Follow Us On

दुर्घटना

कोझिकोड में विमान हादसा

चर्चा में क्यों?

  • केरल के कोझिकोड में 7 अगस्त 2020 को एक बड़ा विमान हादसा हुआ है। दुबई से कोझिकोड आ रहा एयर इंडिया एक्सप्रेस का विमान (IX-1344) कारीपुर एयरपोर्ट में उतरते समय टेबल टॉप रनवे से फिसलकर दुर्घटनाग्रस्त हो गया। हादसे में 21 लोगों की मृ्त्यु हो गई।
  • यह विमान दुबई से लौट रहा था और इसमें चालक दल समेत 190 यात्री सवार थे।

टेबल टॉप रनवे होता क्या है?

  • टेबल टॉप रनवे (table top runway) एक ऐसा रनवे होता है जो अमूमन पहाड़ी या पठारी जगहों पर बनाया जाता है। पहाड़ों पर समतल जगह कम होने के कारण ऐसी हवाई पट्टी बनाई जाती है जिसके आसपास कम ही जगह बचती है।
  • इसमें कई बार या तो एक ओर या फिर दोनों ही ओर गहरी ढलान या खाई हो सकती है जो बहुत गहरी भी हो सकती है।
  • भारत में ऐसे तीन रनवे हैं मंगलौर (कर्नाटक), कोझिकोड (केरल) और लेंगपुई (मिजोरम) इन तीनों ही जगहों पर टेबलटॉप रनवे है।

 
……………………………………………………………………………………………………………………………………….

राष्ट्रीय परिदृश्य

अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के लिए सबमरीन केबल कनेक्टिविटी

चर्चा में क्यों?

  • प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 10 अगस्त् 2020 को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से चेन्नई एवं पोर्ट ब्लेयर को जोड़ने वाली सबमरीन ऑप्टिकल फाइबर केबल (submarine Optical Fiber Cable (OFC) का उद्घाटन करेंगे।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • यह सबमरीन केबल पोर्ट ब्लेयर को स्वराज द्वीप (हैवलॉक), लिटल अंडमान, कार निकोबार, कामोर्टा, ग्रेट निकोबार, लॉन्ग आइलैंड और रंगट से भी जोड़ेगी।
  • इससे भारत के अन्य हिस्सों की तरह अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह को भी तेज मोबाइल और लैंडलाइन टेलीकॉम सेवाएं मिल पाएंगी। इस परियोजना की आधारशिला प्रधानमंत्री ने 30 दिसंबर 2018 को पोर्ट ब्लेयर में रखी गई थी।
  • यह परियोजना संचार मंत्रालय के दूरसंचार विभाग के अधीनस्‍थ सार्वभौमिक सेवा दायित्व निधि (Universal Service Obligation Fund (USOF) के माध्यम से भारत सरकार द्वारा वित्त पोषित है।
  • भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) ने इस परियोजना को कार्यान्वित किया, जबकि टेलीकम्‍युनिकेशंस कंसल्टेंट्स इंडिया लिमिटेड (TCIL) तकनीकी सलाहकार है।

सार्वभौमिक सेवा दायित्व निधि (USOF) क्या है?

  • सार्वभौमिक सेवा सहायता नीति 1 अप्रैल, 2002 से लागू हुई।
  • यूएसओएफ को सांविधिक दर्जा देने हेतु दिसम्बर 2003 में संसद के दोनों सदनों द्वारा भारतीय तार (संशोधन) अधिनियम, 2003 पारित किया गया।
  • इस निधि का प्रयोग केवल सार्वभौमिक सेवा दायित्व को पूरा करने के लिए किया जाएगा और इस में जमा राशि वित्त वर्ष की समाप्ति पर व्यपगत (Laps) नहीं होती।
  • इस निधि में धनराशि संसद के अनुमोदन से जमा कराई जाती है।
  • सार्वभौमिक सेवा दायित्व निधि की स्थापना ग्रामीण और दूर दराज के क्षेत्रों के लोगों तक किफायती एवं उचित कीमत पर मूलभूत दूर संचार सेवाओं को उपलब्ध कराने के उद्देश्य से की गई थी।
  • बाद में इसका विस्तार गांवों तक मोबाइल और ब्राडबैंड कनेक्टिविटी पहुंचाने के लिए कर दिया गया।

अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य

  • यह भारत का केन्द्रशासित प्रदेश है जिसकी राजधानी पोर्ट ब्लेयर है।
  • यह द्वीपसमूह भारत के पूर्वी तट पर बंगाल की खाड़ी में स्थित हैं और भारत की दक्षिण-पूर्वी सीमा बनाते हैं।
  • यह द्वीपसमूह अंडमान सागर से घिरा है और मलेशिया, म्याँमार, थाईलैंड, सिंगापुर तथा इंडोनेशिया जैसे कुछ दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों के नजदीक हैं।
  • अंडमान और निकोबार को 10 डिग्री चैनल ( Ten Degree Channel) द्वारा अलग किया जाता है जो लगभग 150 किमी. तक विस्तृत है।
  • यहां के ग्रेट निकोबार द्वीप में भारत की सबसे आदिम जनजाति शोम्पेंस (Shompens) का निवास स्थान है।
  • ग्रेट निकोबार में ही ग्रेट निकोबार बायोस्फीयर रिज़र्व (Great Nicobar Biosphere Reserve-GNBR) भी अवस्थित है जिसे यूनेस्को द्वारा बायोस्फीयर रिज़र्व्स के विश्व नेटवर्क के रूप में घोषित किया गया है।
  • इस बायोस्फीयर रिज़र्व में गैलाथिया नेशनल पार्क (Galathea National Park) और कैम्पबेल बे नेशनल पार्क (Campbell Bay National Park) शामिल हैं।

………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

समारोह/ सम्मेलन

उच्च शिक्षा सम्मेलन

चर्चा में क्यों?

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में घोषित नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति- 2020 से सम्बन्धित “ उच्च शिक्षा सम्मेलन” को संबोधित किया।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • राष्ट्रीय शिक्षा नीति में उच्च शिक्षा से सम्बन्धित प्रस्तावों को लेकर आयोजित ‘कॉन्क्लेव ऑन ट्रांसफॉर्मेशनल रिफॉर्म्स इन हायर एजुकेशन अंडर नेशनल एजुकेशन पॉलिसी’ का आयोजन मानव संसाधन विकास मंत्रालय (नया नाम शिक्षा मंत्रालय) और विश्वविद्यालय अनुदान आयोग – यूजीसी (नया नाम हायर एजुकेशन कमीशन ऑफ इडिया – HEIC) द्वारा संयुक्त रूप से किया गया।

………………………………………………………………………………………………………………………………………….

अंतर्राष्ट्रीय परिदृश्य

सुनामी तैयारी को लागू करने वाला 50 देशों में पहला राज्य बना ओडिशा

चर्चा में क्यों?

  • प्राकृतिक आपदा संचालन क्षेत्र में ओडिशा को अन्तर्राष्ट्रीय स्वीकृति मिली है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • यूनेस्को के इण्टरगर्वमेंट ओसेनोग्राफी कमीशन (Intergovernmental Oceanographic Commission (IOC) ओडिशा के जगतसिंहपुर जिला नोलिया साही एवं गंजाम जिले के वेंकटरायपुर गांव को देश में पहली बार सुनामी के लिए तैयारी (Tsunami Ready) गांव के तौर पर घोषित किया है।
  • इन दोनों गांव को केन्द्र सरकार के भू वैज्ञानिक मंत्रालय के राष्ट्रीय बोर्ड बैठक में अनुमोदन कर यूनेस्को की स्वीकृति के लिए भेजा गया था। 2020 फरवरी में इन दोनों गांवों का यूनेस्को की 7 सदस्यीय टीम ने दौरा कर सुनामी की तैयारी की जानकारी ली थी।
  • बोर्ड की तरफ से भेजे गए इस प्रस्ताव को वीरवार को यूनेस्को-आईओसी ने स्वीकृति प्रदान की है।
  • यह गौरव पाने वाला ओडिशा देश का पहला राज्य बना है।
  • इस मान्यता के साथ, भारत हिंद महासागर क्षेत्र में ‘सुनामी रेडी’ को लागू करने वाला पहला देश और ओडिशा पहला राज्य बन गया है।

कार्यक्रम का उद्देश्य

  • सुनामी रेडी कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य, सुनामी के दौरान आपातकालीन स्थितियों से निपटने हेतु तटीय समुदाय की तैयारियों में सुधार लाना है।
  • सुनामी रेडी कार्यक्रम की जांच करने के लिए भू वैज्ञानिक मंत्रालय की तरफ से एक भारतीय बोर्ड का गठन किया गया है।
  • इस बोर्ड में इंडियन नेशनल सेंटर फार ओसन इनफार्मेशन सेंटर (INCOIAC) के निदेशक अध्यक्ष है जबकि गृह मंत्रालय, , राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (National Disaster Management Authority- NDMA),ओएसडीएमए, अंडमान निकोबार आईलैण्ड डायरेक्टरेट आफ डिजास्टर मैनेजमेंट से सदस्य हैं।

