Daily Current Affairs 4 May 2021

रिपोर्ट/इंडेक्स
वैश्विक वन लक्ष्य रिपोर्ट-2021’

चर्चा में क्यों?

  • हाल ही में संयुक्त राष्ट्र संघ (UNO) ने ‘वैश्विक वन लक्ष्य रिपोर्ट-2021’ को जारी किया है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • दरअसल ‘वैश्विक वन लक्ष्य रिपोर्ट-2021’ को संयुक्त राष्ट्र संघ (UNO) के आर्थिक और सामाजिक मामलों के विभाग (Department of Economic and Social Affairs) द्वारा प्रकाशित किया गया है।
  • ‘रिपोर्ट के अनुसार कोविड-19 महामारी के कारण वनों के प्रबंधन में विभिन्न देशों के समक्ष आने वाली चुनौतियों को उल्लिखित किया गया है।
  • इसके अतिरिक्त, इस रिपोर्ट में ‘संयुक्त राष्ट्र की वनों के लिए रणनीतिक योजना-2030’ (United Nations Strategic Plan for Forests-2030) के उद्देश्यों और लक्ष्यों का भी मूल्यांकन किया गया है।
  • रिपोर्ट के अनुसार वनों पर आश्रित समुदायों को कोविड-19 महामारी ने प्रतिकूल रूप से प्रभावित किया है। इस महामारी ने ना सिर्फ वनों पर आश्रित समुदायों को बल्कि समाज के हर तबके को वैश्विक स्तर पर प्रभावित किया है।
  • ‘वैश्विक वन लक्ष्य रिपोर्ट-2021’ में वैश्विक स्तर पर जैव विविधता के ह्रास को भी उल्लिखित किया गया है।
  • इसमें बताया गया है कि वनों के विनाश के चलते वैश्विक स्तर पर लगभग एक मिलियन प्रजातियों के विलुप्त होने का खतरा उत्पन्न हो चुका है। क्योंकि वर्ष 1980 से 2000 तक उष्णकटिबंधीय वनों का लगभग 100 मिलियन हेक्टेयर क्षेत्रफल नष्ट हो चुका है।

रिपोर्ट में दिए गए सुझाव

  • कोरोना महामारी के कारण उत्पन्न चुनौतियों एवं जलवायु परिवर्तन के परिणामस्वरूप उत्पन्न चुनौतियों से एकसाथ मिलकर निपटा जा सकता है।
    इसके लिए वैश्विक स्तर पर विभिन्न देशों की राष्ट्रीय सरकारें व अन्य हितधारकों को मिलकर कार्य करना होगा।
  • विभिन्न देशों की राष्ट्रीय सरकारें व अन्य हितधारकों को संधारणीय विकास और वन प्रबंधन जैसी प्रथाओं पर ध्यान केन्द्रित करने की आवश्यकता है।
    ………………………………………………………………………………………………………………………………

समारोह/सम्मेलन
‘सत्यजीत रे’ का जन्म शताब्दी समारोह

चर्चा में क्यों?

  • हाल ही में भारत सरकार के सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने कहा है कि वह महान फिल्म निर्माता ‘सत्यजीत रे’(Satyajit Ray) का जन्म शताब्दी समारोह मनाने की घोषणा की है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • महान फिल्म निर्माता ‘सत्यजीत रे’ को श्रद्धांजलि देने के लिए, भारत सरकार का सूचना और प्रसारण मंत्रालय देश-विदेश में वर्ष भर चलने वाला शताब्दी समारोह आयोजित करेगा।
  • इसके अलावा भारत सरकार का फिल्म समारोह निदेशालय, फिल्म प्रभाग और विदेश मंत्रालय भारत में और विदेश स्थित भारतीय मिशनों के माध्यम से सत्यजीत रे फिल्म समारोहों का आयोजन करेंगे। इनमें सत्यजीत रे की फिल्मों और उन पर बनी फिल्मों एवं वृत्तचित्रों को दिखाया जाएगा।
  • इन कार्यकलापों की निगरानी के लिए भारत सरकार के सूचना और प्रसारण मंत्रालय द्वारा एक कार्यान्वयन समिति का गठन भी किया गया है।
  • इसके अलावा सत्यजीत रे की सिनेमाई विरासत को ध्यान में रखते हुए ‘सिनेमा में उत्कृष्टता के लिए सत्यजीत रे लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार’ की शुरुआत इस साल से की जा रही है जिसे भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (IFFI) में हर साल दिया जाएगा और इसकी शुरुआत इसी वर्ष से होगी।
  • पुरस्कार में 10 लाख रुपये का नकद पुरस्कार, एक प्रमाण पत्र, शॉल, एक रजत मयूर पदक और एक शॉल शामिल हैं।

