Follow Us On

Daily Current Affairs 21 September 2020

भारत एवं विश्व

सिंधु जल संधि के 60 वर्ष

चर्चा में क्यों?

  • 19 सितंबर 2020 को  भारत और पाकिस्तान के बीच वर्ष 1960 में लागू की गई सिंधु जल संधि (Indus Waters Treaty) के 60 वर्ष पूरे हो गए हैं।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • संधि पर पाकिस्तान के राष्ट्रपति अयूब ख़ान के साथ कराची में भारत के प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने हस्ताक्षर किए थे।
  • सिंधु जल संधि के तहत सिंधु नदी घाटी की नदियों को पूर्वी और पश्चिमी नदियों में विभाजित किया गया है।
  • सिंधु, झेलम और चेनाब को पश्चिमी नदियां बताते हुए इनका पानी पाकिस्तान के लिए तय किया गया।
  • जबकि रावी, ब्यास और सतलज को पूर्वी नदियां बताते हुए इनका पानी भारत के लिए तय किया गया।
  • संधि के अनुसार भारत पूर्वी नदियों के पानी का, कुछ अपवादों को छोड़कर, बेरोकटोक इस्तेमाल कर सकता है।
  •  वहीं पश्चिमी नदियों के पानी के इस्तेमाल का कुछ सीमित अधिकार भारत को भी दिया गया था। जैसे बिजली बनाना (रन ऑफ द रीवर तकनीक से), कृषि के लिए सीमित पानी का उपयोग।
  • संधि के तहत सिंधु आयोग भी स्थापित किया गया जिसके तहत दोनों देशों के कमिश्नरों के मिलने का प्रस्ताव है। इसकी समय-समय बैठकें होती रहती है।

……………………………………………………………………………………………………………………………………………

स्वास्थ्य एवं पोषण

आयुष तथा महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर

चर्चा में क्यों?

  • पोषण अभियान के तहत कुपोषण को नियंत्रित करने के लिए आयुष मंत्रालय और महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के बीच एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए।
  • इसके तहत कुपोषण को नियंत्रित करने के लिए समय पर खरे उतरे और वैज्ञानिक रुप से सिद्ध आयुष आधारित समाधानों पर काम किया जाएगा।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • आयुष मंत्रालय के सचिव वैद्य राजेश कोटेचा और महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के सचिव  राम मोहन मिश्रा ने समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।
  • समझौता ज्ञापन के तहत आयुष और महिला एंव बाल विकास मंत्रालय आयुर्वेद, योग और अन्य आयुष प्रणालियों  के माध्यम से पोषण अभियान में आयुष को एकीकृत करने और कुपोषण के प्रबंधन के लिए मिलकर काम करेंगे।
  • “पोषण अभियान” या राष्ट्रीय “पोषण मिशन” भारत सरकार के महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के तहत बच्चों, गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं के लिए पोषण परिणामों में सुधार करने के लिए चलाया गया भारत सरकार का प्रमुख कार्यक्रम है।
  • इसके अलावा निकट भविष्य में प्रत्येक आंगनवाड़ी में न्यूट्री-गार्डन और औषधीय उद्यान स्थापित किए जाएंगे।

………………………………………………………………………………………………………………………………………………

दिन/दिवस

विश्व शांति दिवस

चर्चा में क्यों?

  • विश्व शांति दिवस हर साल 21 सितम्बर को मनाया जाता है।

महत्व बिंदु

  • यह दिवस मुख्य रूप से पूरी पृथ्वी पर शांति और अहिंसा स्थापित करने के लिए मनाया जाता है।
  • 1982 से इस दिन की शुरुआत हुई थी। तब से 2001 तक इसे हर साल सितम्बर महीने के तीसरे मंगलवार को मनाया जाता था।
  •  2002 में यूएन ने इसे 21 सितम्बर का मनाने की घोषणा की। इस दिन सफेद कबूतरों को खुले आसमान में उड़ाकर शांति का संदेश दिया जाता है।
  • हर साल यूएन इस दिन के लिए एक थीम जारी करता है। इस साल की थीम ‘Climate Action for

