Follow Us On

नार्वे के लिए जहाजों का निर्माण करेगा कोचीन शिपयार्ड लिमिटेड

चर्चा में क्यों?

  • सार्वजनिक क्षेत्र का उपक्रम कोचीन शिपयार्ड लिमिटेड (Cochin Shipyard Limited (CSL), कोच्चि ने एएसकेओ मैरीटाइम एएस, नॉर्वे के लिए दो जहाजों के निर्माण और आपूर्ति के अनुबंध पर हस्ताक्षर किए। इसमें दो अन्य इलेक्ट्रिक जहाज़ों (फेरी)के निर्माण का भी विकल्प है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • सीएसएल भारत का सबसे बड़ा व्यावसायिक जहाज़ निर्माता है। कंपनी ने यह प्रतिष्ठित निर्यात ऑर्डर, नॉरगेसग्रूपेन एएसए के सहायक समूह एएसकेओ मैरीटाइम एएस से प्राप्त किया है।
  • यह विद्युत पोत परियोजना नॉर्वे की एक महत्वाकांक्षी परियोजना है, जिसे आंशिक रूप से नार्वे सरकार द्वारा वित्त पोषित किया गया है। इसका उद्देश्य ओस्लो में माल ढुलाई के लिए उत्सर्जन-मुक्त परिवहन की व्यवस्था करना है।
  • एक बार संचालन में आने के बाद, यह पोत शून्य कार्बन उत्सर्जन ( Zero Carbon Emission) के साथ दुनिया के व्यावसायिक शिपिंग के क्षेत्र में एक नया मानदंड (बेंचमार्क) स्थापित करेगा।
  • सीएसएल ने विभिन्न वैश्विक शिपयार्डों के विस्तृत मूल्यांकन के बाद और कंपनी को दिए गए मूल्य प्रस्ताव के आधार पर यह निर्यात आदेश प्राप्त किया।
  • सीएसएल पहले से ही कोच्चि वाटर मेट्रो के लिए 23 हाईब्रिड इलेक्ट्रिक नौकाओं का निर्माण कर रहा है।
  • इस परियोजना से सीएसएल को पूरी दुनिया में एक प्रीमियर शिपबिल्डिंग यार्ड के रूप में जाना जायेगा जिसके पास उच्च तकनीक वाले पोत निर्माण की क्षमता है।.

कोचीन शिपयार्ड लिमिटेड

  • शिपिंग क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए इसकी स्थापना 1972 में भारत सरकार ने की थी।
  • यह शिपयार्ड 1,10,000 DWT क्षमता के शिप का निर्माण और 1,25,000 DWT शिप की मरम्मत कर सकता है।
  • यार्ड ने टैंकर, बल्‍क कैरियर, पोर्ट क्राफ्ट, ऑफशोर पोत तथा यात्री जहाज़ सहित विभिन्‍न प्रकार के जहाज़ बनाए हैं।

Related Posts

Leave a Reply