‘सत्यजीत रे’ (Satyajit Ray)

  • भारतीय सिनेमा जगत की महान हस्ती का जन्म 2 मई, 1921 को हुआ था।
    वह एक प्रख्यात फिल्म निर्माता, लेखक, चित्रकार, ग्राफिक डिजाइनर एवं संगीतकार थे।
    उनकी पहली फिल्म ‘पाथेर पांचाली’ थी। इस फिल्म ने उन्हें अंतरराष्ट्रीय ख्याति दिलाई थी।
  • सत्यजीत रे ने इसके बाद चारुलता, आगंतुक और नायक जैसी अन्य बेहतरीन फिल्में बनाईं थीं।
  • भारत सरकार ने उन्हें वर्ष 1992 में सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ प्रदान किया था।
  • सत्यजीत रे के करियर की अंतिम फिल्म ‘आंगतुक ‘ थी जो 1991 में बनी थी।
    सिनेमा में अपने बेजोड़ निर्देशन और अतुलनीय योगदान के कारण उन्हें बर्लिन फिल्म फेस्टिवल में विश्व के तीन सर्वकालिक महान निर्देशकों में शामिल किया गया था।
  • यही नहीं उनहें 1992 में ऑस्कर पुरस्कार का ऑनरेरी अवॉर्ड फॉर लाइफटाइम अचीवमेंट भी प्राप्त हुआ है।
  • 23 अप्रैल, 1992 को दिल का दौरा पड़ने की वजह से उनका निधन हो गया।
    ……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

भौगोलिक परिदृश्य
पृथ्वी के अक्ष में विस्थापन

चर्चा में क्यों?

  • हाल ही में एक अध्ययन के अनुसार वैश्विक स्तर पर जलवायु परिवर्तन के चलते पृथ्वी के अक्ष (axis) में विस्थापन (Shift) हुआ है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • अमेरिकन जियोफिजिकल यूनियन (AGU) के जियोफिजिकल रिसर्च लेटर्स(Geophysical Research Letters) में उक्त अध्ययन प्रकाशित हुआ है।
  • इस अध्ययन के अनुसार वैश्विक तापन में वृद्धि से जलवायु परिवर्तन देखने को मिल रहा है। इस कारण ग्लेशियरों में जमी बर्फ भारी मात्रा में पिघली है।
  • ग्लेशियरों में जमी बर्फ के भारी मात्रा में पिघलने से 1990 के दशक के बाद से पृथ्वी के अक्ष (Earth’s axis) में सामान्य से अधिक गति से विस्थापन (Shift) हुआ है।
  • 1990 के दशक के बाद से वैश्विक तापमान में असामान्य वृद्धि हुई है। ग्लेशियरों के रूप में जमी अरबों टन हिमाच्छादित बर्फ ने पिघलकर समुद्री जलस्तर को बढ़ाया है, जिसके कारण पृथ्वी के ध्रुवों का नई दिशाओं में विस्थापन हुआ है।
  • पृथ्वी के ध्रुवों का नई दिशाओं में विस्थापन से ही पृथ्वी के अक्ष (Earth’s axis) में सामान्य से अधिक गति से विस्थापन (Shift) हुआ है।

पृथ्वी का अक्ष (Earth’s axis)

