Follow Us On

Daily Current Affairs 19 July 2021

पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी

आकाशीय बिजली गिरने की घटनाएं

चर्चा में क्यों?

  • हाल के दिनों में राजस्थान की राजधानी जयपुर के आमेर किले पर बिजली गिरने से 11 लोगों की मौत हो गई। इसके अलावा भी प्रदेश में अन्य स्थानों पर इस तरह की घटनाएं हुई हैं।

क्यों गिरती है आकाशीय बिजली?

  • बिजली चमकना और गिरना एक प्राकृतिक घटना है। जब बायुमंडल में अधिक गर्मी और नमी मिलती है तो विशेष तरह के ‘थंडर क्‍लाउड’ बादलों का निर्माण होता है।
  • धरती की सतह से लगभग 8-10 किलोमीटर ऊंचाई इन बादलों के निचले हिस्‍से में निगेटिव और ऊपरी हिस्‍से में पॉजिटिव चार्ज अधिक रहता है।
  • दोनों के बीच अंतर कम होने पर तेजी से होने वाला डिस्‍चार्ज बिजली कड़कने के रूप में सामने आता है।
  • बादलों के बीच बिजली कड़कना हमें नजर आता है और उससे नुकसान नहीं है।
  • नुकसान तब होता है जब बादलों से बिजली जमीन में आती है।
  • एक साथ भारी मात्रा में ऊर्जा धरती के एक छोटे से हिस्‍से पर गिरती है।
  • एक बार बिजली गिरने से कई करोड़ वॉट ऊर्जा पैदा होती है।
  • इससे आसपास के तापमान में 10,000 डिग्री से लेकर 30,000 डिग्री तक का इजाफा हो सकता है।

पृथ्वी पर बिजली कैसे गिरती है?

  • तड़ित झंझा के बादलों में विद्युत आवेश उत्पन्न होता है। इन बादलों की निचली सतह ऋणावेशित और ऊपरी सतह धनावेशित होती है, जिससे भूमि पर धनावेश उत्पन्न होता है।
  • धन और ऋण एक-दूसरे को चुम्बक की तरह अपनी ओर आकर्षित करते हैं, किंतु वायु के एक अच्छा संवाहक न होने के कारण विद्युत आवेश में बाधाएँ आती हैं। अतः बादल की ऋणावेशित निचली सतह को छूने का प्रयास करती धनावेशित तरंगे भूमि पर गिर जाती हैं।
  • पृथ्वी विद्युत की सुचालक है। यह बादलों की मध्य परत की तुलना में अपेक्षाकृत धनात्मक रूप से चार्ज होती है। परिणामस्वरूप, बिजली का अनुमानित 20-25 प्रतिशत प्रवाह पृथ्वी की ओर निर्देशित हो जाता है। यह विद्युत प्रवाह जीवन और संपत्ति को नुकसान पहुँचाता है।

आकाशीय बिजली के प्रकार

  • इंट्रा-क्लाउड (Intra-Cloud): यह सबसे आम प्रकार की आकाशीय बिजली/तड़ित है जो पूरी तरह से बादल के अंदर उत्पन्न होती है। यह बादल के विभिन्न आवेशित भागों में प्रवाहित होती है। इसे शीट लाइटनिंग भी कहा जाता है क्योंकि इसके चमकने से आकाश प्रकाश की ‘चादर’ के समान जगमगा जाता है।
  • क्लाउड टू क्लाउड (Cloud to Cloud): वह आकाशीय बिजली जो दो या दो से अधिक बादलों के बीच उत्पन्न होती है।
  • क्लाउड टू ग्राउंड (Cloud to Ground): यह बादल और भूमि के बीच उत्पन्न होती है।
  • क्लाउड टू एयर (Cloud to Air): यह आकाशीय बिजली तब उत्पन्न होती है जब धनात्मक रूप से आवेशित बादलों के चारों ओर उपस्थित वायु नकारात्मक रूप से आवेशित वायु तक पहुँचती है।
  • बोल्ट फ्रॉम द ब्लू (Bolt from the blue): आकाशीय बिजली का एक प्रकार, जो तूफान के दौरान वायु की ऊपर उठती धाराओं के भीतर उत्पन्न होती है। कई मील तक क्षैतिज रूप से यात्रा करने के बाद ज़मीन से टकराती है।
  • एनविल लाइटनिंग (Anvil Lightning): यह एनविल या तड़ितझंझा/थंडरस्टॉर्म वाले बादलों के ऊपर विकसित होती है और ज़मीन से टकराने के लिये आम तौर पर सीधे नीचे की ओर जाती है।
  • हीट लाइटनिंग (Heat Lightning): तड़ित झंझा अथवा आंधी से उत्पन्न हुई बिजली की गड़गड़ाहट जो बहुत दूर तक सुनाई देती है।

ऐसे जारी की जाती है चेतावनी?

