Daily Current Affairs 14 & 15 September 2020

आर्थिक वाणिज्यिक परिदृश्य

 

बिहार में एलपीजी पाइपलाइन प्रॉजेक्ट के बॉटलिंग संयंत्रों का उद्घाटन

चर्चा में क्यों?

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 13 सितंबर 2020 को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये बिहार में एलपीजी पाइपलाइन प्रॉजेक्ट के एक खंड और दो बॉटलिंग संयंत्रों का उद्घाटन किया

इन परियोजनाओं का किया उद्घाटन

1-पारादीप-हल्दिया-दुर्गापुर पाइपलाइन प्रॉजेक्ट का दुर्गापुर-बांका खंड।

  • दुर्गापुर-बांका खंड वर्तमान 679 किलोमीटर की पारादीप-हल्दिया-दुर्गापुर एलपीजी पाइपलाइन का बांका में नए एलपीजी बॉटलिंग संयंत्र तक विस्तार है।
  • उल्लेखनीय है किपारादीप-हल्दिया-दुर्गापुर पाइपलाइन पश्चिम बंगाल, झारखंड और बिहार से गुजरती है।

2-इंडियन ऑयल कार्पोरेशन (IOC) के बांका के एलपीजी बॉटलिंग संयंत्र।

  • इस प्रॉजेक्ट से बिहार व झारखंड की रसोई गैस की मांग को पूरा करने में मदद मिलेगी। इस बॉटलिंग संयंत्र का निर्माण 131.75 करोड़ रुपये के निवेश से किया गया है।

3-हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन के पूर्वी चंपारण जिले के हरसिद्धि में 1,20,000 टन सालाना क्षमता के एलपीजी बॉटलिंग संयंत्र।

प्रधानमंत्री ऊर्जा गंगा योजना

  • उद्घाटन के अवसर पर पीएम मोदी ने कहा कि प्रधानमंत्री ऊर्जा गंगा योजना के अंतर्गत पूर्वी समुद्र तट और पश्चिमी समुद्री तट पर कांडला पर पूर्वी सागर पर पूर्वी भारत को पारादीप से जोड़ने का भगीरथ का प्रयास शुरू हुआ और सात राज्यों को इस पाइपलाइन के माध्यम से जोड़ा जाएगा, जो लगभग 3000 किलोमीटर लंबी है, जिसमें बिहार की भी प्रमुख भूमिका है।
  • पारादीप – हल्दिया से जाने वाली लाइन को अब पटना, मुज़फ़्फ़रपुर तक बढ़ाया जाएगा और कांडला से आने वाली पाइपलाइन जो गोरखपुर तक पहुँच चुकी है, उसे भी इससे जोड़ा जाएगा।
  • जब पूरी परियोजना तैयार हो जाएगी, तो यह दुनिया की सबसे लंबी पाइपलाइन परियोजनाओं में से एक बन जाएगी।

………………………………………………………………………………………………………………………

राज्य परिदृश्य

उत्तर प्रदेश सरकार ने स्‍पेशल सिक्यॉरिटी फोर्स (SSF) का किया गठन

चर्चा में क्यों?

  • उत्तर प्रदेश सरकार ने स्‍पेशल सिक्यॉरिटी फोर्स नाम के एक विशेष पुलिस बल का गठन किया है।

महत्वपूर्ण तथ्य

  • इस विशेष फोर्स पर औद्योगिक प्रतिष्ठानों, प्रमुख स्थलों, हवाई अड्डों, मेट्रो और खासकर कोर्ट समेत अन्य स्थानों की सुरक्षा की जिम्‍मेदारी होगी।
  • इसके पास बिना वॉरंट तलाशी लेने और गिरफ्तारी करने का अधिकार होगा।
  • इस फोर्स का नेतृत्व एडीजी स्तर का अधिकारी करेगा।
  • प्रस्‍तावित स्‍पेशल सिक्यॉरिटी फोर्स (SSF) किसी भी ऐसे व्यक्ति को गिरफ्तार कर सकेगा जो उसे प्रतिष्ठानों की सुरक्षा के दौरान कर्तव्यों का पालन करने से रोकता है, वहां हमला करने, हमला करने की धमकी देने, आपराधिक बल का प्रयोग करने की कोशिश करता है।
  • इसके लिए बल के सदस्यों को किसी मैजिस्ट्रेट के वॉरंट की जरूरत नहीं होगी।
  • संदेह के आधार पर बिना वॉरंट तलाशी भी ली जा सकेगी। हालांकि गिरफ्तारी के बाद वरिष्ठ अधिकारियों को जानकारी देनी होगी और गिरफ्तार व्यक्ति को थाने के हवाले करना होगा।

