केयर्स प्रोग्राम के तहत ए़डीबी भारत को देगा 1.5 अरब डॉलर का ऋृण

एशियन डेवलपमेंट बैंक (Asian Development Bank, ADB) ने भारत की कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ लड़ाई में मदद करने के लिए 1.5 अरब डॉलर के ऋण के लिए मंजूरी दे दी है। कोरोना वायरस महामारी से बचाव और उपचार के साथ ही गरीब तबके को आर्थिक सुरक्षा प्रदान करने जैसी प्राथमिकताओं को सपोर्ट करने के लिए एडीबी ने इस लोन को मंजूरी दी है।
एडीबी के अध्यक्ष मसात्सुगु असाकावा (Masatsugu Asakawa) ने कहा कि इस अभूतपूर्व चुनौती से लड़ाई में वह भारत सरकार का सहयोग करने के लिए प्रतिबद्ध है। फंड का तेजी से वितरण सहायता के एक बड़े पैकेज का हिस्सा है, जिसे कि एडीबी सरकार और दूसरे विकास भागीदारों के साथ समन्वय से प्रदान करेगा।
एडीबी का कोविड-19 एक्टिव रेस्पोंस और एक्सपेंडीचर सपोर्ट (Covid-19 Active Response and Expenditure Support CARES,Programme) प्रोग्राम 800 मिलियन से अधिक लोगों को सीधे तौर पर स्वास्थ्य सुविधाएं, देखभाल व सोशल प्रोटेक्शन देने में मदद करेगा। इनमें गरीबी रेखा से नीचे के लोग, किसान, स्वास्थ्यकर्मी, महिलाएं, सीनियर सिटीजंस, दिव्यांग, कम कमाने वाले और निर्माण कार्य करने वाले मजदूर शामिल हैं।
केयर्स प्रोग्राम को एडीबी की काउंटरसाइक्लिकल सपोर्ट फैसिलिटी के तहत कोविड-19 महामारी प्रतिक्रिया विकल्प (CPRO) के माध्यम से वित्त पोषित किया गया है। सीपीआरओ को विकासशील सदस्य देशों के कोविड-19 रेस्पोंस के लिए एडीबी के 20 अरब डॉलर की विस्तारित सहायता के पार्ट के रुप में स्थापित किया गया था।
एशियाई विकास बैंक, एक क्षेत्रीय विकास बैंक है, जिसकी स्थापना 19 दिसंबर, 1966 को की गई थी। इस बैंक की स्थापना का उद्देश्य एशिया-प्रशांत क्षेत्र में आर्थिक और सामाजिक विकास को गति प्रदान करना था। इसका मुख्यालय मनीला, फिलीपींस में स्थित है। इसके वर्तमान अध्यक्ष मसात्सुगु असाकावा हैं।  Asian Development Review, ADR, Asian Development Outlook,ADO इसके प्रमुख प्रकाशन हैं।

Related Posts

Leave a Reply