Follow Us On

उत्तर भारत में वायु प्रदूषण 20 साल में सबसे निचले स्तर पर: नासा

कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए शुरू हुए लॉकडाउन से पर्यावरण में काफी सुधार देखने को मिल रहा है। अमेरिका स्पेस एजेंसी नासा के सेटेलाइट डाटा से पता चला है कि इन दिनों उत्तर भारत में वायु प्रदूषण 20 साल में सबसे निचले स्तर पर है। नासा ने इसके लिए वायुमंडल में मौजूद एयरोसॉल की जानकारी हासिल की। फिर ताजा आंकड़े की तुलना 2016 से 2019 के बीच खीचीं गई तस्वीरों से की। कोरोना संकट से निपटने के लिए देश में 25 मार्च से लॉकडाउन है, इसका दूसरा चरण 3 मई तक है।
रिपोर्ट के अनुसार लॉकडाउन के कारण वायुमंडल में बड़े पैमाने पर बदलाव देखने को मिला है। इससे पहले कभी उत्तर भारत के ऊपरी क्षेत्र में वायु प्रदूषण का इतना कम स्तर देखने को नहीं मिला। लॉकडाउन के बाद 27 मार्च से कुछ इलाकों में बारिश हुई। इससे हवा में मौजूद एयरोसॉल नीचे आ गए। यह लिक्विड और सॉलिड से बने ऐसे सूक्ष्म कण हैं, जिनके कारण फेफड़ों और हार्ट को नुकसान होता है। एयरोसॉल की वजह से ही विजिबिलिटी घटती है।
प्रदूषण का पता ऐसे लगा
नासा के टेरा सेटेलाइट (Terra satellite ) के द्वारा जारी की गई तस्वीरों में एयरोसॉल ऑपटिकल डेप्थ (Aerosol Optical Depth, AOD) की तुलना 2016-2019 के बीच ली गईं तस्वीरों से की गई। एओडी के आंकड़े जुटाने के लिए देखा जाता है कि प्रकाश एयरबोन पार्टिकल्स से कितना रिफ्लेक्ट हो रहा है। अगर एयरोसॉल सतह के आसपास होते हैं तो एओडी 1 होती है, यह स्थिति प्रदूषण के लिहाज से गंभीर मानी जाती है। अगर एओडी 0.1 पर है तो वायुमंडल को स्वच्छ माना जाता है।
क्या होते हैं एओडी?
वायुमंडल में उपस्थित छोटे ठोस और तरल कणों को एरोसोल कहा जाता है, समुद्री लवण, ज्वालामुखीय राख, जंगल और कारखानों से निकलने वाले धुंए , एरोसोल के उदाहरण हैं।एरोसोल ऑप्टिकल डेप्थ यानी AOD, जैवभार के जलने से दृश्यता को प्रभावित करने वाले धुँए और कणों की उपस्थिति तथा वातावरण में PM2.5 व PM10 की सांद्रता के बढ़ने का संकेतक है।भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र के मौसम उपग्रह इनसैट- 3D और 3DR का प्रयोग एरोसोल ऑप्टिकल डेप्थ (Aerosol Optical Depth- AOD) की निगरानी के लिये किया जाता है।
एरोसोल के प्रभाव

  • एरोसोल सतह को ठंडा कर सकता है या गर्म यह उनके आकार, प्रकार और स्थान पर निर्भर करता है।
  • एरोसोल बादलों के बनने की प्रक्रिया को प्रभावित कर सकते हैं।
  • एरोसोल लोगों के स्वास्थ्य के लिये हानिकारक होते हैं।

Related Posts

Leave a Reply