  • मौसम विभाग आकाशीय बिजली गिरने की वॉर्निंग जारी करने से पहले कई तरह के फोरकास्टिंग मॉडल यूज करता है।
  • इसके लिए विभाग ग्लोबल फोरकास्टिंग सिस्टम और यूनिफाइड माॉडल के साथ लोकल कंडीशन के आधार पर वर्टिकल डायरेक्शन में विंड पैटर्न का प्रोफाइल यानी हवा की स्पीड, दिशा, तापमान का पता लगाकर यह तय करता है कि बिजली गिरने की आशंका है या नहीं है? या फिर कितनी है।

……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

पुरस्कार/सम्मान

मुहम्मद यूनुस को ओलंपिक लॉरेल पुरस्कार

चर्चा में क्यों?

  • अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति (IOC) ने बांग्लादेश के नोबेल शांति पुरस्कार विजेता मुहम्मद यूनुस टोक्यो खेलों में ओलंपिक लॉरेल से सम्मानित करने की घोषणा की है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित बांग्लादेश के मुहम्मद यूनुस 23 जुलाई को टोक्यो खेलों के उद्घाटन समारोह के दौरान ट्रॉफी प्राप्त करने पर ओलंपिक लॉरेल के दूसरे प्राप्तकर्ता बन जाएंगे।
  • मुहम्मद यूनुस जिन्हें अक्सर “गरीबों के लिए दुनिया का बैंकर” कहा जाता है। विकास के लिए खेल में अपने व्यापक काम के लिए ओलंपिक लॉरेल पुरस्कार प्राप्त करता है, जिसमें यूनुस स्पोर्ट्स हब की स्थापना शामिल है, जो एक वैश्विक सामाजिक व्यापार नेटवर्क है जो खेल के माध्यम से समाधान बनाता है।
  • अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति ने एक बयान में कहा, मुहम्मद यूनुस, जिनके अग्रणी सूक्ष्म ऋणदाता को दुनिया भर में गरीबी काटने के लिए सम्मानित किया गया है, को “विकास के लिए खेल में उनके व्यापक कार्य” के लिए सम्मानित किया जाएगा।
  • उन्होंने 1980 के दशक में ग्रामीण बैंक की स्थापना की और सूक्ष्म ऋणदाता के साथ नोबेल पुरस्कार साझा किया। उनकी पहल में यूनुस स्पोर्ट्स हब, सामाजिक उद्यमों का एक नेटवर्क शामिल है जो खेल के माध्यम से विकास को बढ़ावा देता है।

अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति (International Olympic Committee-IOC):

  • इसकी स्थापना 23 जून, 1894 को ।
  • यह ओलंपिक का सर्वोच्च प्राधिकरण है।
  • यह एक गैर-लाभकारी स्वतंत्र अंतर्राष्ट्रीय संगठन है जो खेल के माध्यम से एक बेहतर विश्व के निर्माण के लिये प्रतिबद्ध है।
  • यह ओलंपिक खेलों के नियमित आयोजन को सुनिश्चित करता है, सभी संबद्ध सदस्य संगठनों का समर्थन करता है और उचित तरीकों से ओलंपिक के मूल्यों को बढ़ावा देता है।
  • वर्ष 1948 से हर चार वर्ष में एक बार ओलंपिक आयोजित होते हैं।
  • इसके वर्तमान अध्यक्ष थॉमस बाख (जर्मनी) हैं।

……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

राष्ट्रीय परिदृश्य

जम्मू-कश्मीर उच्च न्यायालय का बदला नाम

चर्चा में क्यों?

  • केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर और केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख संयुक्त उच्च न्यायालय’ का नाम बदलकर अब ‘जम्मू-कश्मीर एवं लद्दाख उच्च न्यायालय’ कर दिया गया है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने इस बदलाव को प्रभावी करने के लिए जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन (कठिनाइयों का निवारण) आदेश, 2021 पर हस्ताक्षर कर दिए हैं।
  • विधि मंत्रालय में न्याय विभाग ने 16 जुलाई 2021 को इससे संबंधित आदेश को अधिसूचित कर दिया।
  • आदेश में कहा गया है कि जम्मू -कश्मीर पुनर्गठन अधिनियम 2019 को जम्मू-कश्मीर राज्य को केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर और केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख में पुनर्गठित करने के लिए बनाया गया था।
  • आदेश में कहा गया है कि ‘केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर और केंद्र शासित लद्दाख का संयुक्त उच्च न्यायालय’ नाम बड़ा और बोझिल है, इसलिए इसे जम्मू-कश्मीर एवं लद्दाख उच्च न्यायालय कर दिया गया है जो अन्य साझा उच्च न्यायालय के नामों की तर्ज पर है जैसे पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय।

…………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………..

