Follow Us On

स्टील उत्पादों पर एंटी-डंपिंग ड्यूटी

चर्चा में क्यों?

  • भारत सरकार ने चीन, दक्षिण कोरिया और वियतनाम से आयात होने वाले कुछ स्टील उत्पादों पर एंटी-डंपिंग ड्यूटी ( Anti-dumping duty) लगा दी है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • भारत ने चीन, दक्षिण कोरिया और वियतनाम से आयात होने वाले कुछ स्टील उत्पादों पर एंटी-डंपिंग ड्यूटी लगा दी है। इसका कारण इन उत्पादों के आयात से घरेलू उत्पादों को नुकसान होना है।
  • इसके तहत वित्त मंत्रालय के राजस्व विभाग के एक आदेश में कहा गया है कि अक्टूबर 2019 में इन उत्पादों पर लगाई गई प्रोविजनल एंटी-डंपिंग ड्यूटी इस साल अप्रैल में खत्म हो गई थी। इसलिए अब 23 जून से शुरू हुई एंटी-डंपिंग ड्यूटी पिछले साल अक्टूबर से शुरू होने वाले पांच वर्षों के लिए लागू होगी।

एंटी-डंपिंग ड्यूटी क्या है?

  • अंतर्राष्ट्रीय मूल्य भेदभाव की स्थिति को डंपिंग कहलाती है।
  • डंपिंग में कोई देश अपने घरेलू बाजार से कम कीमत में विदेशी बाजारों में अपने उत्पाद बेचने लगता है।
  • एंटी-डंपिंग शुल्क डंपिंग को रोकने और अंतर्राष्ट्रीय व्यापार व्यवस्था में समानता स्थापित करने के लिये लगाया जाता है।
  • डंपिंग अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के लिये हानिकारक होने के साथ ही उस वस्तु के घरेलू बाजार को भी नकारात्मक रूप से प्रभावित करती है।
  • एंटी-डंपिंग शुल्क लागू होने की तिथि से 5 वर्ष के लिये वैध होता है। यह अवधि पूरी होने पर इसे WTO के डंपिंग रोधी समझौते (Anti-Dumping Agreement) के अनुच्छेद 11.3 के अनुसार सनसेट समीक्षा के पश्चात् पाँच साल के लिये और बढ़ाया जा सकता है।

Related Posts

Leave a Reply