फोर्स के खिलाफ संज्ञान लेने के लिए भी सरकारी मंजूरी

  • बल का प्रत्येक सदस्य हमेशा ऑन ड्यूटी माना जाएगा और उसे प्रदेश में कहीं भी तैनाती दी जा सकती है।
  • इस बल के किसी सदस्य द्वारा ड्यूटी के दौरान किया जाने वाले किसी भी कार्य को लेकर कोर्ट बिना सरकार की मंजूरी के उसके खिलाफ अपराध का संज्ञान नहीं ले पाएगा।
  • शुरुआत में इसकी 5 बटालियन होंगी, जिस पर एक साल में 1747 करोड़ रुपये खर्च होगा। पीएसी का इंफ्रास्ट्रक्चर भी इसमें शेयर किया जाएगा।

………………………………………………………………………………………………………………………

खेल परिदृश्य

यूएस ओपन 2020

चर्चा में क्यों?

  • नाओमी ओसाका और डॉमिनिक थीम ने जीते यूएस ओपन 2020 के सिंगल्स

महत्वपूर्ण बिंदु

  • जापान की नाओमी ओसाका ने यूएस ओपन 2020 वूमेंस सिंगल फ़ाइनल जीत कर अपना तीसरा ग्रैंड स्लैम जीत लिया है।
  • 22 साल की नाओमी ने 31 साल की बेलारूस की विक्टोरिया एज़ारेंका को पराजित कर यह खिताब जीता।
  • विक्टोरिया एज़ारेंका 2013 के बाद अपना पहला यूएस ओपन फ़ाइनल खेल रही थीं।
  • नाओमी ओसाका ने अपना हर फ़ाइनल जीतने का रिकॉर्ड कायम रखा है। इस जीत के बाद वे वर्ल्ड रैंकिग में तीसरे नंबर पर आ गई हैं।
  • नाओमी ओसाका पहली एशियाई खिलाड़ी बन गई हैं जिन्होंने तीन ग्रैंड स्लैम अपने नाम कर लिए हैं।

डॉमिनिक थीम जीता मैन्स सिंगल

  • ऑस्ट्रिया के डॉमिनिक थीम ने जर्मनी के ऐलेक्जेंडर ज्वेरेव को हराकर यूएस ओपन का खिताब जीता।
  • पांच सेट में चले इस मैराथन मुकाबले में थीम ने अपना पहला ग्रैंड स्लैम जीता।
  • वे यूएस ओपन मैन्स सिंगल्स का खिताब जीतने वाले ऑस्ट्रिया के पहले खिलाड़ी हैं।
  • 71 साल बाद यूएस ओपन के फाइनल में पहले दो सेट गंवाने के बाद किसी खिलाड़ी ने खिताब पर कब्जा जमाया।
  • इससे पहले पांचों गोंजालेज ने 1949 में यह कारनामा किया था। पहली बार विजेता का फैसला टाइब्रेकर के जरिए हुआ।

………………………………………………………………………………………………………………………

निधन

रघुवंश प्रसाद सिंह

  • पूर्व केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह का 13 सितंबर 2020 को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) नई दिल्ली में निधन हो गया। वह 74 वर्ष के थे।
  • ग्रामीण विकास मंत्री के रूप में ‘मनरेगा’ (महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना ) लाने वाले रघुवंश प्रसाद सिंह 23 मई 2004 से 2009 तक केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री रहे।
  • उन्होंने 2 फरवरी, 2006 को देश के 200 पिछड़े जिलों में मनरेगा की शुरुआत की थी।
  • बिहार की वैशाली लोकसभा सीट से सांसद रहे रघुवंश प्रसाद का जन्म छह जून 1946 को वैशाली के ही शाहपुर में हुआ था।
  • उन्होंने बिहार विश्वविद्यालय से गणित में डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की थी।
  • 1973 में उन्हें संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी का सचिव बनाया गया था। 1977 से लेकर 1990 तक वे बिहार राज्यसभा के सदस्य रहे थे।

………………………………………………………………………………………………………………………

नियुक्ति/ निर्वाचन

हरिवंश नारायण सिंह

चर्चा में क्यों?

