Follow Us On

चर्चा में क्यों?

  • केरल स्थित भारत के पहले ट्रांस-शिपमेंट हब कोच्चि पोर्ट के वल्लारपदम टर्मिनल के विकास कार्य की समीक्षा केंद्रीय पोत परिवहन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) मनसुख मंडाविया ने की है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • कोच्चि बंदरगाह के वल्लारपदम टर्मिनल की विकास गतिविधियों की समीक्षा की। इसकी परिकल्पना भारत के पहले ट्रांस-शिपमेंट पोर्ट (first trans-shipment port of India) के रूप में की गई है जिसे डीपी वर्ल्ड कंपनी द्वारा प्रबंधित किया जाता है।
  • ट्रांस-शिपमेंट की सुविधा के तहत भारतीय कार्गो को भारतीय बंदरगाह के माध्यम से ही ट्रांस-शिप किया जा सकेगा।
  • ट्रांस-शिपमेंट हब दरअसल पोत पर वो टर्मिनल है जो कंटेनरों को संभालता है, उन्हें अस्थायी रूप से संग्रहीत करता है और उन्हें आगे के गंतव्य के लिए अन्य जहाजों में स्थानांतरित करता है।
  • कोच्चि इंटरनेशनल कंटेनर ट्रांस-शिपमेंट टर्मिनल (ITTC), जिसे स्थानीय तौर पर वल्लारपदम टर्मिनल के नाम से जाना जाता है,रणनीतिक रूप से भारतीय तटरेखा पर स्थित है।

ट्रांस-शिपमेंट हब के रूप में कोच्चि बंदरगाह की विशेषताएं

  • अंतर्राष्ट्रीय समुद्री मार्गों से निकटता के लिहाज से ये सबसे श्रेष्ठ जगह पर स्थित भारतीय बंदरगाह है।
  • यह सभी भारतीय फीडर बंदरगाहों से कम से कम औसत समुद्री दूरी पर स्थित है।
  • इसकी कनेक्टिविटी ऐसी है कि मुंद्रा से लेकर कोलकाता तक, भारत के पश्चिम और पूर्वी तटों पर सभी बंदरगाहों पर इसके कई साप्ताहिक फीडर कनेक्शन हैं।
  • भारत के प्रमुख भीतरी इलाकों के बाजारों से इसकी निकटता है।

Related Posts

Leave a Reply