Follow Us On

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा हाल ही में जारी एक सर्वे में यह अनुमान लगाया गया है कि कोरोना वायरस महामारी के कारण से उपभोक्ता का विश्वास पूरी तरह डगमगा चुका है और इससे चालू वित्त वर्ष 2020-21 में अर्थव्यवस्था में 1.5 प्रतिशत की गिरावट आ सकती है।

  • भारतीय रिजर्व बैंक के उपभोक्ता विश्वास सर्वे ( Consumer Confidence Index (CCI) में कहा गया है, ‘‘मई, 2020 में उपभोक्ताओं का भरोसा पूरी तरह टूट चुका था।
  • रिजर्व बैंक के अनुसार वर्तमान स्थिति सूचकांक (Current Situation Index, CSI ) ऐतिहासिक निचले स्तर पर है और अगले
  • एक साल का भविष्य की उम्मीदों का सूचकांक (Future Expectations Index, FEI) में भी तेज गिरावट दर्ज की गई है और यह निराशा के दौर में चले गए हैं।
  • रिजर्व बैंक द्वारा प्रायोजित ‘प्रोफेशनल फोरकास्टर्स’ (RBI Professional Forecasters Survey) के सर्वे में कहा गया है कि वास्तविक जीडीपी में 2020-21 में 1.5 प्रतिशत की गिरावट आएगी। हालांकि, अगले वित्त वर्ष में यह वृद्धि की राहत पर लौटेगी और इसमें 7.2 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज होगी।
  • सर्वे में कहा गया है कि वास्तविक निजी अंतिम उपभोग व्यय (PFCE) में चालू वित्त वर्ष में 0.5 प्रतिशत की गिरावट आएगी। हालांकि, अगले वित्त वर्ष में इसमें 6.9 प्रतिशत की वृद्धि की उम्मीद है।
  • सर्वे में कहा गया है कि वास्तविक सकल निश्चित पूंजी सृजन (Gross Fixed Capital Formation, GFCF) में 2020-21 में 6.4 प्रतिशत की गिरावट आएगी। हालांकि अगले वित्त वर्ष 2021-22 में इसमें 5.6 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज होगी।

Leave a Reply