अंतर्राष्ट्रीय परिदृश्य

अफगानिस्तान में शांति के लिए नया राजनयिक मंच

चर्चा में क्यों?

  • अमेरिका ने कहा है कि वह अफगानिस्तान, पाकिस्तान और उजबेकिस्तान से क्षेत्रीय संपर्क बढ़ाने पर केंद्रित एक नया राजनयिक मंच स्थापित करने के लिए सैद्धांतिक रूप से सहमत है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • इसके लिए सभी देशों ने सहमति दी है। भारत, जापान, ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका के बी हिंद-प्रशांत में चीन की चुनौती से मुकाबला करने के लिए बने क्वाड गठबंधन के बाद यह नए क्वाड गठबंधन की तैयारी की जा रही है।
  • अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने इस संबंध में कहा है कि सभी पक्ष अफगानिस्तान में दीर्घकालिक शांति और स्थिरता को क्षेत्रीय संपर्क के लिए महत्वपूर्ण मानते हैं और वे इस बात पर सहमत हैं कि शांति और क्षेत्रीय संपर्क पारस्परिक रूप से मजबूत किया जा रहा है।
  • इसके अलावा अंतरक्षेत्रीय व्यापार मार्गों को खोलने के ऐतिहासिक मौके को स्वीकार करते हुए सभी पक्ष व्यापार का विस्तार करने, पारगमन संपर्क बनाने और परस्पर व्यापारिक संबंधों को मजबूत करने के लिए सहयोग करने का इरादा रखते हैं। इसके लिए सभी पक्ष आपसी सहमति और परस्पर सहयोग से इसके तौर-तरीकों का निर्धारण करने के लिए आगामी महीनों में मुलाकात पर सहमत हुए हैं।

6 देशों की सीमाएं मिलती हैं अफगानिस्तान की सीमाएं

  • अफगानिस्तान की सीमा पूर्व और दक्षिण में पाकिस्तान से, पश्चिम में ईरान से, उत्तर में तुर्कमेनिस्तान, उजबेकिस्तान और ताजिकिस्तान तथा उत्तर पूर्व में चीन से मिलती है। ऐतिहासिक सिल्क मार्ग के मध्य में स्थित अफगानिस्तान लंबे समय तक व्यापार के लिए एशियाई देशों को यूरोप से जोड़ने का माध्यम और सांस्कृतिक, धार्मिक एवं वाणिज्यिक संपर्कों को बढ़ावा देने वाला रहा है।

इसलिए अहम है यह समूह

  • चीन की बीआरआई योजना का विस्तार अफगानिस्तान तक करने की हत्वाकांक्षा के बीच नए क्वाड समूह का गठन अहम है। बीआरआई चीन की कई अरब डॉलर की योजना है, जिसका मकसद दक्षिण पूर्व एशिया, मध्य एशिया, खाड़ी क्षेत्रों, अफ्रीका व यूरोप को समुद्र-सड़क मार्ग से जोड़ना है। अफगानिस्तान में भी प्रभुत्व बढ़ाने के लिए चीन सामरिक आधार दे सकता है। ऐसे में नया गठबंधन चीनी विस्तार को रोक सकता है।

…………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………..

भारत एवं विश्व

टीटीएक्स-2021

चर्चा में क्यों?

  • भारत, श्रीलंका और मालदीव के शीर्ष रक्षा अधिकारियों ने एक वर्चुअल त्रिपक्षीय चर्चा आधारित अभ्यास में हिस्सा लिया।
  • उन्होंने एक देश से अन्य देश तक होने वाले मादक पदार्थो की तस्करी जैसे अपराध से निपटने के लिए सर्वश्रेष्ठ उपायों और प्रक्रियाओं तथा समुद्री तलाश एवं बचाव कार्य में सहायता पर चर्चा की।
  • 14 से 15 जुलाई तक चले दो दिवसीय टीटीएक्स-2021 अभ्यास का लक्ष्य एक देश से अन्य देशों तक होने वाले अपराध को रोकने के लिए परस्पर समझ को बढ़ाना तथा सर्वेश्रेष्ठ उपायों का आदान-प्रदान करना था। अभ्यास का समन्वय समुद्री युद्ध केंद्र, मुबई ने किया।
  • अभ्यास में क्षेत्र में मादक पदार्थों की तस्करी पर रोक लगाने और समुद्री तलाश एवं बचाव कार्य पर जोर दिया गया।

………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………..

