Category

कला एवं संस्कृति

Daily Current Affairs 18 September 2020

बैंकिंग विनियमन (संशोधन) विधेयक 2020 चर्चा में क्यों? लोकसभा ने बैंकिंग विनियमन (संशोधन) विधेयक 2020 पारित किया है। इस विधेयक में बैंकिंग विनियमन अधिनियम, 1949 को संशोधित करने के प्रस्ताव किया गया है। महत्वपूर्ण बिंदु इस विधेयक के माध्यम से केंद्र सरकार का लक्ष्य देश भर के सहकारी बैंकों को भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) के पर्यवेक्षण...
Read More

द टैंगम्स: एन एथ्नोलॉजिकल स्टडीज ऑफ द क्रिटिकली एन्डेंजर्ड ग्रुप ऑफ अरुणाचल प्रदेश

चर्चा में क्यों? द टैंगम्स: एन एथ्नोलॉजिकल स्टडीज ऑफ द क्रिटिकली एन्डेंजर्ड ग्रुप ऑफ अरुणाचल प्रदेश (The Tangams: An Ethnolinguistic Study of the Critically Endangered Group of Arunachal Pradesh) नामक पुस्तक का विमोचन अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री प्रेमा खांडू ने किया। इस पुस्तक का प्रकाशन सेंटर फॉर एन्डेंजर्ड लैंग्वेजेज (CFEL), राजीव गांधी विश्वविद्यालय और हिमालयन...
Read More

कोरोना महामारी से संकट में बनारसी जरदोजी के कारीगर

चर्चा में क्यों? बनारसी जरदोजी की मांग न केवल देश बल्कि विदेशों में भी खूब है, लेकिन कोरोना महामारी के कारण इस हस्तशिल्प आजीविका कमाने वाले कारीगर अब बेरोजगार हो गए हैं। जरदोजी हस्तशिल्प से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य इम्ब्रायडरी यानी धागों से कढ़ाई के काम को जरदोजी कहा जाता है। ज़रदोज़ी का नाम फ़ारसी से...
Read More

पोखरण की प्रसिद्ध बर्तन निर्माण कला

चर्चा में क्यों? हाल ही में राजस्थान के जैसलमेर जिले के एक छोटे से शहर, पोखरण की प्रसिद्ध बर्तनों की कला (Pottery Art of Pokhran) के पुनरुद्धार के लिए , खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग (KVIC) ने 80 कुम्हारों के परिवार को 80 इलेक्ट्रिक पॉटर चाकों का वितरण किया, जिनके पास टेराकोटा उत्पादों की समृद्ध विरासत...
Read More

मणिपुर के काले चावल और गोरखपुर के टैराकोटा कला को GI टैग

मणिपुर के काले चावल (चाक-हाओ) तथा गोरखपुर टेराकोटा को ‘भौगोलिक संकेतक’ (Geographical Indication- GI) का टैग दिया गया। चाक-हाओ को GI टैग प्रदान करने के लिये ‘चाक-हाओ उत्पादक संघ’ द्वारा आवेदन दायर किया गया था। GI रजिस्ट्री के डिप्टी रजिस्ट्रार ने इन दोनों उत्पादों GI टैग देने की पुष्टि की है। चाक-हाओ चाक-हाओ एक सुगंधित...
Read More

29 अप्रैल: अंतराष्ट्रीय नृत्य दिवस

नृत्य को एक विशेष दिन के माध्यम से मनाने के लिए ‘संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक एवं सांस्कृतिक संगठन (यूनेस्को,UNESCO) ने 29 अप्रैल 1982 को अंतराष्ट्रीय नृत्य दिवस मनाने का निर्णय लिया था। तब से हर साल नृत्य के रिफार्मर महान नर्तक जीन जार्ज नावेरे के जन्म की याद में इस दिन को मनाया जाता है।...
Read More

अमूर्त सांस्कृतिक विरासत की राष्ट्रीय सूची

संस्कृति मंत्रालय ने अमूर्त सांस्कृतिक विरासत (Intangible Cultural Heritage-ICH) की राष्ट्रीय सूची जारी की है। उल्लेखनीय है कि अमूर्त संस्कृति किसी समुदाय, राष्ट्र, समाज आदि की वह विरासत है जो सदियों से उस समुदाय या राष्ट्र की चेतना व कौशल से समृद्ध होती रहती है। भारत में अनोखी अमूर्त सांस्कृतिक विरासत (ICH) की लंबी सूची...
Read More

विश्व विरासत दिवस -2020

पूरे विश्व में यूनेस्को द्वारा 18 अप्रैल को विश्व विरासत दिवस मनाया जाता है। यह दिन मानव विरासत, विविधता और एकीकृत निर्मित स्मारकों और विरासत स्थलों को बचाए रखने की जागरुकता और इन्हें बचाए रखने का प्रण है। साथ ही, धरोहरों के संरक्षण के लिए खास प्रयास किए जाते हैं। हम सभी जानते हैं कि...
Read More

पर्यटन मंत्रालय ने शुरु की ‘देखो अपना देश’ वेबिनार श्रृंखला

कोरोना वायरस महामारी से पर्यटन संबंधी सारी गतिविधियां ठप होने के बीच पर्यटन मंत्रालय ने ‘देखो अपना देश’ वेबिनार श्रृंखला की शुरूआत की। मानव जीवन पर कोविड-19 का प्रभाव सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि वैश्विक स्तर पर भी बहुत ज्यादा पड़ा है। इसके कारण पर्यटन, क्षेत्र भी बहुत ज्यादा प्रभावित हुआ है क्योंकि घरेलू...
Read More

चैत्र माह में राजस्थान में मनाया जाता है गणगौर

राजस्थान में गणगौर का पर्व लोकोत्सव के रूप में सदियों से मनाया जाता रहा है। सुहागिन व अविवाहित सभी महिलाएं गणगौर की पूजा करती हैं। गणगौर का पर्व चैत्र शुक्ल तृतीया को मनाया जाता है। इस पर्व में होली के दूसरे दिन (चैत्र कृष्ण प्रतिपदा) से अविवाहित व नवविवाहित महिलाएं प्रतिदिन गणगौर पूजती हैं। विवाहित...
Read More

कोरोना के साए में होगा चैती छठ पर्व

बिहार और पूर्वांचल में छठ पर्व साल में दो बार मनाया जाता है। यह पर्व चैत्र और कार्तिक माह में शुक्ल पक्ष की षष्ठी को मनाई जाती है। इस साल चैती छठ मंगलवार 30 मार्च को है। चार दिनों के इस महापर्व की शुरुआत नहाय-खाय के दिन से होती है। इसके अगले दिन खरना मनाया...
Read More

चैत्र शुक्ल प्रतिपदा: हिंदू नव वर्ष का शुभारंभ

चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को भारत के विभिन्न भागों में अनेक रुपों में मनाया जाता है। उत्तर भारत में यह पारंपरिक हिंदू कैलेंडर विक्रमी संवत में नए वर्ष की शुरुआत के रूप में मनाया जाता है। यह नया वर्ष पारंपरिक हिंदू कैलेंडर के चैत्र महीने (मार्च-अप्रैल) के पहले दिन मनाया जाता है। इस तरह 25 अप्रैल...
Read More