  • पृथ्वी के घूर्णन अक्ष (axis of rotation) को ही सामान्य भाषा में पृथ्वी का अक्ष (Earth’s axis) कहते हैं।
  • पृथ्वी का अक्ष (Earth’s axis), पृथ्वी के केंद्र से होती हुई खींची गई वह काल्पनिक रेखा है जिसके सहारे पृथ्वी अपने अक्ष या धुरी पर घूर्णन (rotation) करती है।
  • दरअसल पृथ्वी, सूर्य के चारों ओर परिक्रमण करने के साथ-साथ पृथ्वी अपने अक्ष के परितः घूर्णन भी करती है। पृथ्वी, जिस अक्ष या धुरी के परितः घूर्णन करती है वह पृथ्वी का अक्ष (Earth’s axis) कहलाता है।
    ……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

राज्यों की विधानसभाओं के चुनाव परिणाम

चर्चा में क्यों?

  • 2 मई 2021 को चुनाव आयोग ने चार राज्यों; असम, पश्चिम बंगाल, केरल और तमिलनाडु और एक केन्द्रशासित प्रदेश पुदुचेरी में हुए विधानसभा चुनावों के परिणाम जारी किए गए।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • असम, केरल, पश्चिम बंगाल में सत्‍तारूढ दलों की वापसी हुई जबकि तमिलनाडु और पुद्दुचेरी में विपक्षी दलों की सरकार बनी है।
  • पश्चिम बंगाल कुल सीटें: 294 (वोटिंग 292 सीटों पर हुई)
  • तृणमूल कांग्रेस (TMC) 214
  • भारतीय जनता पार्टी (BJP)- 77
  • ममता बनर्जी लगातार तीसरी बार मुख्यमंत्री बनने जा रही हैं। हालांकि वह खुद नंदीग्राम सीट से चुनाव हार गईं हैं।

असम

  • असम में 126 सीटों में से 126 सीटों के चुनाव परिणाम जारी किए गए हैं।
  • यहां भारतीय जनता पार्टी (BJP) के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) को बहुमत से अधिक 75 सीटों पर जीत हासिल हुई है।
  • असम की 126 सीटों में से BJP को सबसे ज्यादा 60 सीटों पर और कांग्रेस को 29 सीटों पर जीत हासिल हुई।
  • एआईयूडीएफ ने सभी 16 सीटों पर जीत दर्ज की।
  • असम गण परिषद (AGP) को 9 और बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट (BPF) को 4 सीटें मिलीं. सीपीएम और निर्दलीय को 1-1 सीट मिली. यूनाइटेड पीपुल्स पार्टी लिबरल को 6 सीटों पर विजय मिली।

तमिलनाडु

  • तमिलनाडु के विधानसभा चुनाव में द्रविड़ मुनेत्र कझगम (DMK) ने शानदार प्रदर्शन करते हुए बहुमत के लिए जरूरी आंकड़ा पार का लिया है।
  • राज्‍य में 234 सीटों पर मतदान हुआ था जिसमें से 133 सीटों पर डीएमके ने जीत दर्ज की है।
  • सत्‍तारूढ़ एआईएडीएमके को 66 सीटों की हासिल हो सकी है।
  • कांग्रेस ने यहां 18 सीट जीतीं हैं।

केरल

  • केरल में मतगणना के बाद आए नतीजे के अनुसार लगातार दूसरी बार LDF राज्य की सत्ता में आई है, इसे 99 सीटों पर जीत हासिल हुई और UDF को 41 सीटों पर वहीं NDA के खाते में एक भी सीट नहीं।
  • यहां कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (CPI-M) को 62, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (CPI) को 17, भारतीय राष्ट्रीय कॉन्ग्रेस (INC) को 21 और इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग को 15 सीट मिली हैं।
  • यहां का रिकॉर्ड है कि एक बार सत्ता में LDF आती है तो दूसरी बार UDF को जीत हासिल होती है लेकिन इस बार यह परंपरा टूट गई।

पुडुचेरी

  • पुडुचेरी में BJP गठबंधन 16 सीटों के साथ बहुमत पाने में सफल रही। BJP की सहयोगी NR कांग्रेस को 10 सीटें वहीं कांग्रेस दो सीटों पर विजयी रही है।