कोरोना वायरस के बाद खाद्य संकट को लेकर स्थिति और गंभीर होने की आशंका

कोरोना वायरस के बाद खाद्य संकट को लेकर स्थिति और गंभीर होने की आशंका है। विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) द्वारा जारी अपनी वार्षक रिपोर्ट में यह आशंका जताई गई है।संयुक्त राष्ट्र खाद्य एवं कृषि संगठन (United Nations Food and Agricultural Organization,FAO)और विश्व खाद्य कार्यक्रम (World Food Programme, WFP) ने 21 अप्रैल को यह यह रिपोर्ट संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को सौंपी।
रिपोर्ट के अनुसार

  • पिछले साल 55 देशों में 13.5 करोड़ लोग गंभीर खाद्य संकट के बीच जीवनयापन कर रहे थे। यह संख्या रिपोर्ट तैयार करने के चार साल के दौरान दो करोड़ बढ़ी है जिससे आंकड़ा इस रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया।
  • रिपोर्ट में 2019-20 के दौरान 50 देशों के खाद्य संकट का सामना कर रहे लोगों के आंकड़ों की तुलना की गई है। इस दौरान खाद्य संकट का सामना कर रहे लोगों की संख्या करीब 10 प्रतिशत बढ़कर 12.3 करोड़ पर पहुंच गई।
  • रिपोर्ट में कहा गया है कि इसकी प्रमुख वजह विवाद, आर्थिक झटके और मौसम से जुड़े संकट मसलन सूखा आदि हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि यदि एक और झटका लगता है तो 18.30 करोड़ और लोगों के खाद्य संकट की स्थिति में जाने का जोखिम है। इस रिपोर्ट के लिए आंकड़े जुटाने का काम कोविड-19 महामारी फैलने से पहले पूरा हो गया था।
  • रिपोर्ट में बताया गया है कि इस महामारी की वजह से स्थिति और चिंताजनक होगी। 13.5 करोड़ लोग पहले से खाद्य असुरक्षा की स्थिति में थे। ऐसे में कोविड-19 महामारी की वजह से इन लोगों की स्थिति और चिंताजनक होगी। इन लोगों पर महामारी के चलते स्वास्थ्य और सामाजिक आर्थिक झटके की मार सबसे अधिक पड़ेगी।

विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP)

  • विश्व खाद्य कार्यक्रम संयुक्त राष्ट्र की खाद्य सहायता शाखा है, यह भुखमरी को समाप्त करने के लिए तथा खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए विश्व का सबसे बड़ा मानवीय संगठन है।
  • यह संगठन उन लोगों के लिए कार्य करता है जो स्वयं खाद्यान्न का उत्पादन नहीं कर सकते और भोजन प्राप्त करने में असमर्थ हैं।
  • यह संगठन संयुक्त राष्ट्र विकास समूह का सदस्य है तथा इसकी कार्यकारी समिति का अध्यक्ष है। इसकी स्थापना 1961 में की गयी थी।
  • इसका मुख्यालय इटली के रोम में स्थित है। इसके कार्यालय विश्व के 80 देशों में है।
    यह संगठन विश्व भर में 75 देशों में प्रतिवर्ष 80 मिलियन लोगों को खाद्य सहायता उपलब्ध करवाता है।
  • भारत में इसकी उपस्थिति 1963 से है।
  • WFP खाद्य के अंतिम लक्ष्य के साथ भूख और कुपोषण को खत्म करने का प्रयास करता है।
  • यह संयुक्त राष्ट्र विकास समूह का सदस्य है और इसकी कार्यकारी समिति का हिस्सा है।

खाद्य और कृषि संगठन

  • खाद्य और कृषि संगठन (FAO) संयुक्त राष्ट्र की विशिष्ट एजेंसियों में से एक है। जिसकी स्थापना वर्ष 1945 में कृषि उत्पादकता और ग्रामीण आबादी के जीवन निर्वाह की स्थिति में सुधार करते हुए पोषण तथा जीवन स्तर को उन्नत बनाने के अधिदेश के साथ की गई थी।
  • इसकी विश्व खाद्य सुरक्षा समिति (CFS), खाद्यान्न का उत्पादन, खाद्यान्न तक भौतिक और आर्थिक पहुंच सहित विश्व खाद्य सुरक्षा विषयक नीतियों की समीक्षा और अनुपालन के लिए संयुक्त राष्ट्र संघ तंत्र में एक मंच के रूप में कार्य करती है।
  • भारत एफएओ और सीएफएस, दोनों का सदस्य है।
  • चीन के क्यू डोंग्यू इसके वर्तमान प्रमुख हैं। इसका मुख्यालय रोम (इटली) में स्थित है।

Related Posts

Leave a Reply