Follow Us On

ब्लैकरॉक मैलवेयर

चर्चा में क्यों?

  • इन दिनों एक ऐसा स्कैम सामने आया था जिसमें कि एप्लिकेशन अपडेट के जरिए आपका निजी डाटा भी चुराया जा सकता था।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • इस एंड्ऱॉइड मैलवेयर स्कैम (Android Malware Scam) के जरिए टिंडर, जीमेल और नेटफ्लिक्स सहिच 337 से अधिक लोकप्रिय ऐप से आपका डाटा चुराया जा सकता था।
  • इस मैलवेयर ने कुल 337 एंड्रॉयड एप्स को शिकार बनाया है।
  • बैंकिंग डाटा चोरी करने वाले इस नए एंड्रॉयड मैलवेयर का नाम BlackRock है।
  • इसके बारे में सबसे पहले मोबाइल सिक्योरिटी फर्म थ्रैट फैबरिक ने जानकारी दी थी।
  • BlackRock मैलवेयर भी किसी आम मैलवेयर की तरह ही डाटा चोरी करता था।
  • मैलवेयर जिस तकनीक से डाटा चोरी करता था उसे ऑवरलेज कहा जाता है।
  • इस तकनीर के तहत मैलवेयर वाले एप्स एक फर्जी वेब पेज पर यूजर्स से लॉगिन करवाते हैं, जबकि यूजर उसे असली पेज समझता है।
  • यह मैलवेयर यूजर से मैसेजिंग, कैमरा, गैलेरी आदि का एक्सेस लेता था। यह मैलवेयर यूजर को फर्जी गूगल अपडेट का नोटिफिकेशन भी देता था।

क्या होता है मैलवेयर?

  • “मैलवेयर” कंप्यूटर को नुकसान पहुंचाने के उद्देश्य से तैयार किया जाने वाला एक प्रकार का सॉफ़्टवेयर है।
  • मैलवेयर आपके कंप्यूटर से संवेदनशील जानकारी चुरा सकता है, धीरे-धीरे आपके कंप्यूटर को धीमा कर सकता है या आपकी जानकारी के बिना आपके ईमेल खाते से जाली ईमेल भी भेज सकता है।

मैलवेयर के कुछ सामान्य प्रकार

  • वायरस: एक हानिकारक कंप्यूटर प्रोग्राम है, जो स्वयं की कॉपी बनाकर किसी कंप्यूटर को संक्रमित कर सकता है।
  • वर्म: एक दुर्भावनापूर्ण कंप्यूटर प्रोग्राम है, जो किसी नेटवर्क के माध्यम से दूसरे कंप्यूटर पर अपनी कॉपी भेजता है।
  • स्पायवेयर: लोगों की जानकारी के बिना उनकी जानकारी संग्रहीत करने वाला मैलवेयर।
  • ऐडवेयर: कंप्यूटर पर स्वतः विज्ञापन चलाने, दिखाने या डाउनलोड करने वाला सॉफ़्टवेयर।
  • ट्रॉजन हॉर्स: एक ऐसा हानिकारक प्रोग्राम जो उपयोगी ऐप्लिकेशन जैसा दिखता है, लेकिन यह आपके कंप्यूटर को नुकसान पहुंचाता है या इंस्टॉल किए जाने के बाद आपकी जानकारी की चोरी करता है।

Related Posts

Leave a Reply