

Call +91 8130 7001 56