Follow Us On

एनटीपीसी और एनआईआईएफ के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर

चर्चा में क्यों?

  • सार्वजनिक क्षेत्र की महारत्न कंपनी नेशनल थर्मल पावर कार्पोरेशन लि (NTPC) ने देश में नवीकरणीय ऊर्जा, बिजली वितरण समेत अन्य क्षेत्रों में निवेश के अवसर तलाशने को लेकर नेशनल इनवेस्टमेंट एंड इंफ्रास्ट्रक्चर फंड (NIIF) के साथ समझौता ज्ञापन पर (MOU) हस्ताक्षर किये।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • NTPC देश की सबसे बड़ी बिजली उत्पादक कंपनी है।
  • एनटीपीसी समूह के पास 70 बिजली स्टेशन हैं, जिनमें 24 कोयला, सात कंबाइंड साइकल गैस-लिक्विड फ्यूल, 1 हाइड्रो, 13 नवीकरण और 25 सहायक और जेवी पावर स्टेशन हैं।
  • एनटीपीसी का लक्ष्य 2032 तक नवीकरणीय ऊर्जा स्त्रोतों से अपनी कुल बिजली उत्पादन क्षमता को लगभग 30 गीगावॉट तक हासिल करना
  • एमओयू पर हस्ताक्षर एनटीपीसी के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक गुरदीप सिंह और एनआईआईएफएल के प्रबंध निदेशक तथा सीईओ सुजय बोस की उपस्थिति में हुआ।
  • इस समझौते के साथ एनटीपीसी और एनआईआईएफ का उद्देश्य भारत के सतत और मजबूत ऊर्जा बुनियादी ढांचा विकास के लक्ष्य को हासिल करने में मदद करना है।
  • एनआईआईएफ तीन कोष… मास्टर फंड, फंड ऑफ फंडस और स्ट्रैटजिक आपुर्चुनिटीज फंड…के माध्यम से 4.3 अरब डॉलर कोष का प्रबंधन करता है। तीनों कोष की निवेश रणनीति अलग-अलग है।
  • एनआईआईएफएल अंतरराष्ट्रीय और भारतीय निवेशकों के लिए एक सहयोगी निवेश मंच है, जिसे केंद्र सरकार का समर्थन प्राप्त है।
  • यह अपने निवेशकों के लिये आकर्षक जोखिम समायोजित रिटर्न सृजित करने के उद्देश्य के साथ देश में बुनियादी ढांचा, निजी इक्विटी और विभिन्न क्षेत्रों में निवेश करता है।

Related Posts

Leave a Reply