Follow Us On

Daily Current Affairs 12 June 2021

निधन

डिंको सिंह

  • एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाले पूर्व बॉक्सर नगंगोम डिंको सिंह का 42 वर्ष की उम्र में निधन हो गया।
  • साल 1998 में उन्होंने एशियाई खेलों में भारत को स्वर्ण पदक जिताया था।
  • डिंको सिंह बीते कुछ वर्षों से बीमार थे और उनके लीवर का इलाज चल रहा था।
  • 1998 : में बैंकाक एशियाई खेलों में जीता था स्वर्ण पदक
  • 2017 : से कैंसर से पीड़ित थे, चार साल तक किया बीमारी से संघर्ष
  • 2013 : पद्मश्री सम्मान मिला।
  • जब बैंकाक एशियाड में डिंको ने स्वर्ण दिलाया तो यह 16 साल में भारत को पहला गोल्ड था, इससे पहले 1982 में कौर सिंह ने जीता था।
  • डिंको सिंह मणिपुर के रहने वाले थे और वहीं इंफाल में उन्होंने अंतिम सांस ली।

……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

 

सूरत सिंह माथुर

  • ओलंपिक में मैराथन दौड़ पूरी करने वाले स्वतंत्र भारत के पहले एथलीट सूरत सिंह माथुर (Surat Singh Mathur) का हाल ही में 91 वर्ष की आयु में निधन हो गया।
  • सूरत सिंह माथुर ने साल 1952 के हेलसिंकी ओलंपिक (Helsinki Olympics) में हिस्सा लिया था और वे 52वें स्थान पर रहे।
  • सूरत सिंह माथुर का जन्म दिल्ली के मोहम्मदपुर माजरी गांव (कराला) में हुआ था।
  • सूरत सिंह ने 1951 में पहली बार एशियन गेम्स में कांस्य पदक अपने नाम किया था।

……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

नियुक्ति/निर्वाचन

के. नागराज नायडू

चर्चा में क्यों?

  • भारतीय विदेश सेवा अधिकारी के. नागराज नायडू को अगले एक साल के लिए संयुक्त राष्ट्र की ब्यूरोक्रेसी का नेतृत्व करने के लिए चुना गया है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • मालदीव के विदेश मंत्री और संयुक्त राष्ट्र महासभा के प्रेसिडेंट चुने गए अब्दुल्ला शाहिद ने उन्हें यह जिम्मेदारी दी है।
  • अगले एक साल तक के. नागराज नायडू अब्दुल्ला शाहिद के सहायक के तौर पर कामकाज देखेंगे।
  • नायडू संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी उप-प्रतिनिधि हैं।
  • अब भारत सरकार की ओर से उन्हें प्रतिनियुक्ति पर संयुक्त राष्ट्र भेजा जाएगा, जहां वह ब्यूरोक्रेसी का काम देखेंगे।
  • नायडू भारत के संभवत: ऐसे पहले राजनयिक हैं, जिन्हें यह जिम्मेदारी मिलने वाली है।

…………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………..

डेबी हेविट

चर्चा में क्यों?

  • इंग्लिश फुटबॉल एसोसिएशन (FA) ने डेबी हेविट को 158 साल पहले गठित इस खेल की राष्ट्रीय संस्था की पहली महिला प्रमुख के रूप में चुना है।
  • वह पूर्व अध्यक्ष ग्रेग क्लार्क के इस्तीफे के 14 महीने बाद जनवरी में इंग्लैंड एफए से जुड़ेंगी।
  • क्लार्क ने एक संसदीय सुनवाई के दौरान नस्ल, लिंग और लैंगिकता पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के बाद इस्तीफा दे दिया था।

……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

खेल परिदृश्य

इंडियन ग्रैंड पिक्स 4

चर्चा में क्यों?

  • भारतीय एथलेटिक्स महासंघ (AFI) ने घोषणा की कि इंडियन ग्रैंड पिक्स 4 का आयोजन 21 जून को राष्ट्रीय खेल संस्थान, पटियाला, पंजाब में किया जाएगा।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • भारतीय एथलीटों को टोक्यो के लिए क्वालीफाई करने का अधिकतम मौका देने के लिए घरेलू आयोजनों की मेजबानी करने का निर्णय किया गया था।
  • भारत की स्टार स्प्रिंटर्स दुती चंद और हिमा दास के 2021 के चौथे भारतीय जीपी में भाग लेने की उम्मीद है।
  • राष्ट्रीय अंतर-राज्य एथलेटिक्स चैंपियनशिप 25 जून से उसी स्थान पर आयोजित की जाएगी।

…………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

रिपोर्ट/इंडेक्स

हिमालय के ग्लेशियर, जलवायु परिवर्तन, ब्लैक कार्बन और क्षेत्रीय लचीलापन

चर्चा में क्यों?

  • हाल ही में विश्व बैंक ने अपने एक अध्ययन में कहा है कि ‘ब्लैक कार्बन’(black carbon) बढ़ने से संवेदनशील हिमालयी श्रृंखला में हिमनद और बर्फ तेजी से पिघल रहे हैं, साथ ही तापमान बदल रहा है तथा बारिश की प्रवृत्ति (पैटर्न) बदल रही है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • विश्व बैंक की इस शोध रिपोर्ट का शीर्षक “हिमालय के ग्लेशियर, जलवायु परिवर्तन, ब्लैक कार्बन और क्षेत्रीय लचीलापन” (Glaciers of the Himalayas, Climate Change, Black Carbon and Regional Resilience) है।
  • रिपोर्ट के अनुसार मानव गतिविधि द्वारा उत्पादित ब्लैक कार्बन हिमालयी क्षेत्र में ग्लेशियर और बर्फ के पिघलने की गति को तेज करता है।
  • विश्व बैंक की शोध में हिमालय, काराकोरम और हिंदुकुश (Himalaya, Karakoram and Hindu-Kush) पर्वत श्रृंखलाओं को शामिल किया गया है, जहां पर ब्लैक कार्बन का प्रभाव देखा जा सकता है।
  • इन पर्वत श्रंखलाओं में हिमनदों के पिघलने के गति, विश्व के औसत हिमक्षेत्रों की तुलना में काफी अधिक है।
  • हिमालय, काराकोरम और हिंदुकुश ग्लेशियरों के पीछे हटने की दर पश्चिम में प्रति वर्ष 3 मीटर और पूर्व में 1.0 मीटर प्रति वर्ष होने का अनुमान है।
  • गौरतलब है कि हिमालय, काराकोरम और हिंदुकुश पहाड़ों में लगभग 55000 हिमनद हैं और वे उत्तरी और दक्षिणी ध्रुवों के बाहर किसी भी अन्य क्षेत्र की तुलना में अधिक मीठे पानी का भंडारण करते हैं।

क्या है ब्लैक कार्बन?

  • ब्लैक कार्बन, जीवाश्म और अन्य जैव ईंधनों के अपूर्ण दहन की वजह से उत्सर्जित कणिकीय पदार्थ (PM) हैं, जो वायुमंडल का तापमान बढ़ाते हैं।यह मानवीय गतिविधियों से पैदा होता है।
  • यह हवा में मौजूद कणों का बड़ा हिस्सा है जो जलवायु परिवर्तन को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से प्रभावित करता है।
  • कार्बन डाइऑक्साइड (CO2) के बाद ग्लोबल वार्मिंग में योगदान करने वाला दूसरा सबसे महत्वपूर्ण प्रदूषक ब्लैक कार्बन (BC) ही है ।

Related Posts

Leave a Reply