  • राष्ट्रीय जनतांत्रिक गंठबंधन (NDA) उम्मीदवार हरिवंश नारायण सिंह 14 सितंबर को दूसरी बार राज्यसभा के उपसभापति चुने गए।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • हरिवंश नारायण सिंह के विरुद्ध विपक्ष के उम्मीदवार राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के मनोज झा खड़े थे।
  • जनता दल यूनाईटेड (JDU) हरिवंश सामाजिक सरोकार की पत्रकारिता से जुड़े रहे हैं।
  • उत्तर प्रदेश के बलिया जिले के सिताब दियारा गांव में 30 जून, 1956 को जन्मे हरिवंश नारायण सिंह ने बनारस हिंदू विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में एमए और पत्रकारिता में डिप्लोमा की पढ़ाई की है।

………………………………………………………………………………………………………………………

योशीहिदे सुगा

चर्चा में क्यों?

  • योशीहिदे सुगा ने 14 सितंबर 2020  को जापान की सत्तारूढ़ लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी (LDP) के अध्यक्ष का चुनाव जीत लिया।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • जापान की संसद के निचले सदन में एलडीपी का बहुमत है, इसलिए उनका देश के नए प्रधानमंत्री बनना तय है।
  • वह स्वास्थ्य कारणों के चलते पिछले महीने पद छोड़ने वाले एबी शिंजो की जगह लेंगे।
  • वर्ष 2012 से एबी शिंजो की सरकार में चीफ कैबिनेट सेक्रेटरी रहे सुगा को 534 में से 377 वोट मिले।
  • जबकि उनके प्रतिद्वंद्वी और पूर्व रक्षा मंत्री शीगेरू इशिबा को 68 और दूसरे प्रतिद्वंद्वी और पूर्व विदेश मंत्री फूमिओ किशिदा को 89 वोट मिले।
  • योशीहिदे सुगा एबी शिंजो के शेष बचे कार्यकाल यानी सितंबर 2021 तक प्रधानमंत्री रहेंगे।

………………………………………………………………………………………………………………………

चर्चित व्यक्तित्व

कल्पना चावला

चर्चा में क्यों?

  • अमेरिका की एयरोस्पेस और रक्षा प्रौद्योगिकी कंपनी नॉर्थरोप ग्रमैन (Northrop Grumman) ने अपने एक वाणिज्यिक कार्गो अंतरिक्ष यान का नाम भारतीय मूल की अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री कल्पना चावला  के नाम पर रखने की घोषणा की है।
  • नॉर्थग्रुप ग्रमैन ने घोषणा की कि इसके अगले अंतरिक्षयान सिग्नेस का नाम मिशन विशेषज्ञ की याद में “एस.एस कल्पना चावला” रखा जाएगा।

कल्पना चावला से संबंधित महत्वपूर्ण बिंदु

  • कल्पना चावला का जन्म 17 मार्च, 1962 को हरियाणा के करनाल में हुआ था।
  • 1982 में उन्होंने पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज से वैमानिक इंजीनियरिंग की डिग्री प्राप्त की।
  • इसके बाद वह आगे की पढ़ाई के लिए अमेरीका चली गईं, जहाँ 1984 में टेक्सस विश्विद्यालय से उन्होंने अंतरिक्ष वैमानिकी में मास्टर्स की डिग्री हासिल की।
  • इसके बाद इसी विषय में 1988 में उन्होंने अमेरिका के ही कोलोराडो विश्विद्यालय से डॉक्टरेट किया।
  • वह 1988 में अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी, नासा से जुड़ीं।
  • 19 नवंबर 1997 को वह दिन आया जब करनाल की बेटी कल्पना चावला ने अंतरिक्ष में भारत का नाम रोशन किया।
  • नासा के जनवरी 2003 के अभियान एसटीएस-107 के लिए कल्पना को मिशन विशेषज्ञ के रूप में अंतरिक्ष प्रयोगों के लिए चुना गया था।
  • इस मिशन के तहत 16 जनवरी, 2003 में कोलंबिया नामक अंतरिक्ष यान कल्पना चावला सहित सात अंतरिक्ष यात्रियों को लेकर अंतरिक्ष के लिए रवाना हुआ था।
  • लेकिन एक फरवरी, 2003 को अमरीका के कैनेडी अंतरिक्ष केंद्र पर उतरने से पहले अमरीकी अंतरिक्ष यान कोलंबिया दुर्घटनाग्रस्त हो गया।
  • इस हादसे में भारतीय मूल की कल्पना चावला सहित सातों अंतरिक्ष यात्रियों की मौत हो गई थी।

