Follow Us On

पर्यावरण प्रदर्शन सूचकांक: 2020

पर्यावरण प्रदर्शन सूचकांक Environment Performance Index (EPI Index 2020) में भारत ने 180 देशों में 27.6 स्कोर के साथ 168वीं रैंक हासिल की है ।
इस सूचकांक में साल 2018 में, भारत ने 100 में 30.57 स्कोर के साथ 177 वीं रैंक हासिल की थी।
प्रत्येक दो साल बाद जारी होने वाले इस सूचकांक को विश्व आर्थिक मंच (WEF) के सहयोग से अमेरिका की येल विश्वविद्यालय (Yale University) और कोलंबिया विश्वविद्यालय (Columbia University) द्वारा संयुक्त रूप से जारी किया जाता है।
सूचकांक की रैंकिंग बनाने के लिए 32 संकेतकों पर विचार किया गया है। साथ ही, सूचकांक ने राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पर्यावरणीय प्रदर्शन पर 10 साल का अवलोकन दिया है।
सूचकांक में अफगानिस्तान को छोड़कर सभी दक्षिण एशियाई देश भारत से आगे हैं। साथ ही, सतत विकास लक्ष्यों के मामले में भारत की रैंक भी कम है।
दक्षिण एशिया में सबसे बेहतर रेंक भूटान की 39.3 अंकों के साथ 107 है जबकि श्रीलंका की 39.0 अंकों के साथ 109 है।
सूचकांक की रिपोर्ट के अनुसार, भारत को स्थिरता के सतत प्रयासों को दोगुना करने की आवश्यकता है। साथ ही, भारत को वायु और जल की गुणवत्ता, जलवायु परिवर्तन और जैव विविधता के लिए अत्यंत प्राथमिकता के साथ स्थिरता के मुद्दों पर व्यापक रूप से ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है।
भारत जलवायु परिवर्तन के मामले में पाकिस्तान के बाद 106 वें स्थान पर है। जलवायु परिवर्तन में एक देश के प्रदर्शन का मूल्यांकन प्रति व्यक्ति ग्रीन हाउस गैस उत्सर्जन, ग्रीन हाउस गैस तीव्रता विकास दर, कार्बन डाइऑक्साइड में वृद्धि दर, उत्सर्जन वृद्धि दर, ग्रीनहाउस गैसों की वृद्धि दर पर मूल्यांकन किया गया है।
* सूचकांक में डेनमार्क पहले, लक्जमबर्ग दूसरे, स्विटजरलैंड तीसरे और यूनाईटेड किंगडम चौथे स्थान पर है।
*अमेरिका को सूचकांक में 24 वां स्थान दिया गया है। अन्य देशों में ऑस्ट्रेलिया (13) , रुस(58), सउदी अरब (90), चीन (120)
स्थान पर हैं।

Leave a Reply