Peace’ है।

………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

नियुक्ति / निर्वाचन

बिश्वरूप बसु

  • बिश्वरूप बसु को इंस्टीट्यूट ऑफ कॉस्ट एकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (ICWAI) का अध्यक्ष चुना गया है जबकि पी राजू अय्यर उपाध्यक्ष होंगे।
  • संसद के कानून से गठित सांवधिक निकाय का मुख्यालय कोलकाता में है।
  • ICWAI भारत की प्रमुख लेखांकन संस्था है जो लागत लेखा के व्यवसाय को आगे बढाने, नियंत्रित करने एवं विकसित करने का कार्य करती है।

………………………………………………………………………………………………………………………………………………

चर्चित व्यक्तित्व

एच.डी. देवगौड़ा

चर्चा में क्यों?

  • पूर्व प्रधानमंत्री और जनता दल-सेक्युलर (Janata Dal-Secular) के नेता एचडी देवगौड़ा ने 20 सितंबर 2020 राज्यसभा सदस्य के रूप में शपथ ली।
  • 13 जून 2020 को पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा को कर्नाटक से राज्यसभा के लिए निर्विरोध चुना गया।
  • एचडी देवगौड़ा 1994 से 1996 तक कर्नाटक के मुख्यमंत्री रहे।
  • वह 1996 के आम चुनावों के बाद संयुक्त मोर्चा सरकार का नेतृत्व कर देश के 11वें प्रधानमंत्री बने।

निर्विरोध निर्वाचित हुए थे पूर्व पीएम

  • जून माह में चुनाव मैदान में कोई और प्रत्याशी न होने के कारण जनता दल (एस.) के मुखिया एच.डी. देवगौड़ा, कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे और भाजपा के दो कार्यकर्ता अशोक गस्ती और इरन्ना कडाडी राज्यसभा के लिए निर्विरोध निर्वाचित हुए थे।

……………………………………………………………………………………………………………………………………………… चर्चित स्थल

मुगल संग्रहालय

चर्चा में क्यों?

  • हाल ही में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आगरा में निर्माणाधीन मुगल संग्रहालय का नाम छत्रपति शिवाजी महाराज के नाम पर रखने की घोषणा है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • आगरा में हेरिटेज सेंटर और ताज ओरिएंटेशन सेंटर जैसी परियोजनाओं के साथ मुगल संग्रहालय की आधारशिला तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने जनवरी 2016 में रखी थी।
  •  ताजमहल के पूर्वी द्वार के पास लगभग 6 एकड़ भूमि पर बनने वाले इस संग्रहालय का निर्माण मुख्य तौर पर मुगलों के समय के हथियारों, संस्कृति और पोशाक के बारे में पर्यटकों को अवगत कराने के लिये किया जा रहा है।

…………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

समारोह/सम्मेलन

ब्रिक्स संचार मंत्रियों की छठवीं बैठक

चर्चा में क्यों?

  • 17 सितंबर, 2020 को ब्रिक्स संचार मंत्रियों की छठवीं बैठक वर्चुअल रूप में आयोजित की गई।
  • ब्रिक्स (BRICS) दुनिया की अग्रणी उभरती अर्थव्यवस्थाओं- ब्राज़ील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका के समूह के लिये प्रयोग होने वाला एक संक्षिप्त रूप है, जिसमें B-Brazil, R-Russia, I-India, C-China और S-South Africa से संबंधित है।
  • शुरुआती दौर में दक्षिण अफ्रीका इस समूह का हिस्सा नहीं था और यह केवल 4 देशों का समूह था जिसे ब्रिक (BRIC) कहा जाता था, उल्लेखनीय है कि पहला ब्रिक शिखर सम्मेलन वर्ष 2009 में रूस में आयोजित किया गया था।
  • दिसंबर 2010 में दक्षिण अफ्रीका को ब्रिक (BRIC) में शामिल होने के लिये आमंत्रित किया गया, जिसके बाद दक्षिण अफ्रीका ने चीन में आयोजित तीसरे शिखर सम्मेलन में हिस्सा लिया और  समूह ने संक्षिप्त रूप ब्रिक्स (BRICS) को अपनाया।

Related Posts

Leave a Reply