Follow Us On

Daily Current Affairs Quiz: 31 May 2021

1- दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट को सबसे तेज फतह करने वाली महिला का रिकार्ड 45 वर्षीय त्सांग यिन हुंग ने बनाया है। वह कहां की रहने वाली हैं?
(a) थाईलैंड
(b) चीन
(c) हॉन्गकॉन्ग
(d) विएतनाम

2- एनर्जी फ्रंटियर पुरस्कार हाल ही में किस भारतीय वैज्ञानिक को देने की घोषणा की गई है?
(a) प्रोफेसर सीएनआर राव
(b) के सिवन
(c) जी सतीश रेड्डी
(d) एस सोमनाथ

3- राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA), अजीत डोभाल हाल ही में भारतीय तटरक्षक अपतटीय गश्ती पोत सजग (Sajag) को कमीशन किया है, इसका निर्माण किया है-
(a) गोवा शिपयार्ड लि.
(b) मझगांव शिपयार्ड लि.
(c) गार्डनरीच शिपबिल्डर्स
(d) भारत डायनामिक्स लि.

4- हाल ही में किस यूरोपी देश ने नामीबिया नरसंहार (Namibia Genocide) पर आधिकारिक स्वीकारोक्ति की है और वित्तीय सहायता की पेशकश की है?
(a) ब्रिटेन
(b) अमेरिका
(c) फ्रांस
(d) जर्मनी

5 – हाल ही में किस देश ने 1994 में रवांडा नरसंहार में अपनी की भूमिका के लिए रवांडा से माफी मांगी है। इस नरसंहार में करीब आठ लाख जातीय तुतसी और उदारवादी हुतू समुदाय के लोग मारे गए थे?
(a) कनाडा
(b) केन्या
(c) फ्रांस
(d) जर्मनी
उत्तर एवं व्याख्या
1 (c) हांगकांग की 45 वर्षीय त्सांग यिन-हुंग 25 घंटे और 50 मिनट में आधार शिविर से माउंट एवरेस्ट पहुंची थीं और वह इस पर्वत शृंखला की सबसे तेजी से चढ़ाई करने वाली महिला पर्वतारोही बन गई। 10 घंटे और 56 मिनट में चढ़ाई करने का रिकॉर्ड शेरपा गाइड लक्पा गेलू के नाम पर है।

2 (a) भारत रत्न प्रोफेसर सीएनआर राव को अक्षय ऊर्जा स्रोतों और अक्षय भंडारण के क्षेत्र में अनुसंधान के लिए अंतरराष्ट्रीय एनी अवार्ड 2020 से नवाजा गया है। इसे ऊर्जा अनुसंधान के क्षेत्र में नोबेल माना जाता है। प्रोफेसर राव ऊर्जा के एकमात्र स्रोत के रूप में हाइड्रोजन पर काम कर रहे हैं। हाइड्रोजन का भंडारण, हाइड्रोजन का फोटोकेमिकल और इलेक्ट्रोकेमिकल उत्पादन, हाइड्रोजन का सौर उत्पादन और गैर धातु उत्प्रेरण उनके काम के मुख्य आकर्षण हैं।एनर्जी फ्रंटियर्स पुरस्कार धातु ऑक्साइड, कार्बन नैनोट्यूब, अन्य सामग्री और द्विआयामी प्रणालियों पर उनके काम के लिए प्रदान किया गया है। यह पुरस्कार उन्हें 14 अक्टूबर, 2021 को रोम में आयोजित एक आधिकारिक समारोह में प्रदान किया जाएगा।

3 (a) राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA), अजीत डोभाल ने भारतीय तटरक्षक (ICG) अपतटीय गश्ती पोत सजग (Sajag) को कमीशन किया है। यह समुद्री हितों की रक्षा के लिए राष्ट्र को समर्पित किया गया था। ऑफशोर पेट्रोल वेसल सजग का निर्माण गोवा शिपयार्ड लिमिटेड (Goa Shipyard Limited) द्वारा किया गया है।

4 (d) जर्मनी ने आधिकारिक रूप से स्वीकार किया है कि उसने नामीबिया में अपने उपनिवेश शासन के दौरान नरसंहार किया था। जर्मनी ने इसके लिए वित्तीय सहायता की भी घोषणा की है।जर्मनी ने पांच वर्ष की वार्ता के बाद पहली बार नरसंहार की बात स्वीकार की है। विदेश मंत्री हीको मास ने आज एक बयान में कहा कि जर्मनी के कारण हुए इस नरसंहार को स्वीकार करते हुए सद्भावना के तौर पर एक अरब 34 करोड़ डॉलर का कोष बनाया जा रहा है। बीसवीं सदी के आरंभ में जर्मनी के औपनिवेशिक शासन के दौरान हजारों लोग मारे गए थे।
इतिहास में पहली बार, जर्मनी ने माना है कि उसने एक सदी पहले अपने औपनिवेशिक शासन के दौरान वर्तमान नामीबिया में लोगों के खिलाफ नरसंहार किया था। 1904 और 1908 के बीच, जर्मन औपनिवेशिक लोगों ने, औपनिवेशिक शासन के खिलाफ विद्रोह करने के कारण हेरेरो और नामा जनजातियों के लोगों को मार डाला था। दोनों देशों के बीच पांच साल की बातचीत के बाद, जर्मनी ने नामीबिया में सामुदायिक परियोजनाओं की मदद के लिए एक अरब यूरो से अधिक की वित्तीय सहायता का वादा किया है।

5 (c) फ्रांस के राष्‍ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने 1994 में रवांडा नरसंहार में फ्रांस की भूमिका के लिए रवांडा से माफी मांगी है। इस नरसंहार में करीब आठ लाख जातीय तुतसी और उदारवादी हुतू समुदाय के लोग मारे गए थे। रवांडा की राजधानी किगाली में नरसंहार मेमोरियल पर आयोजित एक कार्यक्रम में मैक्रों ने कहा है कि फ्रांस ने नरसंहार की चेतावनी पर ध्‍यान नहीं दिया और सच्‍चाई की जांच को लेकर लंबे समय तक मौन बना रहा। रवांडा के राष्‍ट्रपति पॉल काग्‍मे ने कहा कि उनके शब्‍द माफी से अधिक महत्‍वपूर्ण है। इस वर्ष मार्च में फ्रांस के विशेषज्ञों के एक आयोग ने यह पाया था कि तत्‍कालीन राष्‍ट्रपति फ्रांसवा मित्रां ने नरसंहार के लिए भारी जिम्‍मेदारी स्‍वीकार की थी लेकिन माफी नहीं मांगी थी।

 

 

Related Posts

Leave a Reply