………………………………………………………………………………………………………………………

अंतर्राष्ट्रीय परिदृश्य

सिंगापुर कन्वेंशन ऑन मिडिएशन

चर्चा में क्यों?

  • अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर विवादों को आसानी से हल करने में मददगार सिंगापुर अंतरराष्ट्रीय मध्यस्थता संधि (Singapore International Arbitration Treaty) 12 सितंबर 2020 से लागू हो गई है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • संयुक्त राष्ट्र के 53 सदस्य देशों के इस संगठन का सदस्य भारत भी है।
  • सिंगापुर कन्वेंशन ऑन मिडिएशन (Singapore Convention on Mediation) के नाम से जानी जाने वाली यह संधि भारत और अन्य देशों में आपसी व्यावसायिक और बड़े कॉरपोरेट विवादों को निपटाने में मध्यस्थता का प्रभावी तरीका प्रदान करती है।
  • एक सितंबर, 2020 तक भारत, अमेरिका, चीन और दक्षिण कोरिया समेत करीब 53 देश इस संधि पर हस्ताक्षर कर चुके थे।
  • सिंगापुर के नाम पर होने वाली यह संयुक्त राष्ट्र की पहली संधि भी है।
  • दरअसल विवादों के निपटान के लिए प्रत्येक देश की एक घरेलू और खर्चीली प्रक्रिया होती है। इनसे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कई महत्वपूर्ण व्यावसायिक मुद्दे लंबे समय तक विवादों में उलझे रहते हैं।

क्या महत्व है इस संधि का?

  • कन्वेंशन के लागू होने के साथ, सीमा पार व्यवसाय से जुड़े विवादों के समाधान के लिए सदस्य देशों द्वारा सीधे आवेदन किए जा सकेंगे। संधि के तहत सामंजस्य आधारित और सरल एवं प्रभावी ढांचे से विवाद समाधान में समय और कानूनी लागत की बचत भी होगी, जो कोविड​​-19 महामारी के दौरान अनिश्चितता के समय में व्यवसायों के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण है।

सिंगापुर में ही क्यों?

  • सिंगापुर अंतर्राष्ट्रीय वाणिज्यिक विवाद समाधान सेवाओं का एक प्रमुख केंद्र बनकर उभरा है।
  • बीते वर्षों में यहां विभिन्न अंतरराष्ट्रीय संस्थानों की स्थापना की गई है
  • । इनमें सिंगापुर इंटरनेशनल आर्बिट्रेशन सेंटर, सिंगापुर अंतरराष्ट्रीय मध्यस्थता केंद्र और सिंगापुर इंटरनेशनल कमर्शियल कोर्ट आदि प्रमुख हैं।

………………………………………………………………………………………………………………………

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी

शुक्र ग्रह (Venus) के बादलों में फॉस्फीन गैस मिली

चर्चा में क्यों?