UNESCO-IOC

  • UNESCO का अंतर-सरकारी समुद्र विज्ञान आयोग (UNESCO Intergovernmental Oceanographic Commission- IOC) संयुक्त राष्ट्र के अंतर्गत समुद्री विज्ञान के प्रति समर्पित एक मात्र सक्षम संगठन है।
  • इसकी स्थापना वर्ष 1960 में UNESCO के कार्यकारी स्वायत्त निकाय के रूप में की गई थी।
  • इसने 26 दिसंबर, 2004 को आई सुनामी के बाद ‘भारतीय समुद्र सुनामी चेतावनी और शमन व्यवस्था’ (Indian Ocean Tsunami Warning and Mitigation System- IOTWMS) की स्थापना में मदद की थी।

भारतीय राष्ट्रीय महासागर सूचना सेवा केंद्र

  • INCOIS, भारतीय सुनामी प्रारंभिक चेतावनी केंद्र (Indian Tsunami Early Warning Centre- ITEWC) की भारत को सुनामी संबंधित सलाह/सूचना देने हेतु नोडल एजेंसी है।
  • INCOIS की स्थापना वर्ष 1999 में पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के अंतर्गत एक स्वायत्त निकाय के रूप में की गई थी और यह पृथ्वी प्रणाली विज्ञान संगठन की एक इकाई है।

……………………………………………………………………………………………………………………………………………

श्रीलंका में संसदीय चुनाव

चर्चा में क्यों?

  • श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने देश के संसदीय चुनाव में अपनी पार्टी की बड़ी जीत की घोषणा की है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • श्रीलंका के आम चुनावों में राजपक्षे परिवार के श्रीलंका पीपुल्स फ़्रंट (SLPP) ने दो-तिहाई बहुमत से जीत हासिल की है।
  • पार्टी ने कुल 225 में से 145 सीटें जीती हैं। साथ ही पाँच सीटें श्रीलंका पीपुल्स फ़्रंट की सहयोगी पार्टियों को मिली हैं।
  • श्रीलंका में एसएलपीपी ने 9 महीने पहले राष्ट्रपति चुनाव भी जीता था जिसके बाद गोटबाया राजपक्षे ने 18 नवंबर 2019 को राष्ट्रपति पद की शपथ ली थी।
  • संभावना है कि अब राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे अपने भाई और पूर्व राष्ट्रपति औऱ वर्तमान में कार्यवाहक प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे को देश का नया प्रधानमंत्री नियुक्त करेंगे।

भारत पर प्रभाव

  • महिंदा राजपक्षे की पार्टी को शुरुआत से ही चीन की करीबी माना जाता रहा है।
  • चीन लगातार हिन्द महासागर में अपनी पैठ तेज कर रहा है, साथ ही कई मोर्चों पर भारत को घेरने की योजना बना रहा है।
  • इसी तरह चीन ने बंदरगाहों के रास्ते श्रीलंका में निवेश बढ़ाया है।चीन के इसी निवेश के लालच में आकर राजपक्षे बंधुओं की सरकार ने भारत-ऑस्ट्रेलिया-जापान-अमेरिका से संबंध वाले कई प्रोजेक्टों से किनारा किया, हिन्द महासागर में चीन को अपनी ओर आने की इजाजत दी।
  • श्रीलंका भी लगातार कर्ज के तले दबता जा रहा है और कुल कर्ज का करीब दस फीसदी हिस्सा चीन से ही है।
  • हालांकि, राष्ट्रपति गोटबाया ने बार-बार यह पुष्टि की है कि श्रीलंका प्रमुख शक्तियों के मध्य प्रतिद्वंद्विता में फँसना नहीं चाहता और इसीलिये वह तटस्थता की नीति का पालन करेगा।

………………………………………………………………………………………………………………………………………………

निधन

सादिया देहलवी

  • एक्टिविस्ट, फिल्ममेकर, प्रोड्यूसर व अभिनेत्री सादिया देहलवी का निधन हो गया है।
  • 63 साल की सादिया देहलवी लंबे समय से कैंसर से जूझ रही थीं।
  • सादिया देहलवी ने 2017 में दिल्ली के इतिहास पर एक किताब जैस्मिन एंड जिन्स: यादें और रेसिपी की मेरी दिल्ली(Jasmine & Jinns: Memories and Recipes of My Delhi) पुस्तक लिखी थी।

Related Posts

Leave a Reply