देश में पहली बार अफ्रीकी स्वाइन फ्लू का प्रकोप

देश में पहली बार असम में अफ्रीकी स्वाइन फ्लू (African Swine Flu) का प्रकोप देखा गया है। इस गंभीर संक्रामक बीमारी के कारण असम के 306 गांवों में अब तक 2,500 सूअरों की मौत हो चुकी है। हालांकि, इस बीमारी का कोरोना वायरस से कोई संबंध नहीं है। यह संक्रमण इतना खतरनाक है कि इससे संक्रमित सूअरों की मृत्युदर 100 फीसदी है। राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा पशु रोग संस्थान (NIHSD) भोपाल ने पुष्टि की है कि यह अफ्रीकी स्वाइन फ्लू (ASF) है। केंद्र सरकार ने के अनुसार यह देश में इस बीमारी का पहला मामला है।
क्या है स्वाइन फ्लू?
स्वाइन फ्लू एक तीव्र संक्रामक रोग है, जो इनफ्लुएंजा वायरस (H1N1) के द्वारा फैलता है। चूंकि इस रोग के वायरस सबसे ज्यादा सूअरों में पाए जाते हैं इसीलिए इसको ‘स्वाइन फ्लू’ नाम दिया गया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) का कहना है कि इन्फ्लूएंजा के इस नए स्ट्रेन, जिसे इन्फ्लुएंजा A (H1N1) कहा जाता है, से यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकता है।हालांकि अन्य स्ट्रेन जैसे; H3N2, H1N2, और H3N1 भी सूअरों में मौजूद रहते हैं।
हालांकि सामान्य फ्लू और स्वाइन फ्लू के लक्षण एक जैसे ही होते हैं, लेकिन स्वाइन फ्लू में यह देखा जाता है कि जुकाम बहुत तेज होता है। नाक काफी ज्यादा बहती है। स्वाइन फ्लू होने के पहले 48 घंटों के भीतर इसका इलाज शुरू हो जाना चाहिए, यह सावधानी जरूरी है।

Leave a Reply