20202 एशियन गेम्स का शुभंकर जारी

पूर्वी चीन के हांग्जो (Hangzhou) शहर में 2022 में होने वाले 19 वें एशियन गेम्स का शुभंकर  जारी किया गया। तीन स्पोर्टी रोबोट, जिसे सामूहिक रूप से ‘स्मार्ट ट्रिपल’ के नाम से जाना जाता है को 2022 एशियन गेम्स का शुभंकर बनाया गया है। यह यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थलों का प्रतिनिधित्व करता है। इन तीन मैस्कट रोबोट को कांग्कोंग, लियानलियन और चेनचेन नाम दिया गया है। ये हांग्जो शहर और झेजियांग प्रांत की इंटरनेट प्रगति को दर्शाते हैं। उल्लेखनीय है कि 18वें एशियाई खेलों का आयोजन इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता में 18 अगस्त से 2 सितंबर 2018 तक किया गया।
2022 एशियन गेम्स
19वें एशियन गेम्स का आयोजन 2022 में चीन के हांग्जो शहर में होना है। यह टूर्नामेंट 10 से 25 सितंबर 2022 तक खेला जाएगा। चीन में आयोजित होने वाला ये तीसरे एशियन गेम्स होंगे। इससे पहले 1990 में बीजिंग और 2010 में ग्वांझोउ में इनका आयेाजन हो चुका है। इन खेलों में 45 देशों के प्रतिभागी 42 खेल प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेने आएंगे।
एशियाई खेल और भारत
1951 में पहले एशियाई खेलों का आयोजन दिल्ली में 4 से 11 मार्च के बीच हुआ था। इन्हें फ़र्स्ट एशियाड भी कहा जाता है। इन खेलों में आयोजन समिति ने एशिया के लगभग सभी देशों को न्योता भेजा था मगर चीन की तरफ़ से कोई जवाब नहीं आया था जबकि कश्मीर विवाद के कारण पाकिस्तान ने हिस्सा लेने से इनकार कर दिया था।इन खेलों में भारत समेत 11 देशों के 189 खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया था। इन खेलों में जापान 24 स्वर्ण, 21 रजत और 15 कांस्य पदकों सहित कुल 60 पदकों के साथ पदक तालिका में शीर्ष पर रहा था जबकि भारत 15 स्वर्ण, 16 रजत और 20 कांस्य सहित 41 पदकों के साथ दूसरे स्थान पर रहा।
1982 एशियन गेम्स
एशियन गेम्स की शुरुआत के बाद भारत को 1982 में फिर मेजबानी मिली। यह इन खेलों का नौवां सत्र था जो 19 नवंबर से 4 दिसंबर तक 1982 तक चला था। इनमें 33 देशों के 4595 खिलाडि़यों ने भाग लिया था। इस बार भारत की झोली में 13 स्वर्ण, 19 रजत और 25 कांस्य पदक आए थे। भारत तालिका में कुल 57 पदकों के साथ पांचवें स्थान पर रहा। चीन ने जापान को पीछे छोड़ते हुए 61 स्वर्ण समेत 153 पदकों पर कब्जा जमाया। इन खेलों का शुभंकर अप्पू था।
इस गेम्स में पहली बार पीटी ऊषा ने हिस्सा लिया और 100 मीटर और 200 मीटर की रेस में रजत पदक जीता। वहीं महाबली सतपाल ने मंगोलिया के पहलवान को हराकर 100 किग्रा में देश को स्वर्ण पदक दिलाया था।

Leave a Reply