  • सौर मंडल में पृथ्वी के सबसे नजदीकी ग्रह शुक्र (Venus) पर जीवन होने के संकेत मिले हैं।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • हाल ही में हुए एक अध्ययन में इस बात की संभावना जताई गई है कि शुक्र ग्रह पर सूक्ष्म जीव हो सकते हैं।
  • ब्रिटिश वैज्ञानिकों ने दावा किया कि शुक्र ग्रह (Venus) के बादलों में फॉस्फीन गैस मिली है, जिसकी वजह से वहां जीवन होने की संभावना बढ़ गई है।
  • पृथ्वी पर फॉस्फीन गैस (Phosphine Gas) को माइक्रोबैक्टीरिया ऑक्सीजन की कमी में उत्सर्जित करते हैं, इसलिए वैज्ञानिकों को लगता है कि इस ग्रह पर जीवन हो सकता है। वैज्ञानिकों ने इस बात का दावा नहीं किया है कि Venus ग्रह पर जीवन है, लेकिन उन्होंने इसकी संभावना जताई है कि शुक्र ग्रह के ऊपरी वातावरण में बैक्टीरिया जैसे जीव हो सकते हैं।
  • फॉस्फीन गैस को ऑक्सीजन की कमी होने पर केवल बैक्टीरिया ही उत्सर्जित करते हैं।
  • वैज्ञानिकों की टीम ने हवाई में जेम्स क्लार्क मैक्सवेल टेलीस्कोप (James Clerk Maxwell Telescope- JCMT) का उपयोग करते हुए शुक्र ग्रह पर फॉस्फीन गैस का पता लगाया और चिली में एटाकामा लार्ज मिलिमीटर एरे रेडियो टेलीस्कोप (ALMA Radio Telescope) के जरिए इसकी पुष्टि की।
  • वैज्ञानिकों ने संभावना जताई है कि शुक्र ग्रह के बादलों में यह गैस बहुत बड़ी मात्रा में है।

आश्चर्यजनक खोज

  • शुक्र की सतह पर औसत तापमान 464 डिग्री सेल्सियस है और यहां अधिकतम तापमान 900 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाता है। ऐसे में वहां किसी जीव का होना संभव नहीं है।
  • इसके अलावा पृथ्वी के मुकाबले वहां दवाब भी 92 गुना ज्यादा है। शुक्र ग्रह पर सांस लेने लायक हवा तो है ही नहीं, बल्कि वहां के वातावरण में 75-95% सल्फ्यूरिक एसिड के वाष्प हैं, जिसे किसी भी तरह के जीवन के लिए एकदम घातक माना जाता है।
  • हालांकि, वैज्ञानिकों का यह भी मानना है कि Venus का ऊपरी वातावरण कम अम्लीय (acidic) है और वहां माक्रोब्स (microbes) हो सकते हैं।
  • वैज्ञानिकों का कहना है कि पृथ्वी के बाद जीवन के लिए सबसे अनुकूल मंगल ग्रह (Mars) है। यही वजह है कि दुनियाभर के देश मंगल ग्रह पर खोज कर रहे हैं और अपने यान वहां भेज रहे हैं।

शुक्र ग्रह:

  • शुक्र ग्रह को पृथ्वी की जुड़वां ग्रह (Sister Planet) के नाम से भी जाना जाता है।
  • शुक्र सौरमंडल का सबसे चमकीला ग्रह है।
  • इसे भोर का तारा (Morning Star) और सांझ का तारा (Evening Star) कहा जाता है।

………………………………………………………………………………………………………………………

रिपोर्ट/सूचकांक

 

सितंबर, 2020 में भारत का थोक मूल्य सूचकांक

चर्चा में क्यों?

  • उद्योग एवं आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग के आर्थिक सलाहकार के कार्यालय ने अगस्त, 2020 (अनंतिम) और जून 2020 (अंतिम) के लिए थोक मूल्य सूचकांक (Wholesale price index, WPI) जारी किया है।
  • थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) के अनंतिम आंकड़े देश भर में चयनित विनिर्माण इकाइयों से प्राप्त आंकड़ों के साथ संकलित किए जाते हैं और हर महीने की 14 तारीख (या अगले कार्य दिवस) को जारी किए जाते हैं।
  • 10 सप्ताह के बाद, सूचकांक को अंतिम रूप दिया गया और अंतिम आंकड़े जारी किए गए हैं।

मुद्रास्‍फीति

  • वार्षिक थोक मूल्‍य सूचकांक (WPI पर आधारित मुद्रास्‍फीति की वार्षिक दर अगस्त, 2020 के दौरान (जुलाई, 2019 की तुलना में) 0.16 प्रतिशत (अनंतिम) रही, जबकि इससे पिछले साल इसी महीने यह 11.17 प्रतिशत थी।

Related Posts