स्वास्थ्य एवं पोषण

मंकी बी वायरस

चर्चा में क्यों?

  • चीन में मंकी बी वायरस (Monkey B Virus) की पहली मानव संक्रमण मौत की पुष्टि हुई है। जिस वेटरनरी डॉक्टर की मौत हुई है, वह चीन का पहला मंकी बी (BV) मानव संक्रमण केस था।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • इस वेटरनरी डॉक्टर ने मार्च की शुरुआत में दो मृत बंदरों की चीरफाड़ की थी। डॉक्टर एक ऐसे इंस्टीट्यूट के लिए काम कर रहे थे, जो नॉन-ह्यूमन प्राइमेट पर रिसर्च कर रहा था।
  • यह चीन में BV का पहला घातक और क्लिनिकली रिकॉर्ड हुआ संक्रमण है। रिसर्चर्स ने अप्रैल में डॉक्टर का सेरिब्रोस्पाइनल फ्लुइड इकट्ठा किया था और उन्हें BV संक्रमित पाया था। उनके करीबी लोगों का टेस्ट रिजल्ट नेगेटिव आया था।
  • इस वायरस की पहचान 1932 में हुई थी। यह वायरस सीधे संपर्क और शारीरिक स्रावों के आदान-प्रदान से फैलता है. मंकी बी वायरस से संक्रमित मरीज़ों में मृत्यु दर 70 प्रतिशत से 80 प्रतिशत है।

क्या है मंकी बी वायरस?

  • हर्पीस बी वायरस या फिर मंकी वायरस आमतौर पर वयस्क मैकाक बंदरों से फैलता है। इसके अलावा रीसस मैकाक, सुअर-पूंछ वाले मैकाक और सिनोमोलगस बंदर या लंबी पूंछ वाले मैकाक से भी यह वायरस फैलता है।
  • इसका इंसानों में पाया जाना दुर्लभ है, लेकिन अगर कोई इंसान इस वायरस से संक्रमित हो जाता है तो उसे तंत्रिका संबंधी रोग या मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी में सूजन की शिकायत हो सकती है।

यह वायरस फैलता कैसे है?

  • इंसानों में यह वायरस आमतौर पर मैकाक बंदरों के काटने या खरोंच के बाद ही पहुंच सकता है। वायरस संक्रमित बंदर की लार, मल-मूत्र से भी फैल सकता है।
  • इसके अलावा संक्रमित इंजेक्शन भी इसका एक ज़रिया हो सकता है।
  • यह वायरस वस्तुओं की सतहों पर घंटों तक जीवित रह सकता है।
  • बोस्टन पब्लिक हेल्थ कमिशन की रिपोर्ट के अनुसार, इंसानों में उन लोगों को इस वायरस से संक्रमित होने का ख़तरा सबसे अधिक है जो प्रयोगशाला में काम करते हैं, पशु चिकित्सक हैं या फिर इन बंदरों के निकट रहकर काम करते हैं।

इस वायरस के लक्षण क्या हैं?

  • मनुष्यों में, वायरस के संपर्क में आने के 1 महीने के भीतर लक्षण नज़र आने लगते हैं। कई बार ये लक्षण 3 से 7 दिनों में भी दिखाई दे जाते हैं। लक्षण कितनी तेज़ी से बढ़ता है ये संक्रमण कणों पर पर निर्भर करता है।
  • एक बात विशेष रूप से ध्यान देने वाली है कि हर किसी में एक समान लक्षण ही हों यह आवश्यक नहीं है।

कुछ सामान्य लक्षण

  • संक्रमण की जगह के पास फफोले पड़ जाना, घाव के पास दर्द होना. उस जगह का सुन्न हो जाना. खुजली होना, फ़्लू जैसा दर्द, बुखार और ठंड लगना, 24 घंटे से अधिक समय तक सिरदर्द, मांसपेशीयों में अकड़न आदि इसके लक्षण हैं।

इलाज क्या है?

  • बी वायरस के इलाज के लिए एंटीवायरल दवाएं तो उपलब्ध हैं, लेकिन कोई टीका उपलब्ध नहीं है।

Related Posts